Saturday, December 3, 2022

होटलों में बर्तन धोया, संघर्षों से जूझा, आज 45 तरह का पिज्जा बनाकर हो चुके हैं मशहूर

कुछ बातों पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन उसमें जो सत्यता झलकती है उसे कोई झुठला नहीं सकता। इसी लाइन पर आधारित है एक शख़्स की कहानी जिन्होंने कभी विदेश में बर्तन धोया और आज वही शख़्स हर माह 2 लाख रुपए कमा रहें हैं। लेकिन ये कमाई उनके स्वदेश की है ना कि विदेश की।

चलिए इस शख़्स के विषय में विस्तार से…

वह शख़्स हैं बिजल दवे जो वड़ोदरा से ताल्लुक रखते हैं। उनका रेस्तरां हैं जहां आपको विभिन्न प्रकार के पिज्ज़ा मिलेंगे। ये लगभग 45 प्रकार के हो सकते हैं। अपने इस रेस्तरां से वह हर माह 2 लाख रुपए कमाते हैं। वह सिर्फ काम ही नहीं करते बल्कि लोगों को रोजगार देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाया है।

यह भी पढ़ें:-आखिर शेफ की टोपी सफेद और लम्बी ही क्यों होती है, जानिए क्या है इसके पीछे का कारण

धोया बर्तन और काटी सब्जी

रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने सफलता हासिल करने में बहुत सारी विषमताओं का सामना किया है। कंप्यूटर से डिप्लोमा करने के बाद उन्हें नौकरी नहीं मिल रही थी तो वह केन्या की तरफ अग्रसर हुए। यहां उन्हें एक होटल में सब्जी काटने एवं बर्तन धोने का काम दिया गया। वह अपने इस काम को बेहद अच्छे तरीके से कर रहे थे लेकिन एक दिन उनकी मुलाकात जब एक इटालियन कस्टमर से हुई तो उनके ज़िन्दगी में बदलाव हुआ। उन्होंने कहा कि क्या तुम मेरे कांगो के रेस्तरां में काम करना चाहोगे जो एक पिज्ज़ा रेस्तरां है।

Bijal Dave Start Pizza Restaurant Earn 2 Lakh A Month

लौटे इंडिया खोली पिज़्ज़ा रेस्तरां

अब उन्होंने ये सीखा कि पिज़्ज़ा किस तरह बनता है। इसके गुण सीखने के बाद उन्होंने पार्टनरशिप के दौरान स्वयं की एक दुकान खोली जहां उन्होंने पिज्जा का निर्माण करना शुरू किया। परंतु उपद्रवियों के कारण उनकी यह दुकान जल गई तब इंडिया लौटने का फैसला लिएं। यहां उन्होंने 2019 में वड़ोदरा लौटकर इटालियन का निर्माण किस तरह करें यह सब सीखा और फिर इंडिया में ही एक पिज़्ज़ा की शॉप खोल दी।

यह भी पढ़ें:-कॉर्पोरेट की नौकरी छोड़ शुरु किया नर्सरी का बिजनेस, सालाना 30 लाख रुपये की आमदनी हो रही है

लोगों को दिया रोजगार

पैसे बहुत कम थे इसलिए उन्होंने इसे अपने बिल्डिंग के कम्पाउंड में खोला, उन्होंने ग्लस्टोस पेजेरिया नाम से इस रेस्टोरेंट की स्थापना की। यहां उन्होंने खूब मेहनत किया आखिरकार सफल हुए। यहां 5 लोग काम करते हैं और इससे वह हर माह 2 लाख रुपए कमा रहे हैं।