Tuesday, September 28, 2021

खुद चौथी पास, लेकिन परिवार के 11 सदस्यों को IAS, IPS से लेकर बड़े पदों का अधिकारी बना दिया

हर भारतीय युवा का सपना होता है IAS, IPS और IFS जैसे गौरवान्वित पद हासिल करने का। हमारे यहां के किसी परिवार में कोई बच्चा IAS तथा IPS अफसर बन जाता है तो उस परिवार के लोग तथा उस बच्चे के माता-पिता को खुद पर गर्व होने लगता है। ऐसे ही आज एक परिवार के बारे में हम आपको बताने जा रहे है, जिस परिवार के 11 सदस्य IAS, IPS तथा अन्य अधिकारी के पद को संभाले हुए है।

एक ऐसा परिवार जिसमे 11 सदस्य है अधिकारी

हरियाणा (Hariyana) के जींद जिले में एक गांव डूमरखां कलां में एक ऐसा परिवार रहता है, जिस परिवार के 11 सदस्य अधिकारी पद पर है। इन पदों में आईएएस तथा आईपीएस जैसे गौरवान्वित पद भी शामिल है।

family of Chaudhary Basant Singh Shyokand

घर के मुखिया ने देखा था सपना कि घर के सभी बच्चे बने बड़े अफसर

हरियाणा के जींद जिले में रहने वाला इस परिवार के मुखिया चौधरी बसंत सिंह श्योकंद (Chaudhary Basant Singh Shyokand) का सपना था कि इस घर के बच्चे बड़े-बड़े अफसर बनें। चौधरी बसंत सिंह मात्र चौथी पास थे लेकिन इन्होंने अपने सपने को साकार करने के लिए इन बच्चों को पढ़ाने के लिए बहुत मेहनत किया हालांकि बच्चों ने पढ़-लिख कर इनके मेहनत को व्यर्थ नही जाने दिया तथा इनके सपने को साकार किया। आज इस परिवार के 11 सदस्य अफसर पद पर है।

यह भी पढ़ें :- जानिए एक IAS और IPS अफसर में कौन कितना पावरफुल, किसकी शक्ति अधिक होती है

परिवार के 11 सदस्य है अधिकारी पद पर तैनात

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बसंत सिंह के बड़ा बेटा राजकुमार श्योकंद एक कॉलेज के रिटायर्ड प्रोफेसर है और उनका बेटा यशेंद्र एक IAS अफसर है तथा उनकी बेटी स्मृति चौधरी अम्बाला में रेलवे एसपी पद पर है। इसप्रकार बसंत सिंह के दूसरे बेटे कॉन्फ़्रेंड में जीएम थे और उनकी पत्नी डिप्टी डीईओ थी। इसी प्रकार परिवार के कई सदस्य अधिकारी पद पर तैनात है।

Chaudhary Basant Singh Shyokand
Chaudhary Basant Singh

इसी साल (2021) में चौधरी बसंत सिंह श्योकंद (Chaudhary Basant Singh Shyokand) का हुआ निधन

99 वर्ष के उम्र में चौधरी बसंत सिंह श्योकंद (Chaudhary Basant Singh Shyokand) का निधन इसी साल मई माह में हुआ। बसंत सिंह भले ही अपनी पढ़ाई चौथी तक किये थे लेकिन उन्होंने अपने परिवार में 11 लोगों को अफसर बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने अपने परिवार के लिए जो परिश्रम किया है उनका परिवार हमेशा उनको एक प्रेरणा के रूप में याद करेगा। उनके इस अधिकारी परिवार पर पूरे देश को गर्व महसूस होता है।