Wednesday, September 28, 2022

पूर्व मिसेज इंडिया आज थैलेसीमिया से पीड़ित सैंकड़ों बच्चों की कर रहीं मदद, संवार रहीं उनकी जिंदगी

मेहनत कभी खाली नहीं जाती अगर आप लगन के साथ मेहनत करते हैं तो आखिरकार उसमें सफलता जरुर प्राप्त होती है। अगर आप अपने सपने को पूरा करना चाहते हैं और उस लक्ष्य तक पहुंचना चाहते हैं तो आपको उस काम में लगन के साथ मेहनत जरुर करनी पड़ेगी। अगर किसी भी काम को मन से और मेहनत से किया जाता है तो अंततः सफलता जरूर हासिल होती है।

आज हम आपको एक ऐसे ही कहानी के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपने सपने को साकार करने के लिए लग्न के साथ काफी मेहनत की जिससे उन्हें आखिरकार 40 वर्ष से ज्यादा की उम्र में मिसेज इंडिया वर्ल्ड नाम का खिताब पाई और आज अपने सपनों की उड़ान को पूरा कर रही हैं। हम आज बात करेंगे मिसेज इंडिया वर्ल्ड और ग्लैमर वर्ल्ड के अंजुम खान की जिन्होंने अपने सपने की उड़ान को साकार कर आज वह एक सफल वूमेन बन गई है।

  • अंजुम खान

अंजुम खान महाराष्ट्र के नासिक जिले के रहने वाली हैं। यह थैलेसीमिया पीड़ित बच्चियों को मदद करने का काम करती हैं। परंतु इसके साथ-साथ ये अपने जिंदगी में कुछ अलग ही करने का सोच रखा था। अंजुम बताती हैं कि अगर कोई औरत किसी भी काम को करने की ठान ले तो उस काम को अवश्य कर सकती है। प्रत्येक महिलाएं अपने लिए जन्म से ही ग्लैमर होती हैं। अपनी खुद की दुनिया काफी खूबसूरत और शानदार होती है परंतु इसके लिए उन्हें खुद को समझने के लिए समय देने की काफी जरुरत है जिससे वो खुद के अंदर की खूबसूरती को पहचान सके। इसके लिए उन्हें एक प्लेटफार्म मिलने की जरुरत होती है।

Miss. India World Anjum Khan Helping Thalassemia Affected Children

मैं अपने सपनों को साकार करने के लिए अपने करियर की शुरुआत मुंबई से करना चाहती थी परंतु मुझे मौका नहीं मिला। हम अपने सपने को साकार करने के लिए काफी मेहनत और प्रयास करते रहे। हमने जो सपने देखे थे उससे हमारे अंदर एक अजीब सी बेचैनी पैदा हो रही थी। जिसके बाद हम ग्लैमर की दुनिया में चली गई जिससे हमारे सपने पूरा हो सके। उसे पूरा करने के लिए मुझे ग्लैमर की दुनिया में चली गई। जिसके बाद हमने बखूबी से अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए अपनी हर सपने को पूरा किया। जो मुझे डेजल इंडिया ने मौका दिया और आज हमने उस कामयाबी तक पहुंच पाए जिसके लिए हमने सपने संजोए थे।

  • प्रतियोगिता में आने से पहले की तैयारी

अंजुम बताती हैं कि जब इसे मिसेज इंडिया वर्ल्ड कंपटीशन के बारे में पता चला तो मुझे इसके लिए पहले से कोई तैयारी नहीं की थी परंतु हमारे अंदर एक विश्वास बना हुआ था कि हम इस मिसेज इंडिया वर्ल्ड कंपटीशन को अवश्य जीत लूंगी। मेरा यही विश्वास मेरा हथियार बना और हमने मिसेज इंडिया वर्ल्ड कंपटीशन में भाग लेकर के कंपटीशन को जीत लिया। मेरी ख्वाहिश यह भी थी कि हम महिलाओं के लिए कुछ करें। जो महिलाएं अपने हालात के दबाव से सपने को साकार नहीं कर पातीं। इसलिए हमने महिलाओं के बारे में सोचा और उनके लिए कुछ अलग करने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें:-चाय के साथ इस दुकान पर पढें मुफ्त में किताब, 4 दोस्तों ने अलग सोच के साथ किया शुरुआत

  • एनजीओ की शुरुआत

अंजुम बताती हैं कि हम साल 2009 में देवास हेल्थ एंड डेवलपमेंट फाउंडेशन की शुरुआत की। इसके बाद हमारे मन में महिलाओं के लिए कुछ अलग करने के बारे में सोचने लगा जिससे महिलाओं को उससे फायदा मिल सके। इसके लिए हमने काफी सोच विचार करने के बाद मैं महिलाओं के लिए ऐसा ब्लड बैंक बनाना चाहती थी कि सिर्फ उससे महिलाओं को फायदा मिल सके। जिसके लिए मैंने एक समता ब्लड बैंक सेंटर की शुरुआत कर दी। हमारी इस ब्लड बैंक सेंटर में जो महिलाओं को ब्लड की जरूरत होती थी उन्हें हम फ्री में और सबसे खास बात यह है कि मैं महिलाओं को समय पर ब्लड उपलब्ध करवा देती थी।

मैं इस ब्लड बैंक सेंटर की शुरुआत इसलिए कि थी कि हमने बहुत बार यह देखा है कि बहुत से लोग खून की वजह से या फिर उन्हें सही समय पर खून ना मिल पाए जिसकी वजह से उन्हें अपना बहुमूल्य जिंदगी को त्यागना पड़ता है। इन सभी चीजों को देखकर के मेरे मन में ब्लड बैंक खोलने का आईडिया आया और आज हम उन सभी महिलाओं को अपने इस ब्लड बैंक सेंटर से फ्री में ब्लड उपलब्ध करवा रही हूं और महिलाओं को मदद कर रही हूं।

अंजुम बताती है कि हर औरत का सपना होता है कि वह अपने सपने को साकार करें। इसके साथ-साथ वह दूसरों के सपने को भी साकार करती हैं। मैंने भी ऐसा ही किया हमने बेटी बनकर, मां बनकर, बहन बनकर और पत्नी बनकर हर तरह से अपने खूबसूरत से रिश्ते को संभाला और इसके साथ हमने नारी का दर्जा इन सभी चीजो से सबसे ऊपर रखा। जिसके कारण हमें हमारे परिवार का काफी सहयोग मिला और हम आज उस उड़ान भरी दुनिया तक पहुंच पाए। अपने लिए तो सभी जीते हैं परंतु मैं खुद के साथ-साथ अन्य लोगों के लिए भी जीती हूं जिन्हें हमारी जरुरत है। हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम अन्य लोगों के भी सपने को साकार कर सकें और वह मेरी ही तरह सपने की उड़ान को भर सकें।

यह भी पढ़ें:-खिलाड़ी से बनीं मवेशी पालक, देशी गाय डेयरी फार्म की शुरुआत कर आज कमा रहीं अच्छा मुनाफा

  • थैलेसिमिया बच्चों को कर रही मदद

अंजुम बताती हैं कि मुझे एक हादसे ने काफी परेशान कर दिया और यह हादसा हमारे ब्लड बैंक सेंटर के स्टॉप के साथ हुआ जिसकी वजह से हम काफी परेशान हो गए और जिसके बाद उस हादसे के बारे में काफी रिसर्च किया। यह हादसा हमारे ब्लड बैंक सेंटर में एक लड़के के साथ हुआ था।

हमने अपने सेंटर में एक लड़के को नौकरी पर रखा था परंतु मैंने देखा कि वह लड़का उस दिन बाद से सेंटर आना बंद कर दिया तो मैंने सोचा कि शायद यहां महिलाओं की होने की वजह से वह खुद को यहां कंफर्ट नहीं है क्योंकि हमारे इस सेंटर में सभी महिलाएं ही थी। परंतु कुछ दिनों बाद उस लड़के का भाई मेरे सेंटर पर आया और हमसे बोला कि वह अब इस दुनिया में नहीं है। उस लड़के की इस बात को सुनकर हम आश्चर्यचकित हो उठे और हमारी कुछ देर के लिए बोलती बंद हो गई। उसके बाद फिर मैंने उस लड़के से पूछा तो उसने बताया कि मेरे भाई काफी दिनों से थैलेसिमिया की बीमारी से जूझ रहा था। जिसकी वजह से उसकी मृत्यु हो गई।

Miss. India World Anjum Khan Helping Thalassemia Affected Children

मुझे उस लड़के के इस बीमारी को सुनकर कुछ अजीब सा लगा क्योंकि हमने इस से पहले इस थैलेसीमिया बीमारी के बारे में कुछ नहीं जानती थी। परंतु अचानक यह बात सुनकर के हम काफी परेशान और चिंतित हो उठे जिसके बाद हमने एक्सपर्ट से मिलकर के इसे थैलेसेमिया के बारे में काफी कुछ जानकारियां इकट्ठा की और गूगल पर भी सर्च करके इसके बारे में जानकारियां प्राप्त की। जब मुझे थैलेसीमिया बीमारी के बारे में काफी कुछ पता चल गया तो फिर हमने फैसला किया कि हम थैलेसीमिया बीमारी से पीड़ित बच्चों के लिए काम करूंगी जिसके बाद हमने इसकी शुरुआत कर दी। और आज मैं थेलेसीमिया बीमारी से पीड़ित 99 बच्चों को इलाज करवा उसकी मदद कर रही हूं।

यह भी पढ़ें:-जानिए भारत के उन 7 विचित्र जलस्रोतों के बारे में जहां एक बार नहाने से बीमारी ठीक हो जाती हैं

  • प्रेरणा

अंजुम खान बताती है कि लोग अपने बच्चों को काफी अच्छी शिक्षा दें जिससे वह अपने सपने की उड़ान को पूरा कर सकें और अन्य लोगों को भी मदद पहुंचा सकें अगर आप अपनी काम को मेहनत और लगन के साथ करते हैं तो आपको उससे सफलता जरुर मिलेगी परंतु इसके लिए आपको जी तोड़ मेहनत करने की जरुरत है। आज हमने अपने अंदर की चाहत को पहचाना और उसे पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत की ठीक उसी प्रकार अन्य महिलाएं भी अपनी चाहत को कभी मरने ना दें, उसे जिंदा रखें और उस चाहत को पूरा करने के लिए मेहनत करें जिससे आपको आखिरकार सफलता जरुर हासिल होगी।