Saturday, July 31, 2021

मसाज तकनीक, जिससे अमरूद की पैदावार बढ़ गई और बिहार के इस किसान ने लाखों रुपये कमाए

अगर आप यह सोंच रखतें है कि खेती से अच्छे जीवन की शुरुआत नहीं हो सकती तो आप बिल्कुल गलत सोंचते हैं। यह सच है कि अगर आप अच्छे से खेती करते हैं तो एक नौकरी से ज्यादा आप की जिंदगी खेती करने से बेहतरीन रूप से व्यतीत होगी। आप मेहनती हैं तो खेती से एक अच्छी आय हो सकती है। इस बात को सच कर दिखाया है बिहार के एक युवक मोहम्मद रफीक जो कि किशनगंज के रहने वाले हैं। वह आज मसाज तकनीक का उपयोग कर लाखों कमा रहे हैं। आइए जानते हैं मुहम्मद रफीक के बारे में…

मोहम्मद रफीक बिहार के किशनगंज के रहने वाले हैं। वह 8वीं पास है। उनके घर की आर्थिक स्थिति बहुत हीं कमजोर है। वे अपने पिता के कामों में हाथ बटाते थे। उनके पिता का मूल काम कृषि का ही हैं। लेकिन कृषि से अच्छा जीवन-यापन संभव नहीं था। फिर उन्हें बंगाल जाने का अवसर प्राप्त हुआ। वहां उन्होंने अमरूद की खेती देखी। उन्होंने सोचा गांव चलकर अमरूद की खेती ही करेंगे।

लीज पर भूमि लेकर किया खेती का शुभारंभ

रफीक ने गांव आकर कृषि विज्ञान केंद्र से अमरूद की खेती के बारे में जानकारी इकट्ठा किया। उसके बाद गांव की 8 बीघा भूमि लीज पर ली और खेती शुरू की। उन्होंने बंगाल के नदिया से अमरूद के पौधे लाए और उन्हें खेतों में लगाया। उन्होंने अपने खेतों में लगभग 800 पौधे लगाए जिसमें कुछ खराब भी हुए। लगभग 6-7 सालों की मेहनत के बाद उनकी मेहनत रंग लाई और उन्हें कामयाबी हासिल हुई। रफीक का कहना है कि 1 बीघे में मुझे 1 साल में लगभग 1.50 लाख से 2 लाख रुपये तक की आमदनी हो जाती है।

मोहम्मद रफीक का वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें

मसाज तकनीक का प्रयोग कर बढ़ा पैदावार

मोहम्मद रफीक को इतने सालों के अनुभव से बहुत कुछ जानकारियां मिली और उन्होंने नई-नई तकनीकों के बारे में भी बताया। उसी में से एक तकनीक है मसाज या ट्विस्टिंग तकनीक। इस तकनीक में अमरुद के पौधों की जो नई पत्तियां होती हैं उन पतियों को छोड़ नीचे की सभी पतियों को तनों से तोड़ दिया जाता है। फिर उसके शाखा को नीचे की तरफ झुकाते हुए बाएं से दाएं हल्का सा मोड़ देते हैं। यह सब कार्य अगस्त और सितंबर महीने के बीच किया जाता है। अगर चटकी आवाज आ रही है तो मसाज या ट्विस्टिंग तकनीक को पूरा माना जाता है। ऐसा हो जाने के कुछ समय बाद टहनियों के प्रत्येक नोड से नए फूल निकलने लगते हैं और वह फल में परिवर्तित होते जाता है।

यह भी पढ़े :- ताइवान नस्ल के अमरूद की खेती कर कमा रहे हैं 30 लाख रुपये सलाना, 6 महीने में तैयार होता है फसल: तरीका सीखें

जिस तरह से नई पद्धति का उपयोग कर मोहम्मद रफीक ने अमरूद की खेती की है और अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं उसके लिए The logically मोहम्मद रफीक को बधाई देता है।