Saturday, December 3, 2022

अंतिम पंघाल ने किया देश का नाम रोशन, U20 चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला रेसलर बनी

आज भी अधिकांश लोग ऐसे हैं जो बेटियों के जन्म पर निराशा व्यक्त करते हैं जबकी बेटों के जन्म पर उन्हें बेहद प्रसन्नता होती है। लेकिन अब बेटियां बेटों से कम नहीं है वो भी अब हर क्षेत्र में अपने पिता के साथ-साथ देश का नाम भी रोशन रोशन कर रही है। उन्हीं में से एक है रेसलर अंतिम पंघाल (Wrestler Antim Panghal) जिन्होंने महज 17 वर्ष की उम्र में ही भारत के गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। Antim Panghal From Haryana become India’s First Women Wrestler to Win Gold Medal in U20 Championship.

अंतिम पन्घाल का परिचय

अंतिम पन्घाल (Antim Panghal) हरियाणा (Haryana) के भगाना की रहनेवाली हैं और चार बहनों में सबसे छोटी हैं। उनके पिता का नाम रामनिवास पंघाल है और माता का नाम कृष्णा कुमारी है। अंतिम के जन्म से पहले ही रामनिवास के घर तीन बेटियों का जन्म हो चुका था। ऐसे में साल 2004 में जब उनके घर फिर से बेटी की किलकारी गुंजी तो उन्हें सोचा कि अब और बेटी नहीं चाहिए। इसी सोच के साथ उन्होंने उसका नाम अंतिम रखा। लेकिन आज वही अंतिम बेटी पूरी दुनिया में अपना जलवा बिखेर रही है साथ ही देश का नाम रोशन कर रही है।

यह भी पढ़ें:- मनचलों को सजा दिलाने के लिए लिया पुलिस अधिकारी बनने का फैसला, आज “आयरन लेडी” के नाम से मशहूर है

अंडर-20 वर्ल्ड में गोल्ड जीत बनी भारत की पहली महिला रेसलर

जैसा कि आप जानते हैं बुल्गारिया के सोफिया में अंडर-20 वर्ल्ड चैम्पियनशिप का आयोजन हो रहा है जिसमें कई देशों के खिलाड़ियोंं ने हिस्सा लिया है। वर्ल्ड-20 चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले में अंतिम ने कजाकिस्तान की एल्टिन शायायेबा को 8-0 से हराकर भारत के लिए गोल्ड मेडल अपने नाम किया। ऐसा करके वह भारत की पहली महिला रेसलर बन गई हैं। Antim Panghal From Haryana become India’s First Women Wrestler to Win Gold Medal in U20 Championship.

एक के बाद एक सभी खिलाड़ियों को दिया मात

अंतिम (Antim Panghal) ने अपने पहले मैच में यूरोप की रेसलर ओलीविया एंड्रीच को 11-0 से मात दिया। उसके बाद एक मिनट के अंदर ही जापानी रेसलर अयाका किमुरा को हरा दिया। एक के बाद एक को लगातर मात देने वाली अंतिम के सामने सिर्फ युक्रेन की रेसलर 6 मिनट तक अड़ी रही लेकिन कुछ खास प्रभाव नहीं देखा गया और इस बार भी उन्होंने यूक्रेनी पहलवान को 11-2 से धूल चटा दी।

यह भी पढ़ें:- शादी कार्ड छपवाने में इस शख़्स ने सभी हदें पार कर दी, Tablet के पत्ते पर अनोखा Card छपवाया

आनेवाला समय में भारतीय रेसलर का बोलबाला

अंडर-20 वर्ल्ड चैम्पियनशिप (Under-20 World Championship) के अलावा यदि CWG 2022 की बात करें तो इसमें भी रेसलिंग कुल 12 पदक जीता था जिसमें से 6 स्वर्ग पदक थे। CWG में भारत ने अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिया और उसी का नतीजा निकला कि उसने इतने सारे मेडल अपने नाम किया। इस प्रकार देखा जाएं तो यह कहना गलत नहीं होगा कि भविष्य में भारतीय रेसलिंग का ही जमाना है। हालांकि, रेसलिंग के क्षेत्र में पहले से ही भारत का जलवा रहा है, यहां विनेश फोगाट और साक्षी मलिक जैसे सर्वश्रेष्ठ महिला रेसलर मौजूद हैं जिन्होंने कई झंडे गाड़े हैं।

कहां से मिली रेसलर बनने की प्रेरणा

चार बहनों में सबसे छोटी अंतिम की एक बहन जिसका नाम सरिता है, कबड्डी की खिलाड़ी है। सरिता हमेशा से चाहती थी कि अंतिम रेसलर बने और पूरी दुनिया में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का झंडा गाड़कर पिता के साथ-साथ गांव और पूरे देश का नाम रोशन करें। अपनी बहन सरिता से ही अंतिम को रेसलर बननव की प्रेरणा मिली और आज रेसलर बनकर अपने नाम का झंडा गाड़ रही है।

आज के समय में जो कोई भी बेटियों के जन्म पर दुखी होनेवालो को अपनी सोच बदलने की जरुरत है क्योंकि अब बेटियां कमजोर नहीं है। अब वह हर क्षेत्र में हर वह काम कर सकती है जिसे हमारे समाज में पुरुष प्रधान समझा जाता है। Antim Panghal From Haryana become India’s First Women Wrestler to Win Gold Medal in U20 Championship.

The Logically अंतिम पंगाल को इस उपलब्धि के लिए ढेर सारी बधाई देता है साथ ही उन्हें आगे बढ़ने के लिए शुभकामनाएं भी देता है ताकि वह ऐसे ही हमेशा अपने देश का नाम रोशन करती रहें।