Saturday, December 3, 2022

एक दिव्यांग किसान ने शिमला मिर्च की खेती कर बदल डाली अपनी किस्मत, 1 करोड़ की कमाई कर रचा इतिहास

हमारे समाज में ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपनी शारीरिक असक्षमता को अपनी बदनसीबी मानकर रोना रोते हैं और लोगों की ताने सुनते है। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो ज़िंदगी में आए हर विषमताओं का सामना डंटकर करते हैं और शारीरिक रूप से अक्षमता होने के बावजूद भी कोई ऐसा कार्य करते हैं जिससे लोगों का मुंह बंद हो जाता है। वह सफलता की ऐसी इबारत लिखते हैं जो अन्य लोगों के लिए सबक होने के साथ प्रेरणाप्रद भी होता है।

अगर आपको यह लगता है कि ये सारी बातें सिर्फ किताबों और लेखों में ही अच्छी लगती है और इसका हमारे रियल लाइफ से कोई ताल्लुक नहीं तो आपकी ये सोंच बिल्कुल गलत है। आज के हमारे इस लेख द्वारा आप एक ऐसे दिव्यांग युवा से रू-ब-रू होंगे जिनकी वार्षिक टर्नओवर 1 करोड़ रुपए है वो भी खेती से। उनके इस खेती में उनकी दिव्यांग मां-बहन भी उनका भरपूर सहयोग करती हैं। -Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh

शारीरिक रूप से हैं दिव्यांग

करोड़ों के लिए प्रेरणाप्रद बनने वाले आलोक कुमार (Aalok Kumar) उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) के इटावा के निवासी हैं। वे एक गरीब परिवार से होने के साथ दिव्यांग की मार भी झेल रहे हैं। आज उनकी उम्र 30 वर्ष की और इस उम्र के पड़ाव में उन्होंने अनेकों कठिनाइयों का प्रत्यक्ष रूप से सामना किया है। वित्तिय स्थिति कमजोर होने के कारण उन्हें लोगों के ताने भी सुने। उन्होंने खेती किसानी से अपनी किस्मत लिखी जो उनकी मेहनत द्वारा निखारा गया। -Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh

यह भी पढ़ें:-अब लाल पत्तागोभी की खेती से किसान होंगे मालमाल, जानें अधिक मांग की जानेवाली लाल पत्तागोभी की खेती करने के तरीके

मां और बहन भी हैं शारीरिक रूप से असक्षम

गरीब परिवार से ताल्लुक रखने के कारण संपत्ति के नाम पर उनके पास 5 बीघा जमीन थी उन्होंने अपने परिश्रम के बदौलत यहां इस जमीन में सोना उगाने का निश्चय कर लिया। आपको यह जानकर बहुत दुख होगा कि आलोक बचपन से ही पोलियो ग्रसित है और उनके घर में उनकी मां और बहन दिव्यांग है। ऐसे में उनका सहारा एक मात्र पिता ही थे जो उनकी आजीविका खेती के सहारे चलाया करते थे। उनके पिता परम्परागत खेती करते थे जिसमें उन्हें लाभ नहीं मिल रहा था। -Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh

शुरू की खेती लेकिन हुए असफल

अब उन्होंने एक क्यारी में शिमला मिर्च की बुआई की जो उनके लिए बहुत बड़ी चुनौती थी क्योंकि एक तो वह दिव्यांग थे और दूसरी खेती के विषय में उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं थी। उन्होंने चुनैतियों को स्वीकार किया हालांकि शुरुआती दौर में उन्हें असफलता मिली परंतु उन्होंने अपनी असफलता से बहुत कुछ सीखा और आगे शिमला मिर्च की खेती में सफलता की इबारत लिखने में कामयाब हुए। -Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh

यह भी पढ़ें:-गाय के गोबर से 56 अलग-अलग प्रकार के उत्पाद बनाती है यह महिला, 100 से अधिक परिवारों को रोजगार भी दिया

खेती में असफल होने के बावजूद भी उन्होंने एक बार पुनः शिमला मिर्च की बुआई की। लेकिन इस बार वह पूरी तरह एक्सपर्ट हो चुके थे उन्होंने इंटरनेट से वह सारी जानकारी एकत्रित कर ली थी जो कि शिमला मिर्च की खेती में उपयोग किया जाता है। अब वह इस स्थिति में सफलता हासिल कर अच्छा पैसा कमा लिये। -Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh

कमाते हैं करोड़ो रूपये

इस बार खेती में सफलता मिलने के बाद उन्होंने 40 बीघा जमीन लीज पर ली और शिमला मिर्च की बुआई की। वह अपने खेतों में जैविक उर्वरक का उपयोग करते हैं जिस कारण उनके शिमला मिर्च का डिमांड बढ़ता जा रहा है। शारीरिक तौर पर असक्षम होने के बावजूद भी वह अपने शिमला मिर्च की खेती से हर वर्ष करोड़ों रुपए कमा रहे हैं। –Capsicum Cultivation by Aalok Kumar from Uttar Pradesh