Tuesday, September 28, 2021

क्या आप जानते है भारत में रेलवे की शुरुआत कैसे हुई? आज जान लीजिए भारत में ऐसी 7 चीजें जो अंग्रेजों की देन है

सन् 1947 में भारत को आजादी मिलने से पहले भारत पर अंग्रेजों का शासन था। अंग्रेजों ने भारत देश पर काफी अत्याचार किया है, जिससे भारतीयों का आक्रोश बढ़ जाता है क्योंकि आजादी पाने के लिए अनेकों भारतीयों ने अपनी जान गवाई है। हालांकि अंग्रेजों ने भारत को कई अच्छी चीजें भी दी है, जिनके बारे में बहुत कम लोगों को ही जानकारी होगी। ऐसे में इस लेख के माध्यम से हम आपकों कुछ ऐसी ही जानकारी देने जा रहे हैं जो अंग्रेजों की देन है।

रेलवे की शुरुआत

भारत में रेल नेटवर्क की स्थापना अंग्रेजों ने की थी, यही वजह है कि भारत में ज्यादातर रेलवे स्टेशन अंग्रेजी वास्तुकला के अनुसार ही बने। ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में माल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए इसकी स्थापना की थी। जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारत की पहली ट्रेन 16 अप्रैल 1953 को मुंबई से ठाणे तक चली थी।

British left behind 7 things for India

टीके का आविष्कार

19वीं और 20वीं सदी के दौरान भारत में चेचक की महामारी फैली थी। उस समय ब्रिटिश सरकार ने इस महामारी को रोकने के लिए 1892 में एक अनिवार्य टीकाकरण अधिनियम पारित किया। इस बीमारी के प्रसार की जांच के लिए स्वच्छता आयुक्त को भी तैनात किया गया था। उसी समय से भारतीयों को टीके के बारे में जानकारी मिली।

British left behind 7 things for India

भारतीय सेना

भारतीय सेना विश्व की चौथी सबसे शक्तिशाली सेना है, जो अंग्रेजों की ही देन है। भारतीय सेना में संस्कृति ट्रेनिंग और दिनचर्या ईस्ट इंडिया कंपनी की याद दिलाती है।

British left behind 7 things for India

सामाजिक सुधार

भारतीयों द्वारा समाज में कई प्रकार की कुप्रथाएं चलाई जा रही थी। उदाहरण के लिए सती प्रथा,बाल विवाह, अस्पृश्यता आदि जैसी कुप्रथा शामिल थी, जिन्हें अंग्रेजों ने खत्म कर दिया। अंग्रेजों ने कम उम्र में विधवा हुई लड़कियों को दोबारा से अपने जीवन में रंग भरने और अपने जीवन जीने का मौका दिया उनकी इस नेक काम में प्रसिद्ध समाज सुधारक राजा राममोहन राय ने भी उनका साथ दिया था।

British left behind 7 things for India

अंग्रेजी भाषा

ईस्ट इंडिया कंपनी ने सरकार मे कार्यरत भारतीय कर्मचारियों को इसलिए अंग्रेजी सिखाई ताकि उन्हें अंग्रेजों के साथ काम करने में कठिनाई का सामना ना करना पड़े। इसी तरह धीरे-धीरे अंग्रेजी भाषा में अपनी पैठ बनाई।

British left behind 7 things for India

जनगणना

भारत में पहले जनसंख्या की जनगणना की देन अंग्रेजों की ही है। अंग्रेजों ने 1871 से प्रत्येक 10 वर्षों में जनसंख्या की जनगणना करने की शुरुआत की थी। वे प्रत्येक 10 वर्ष में लिंग, जाति, धर्म, शिक्षा और जनसंख्या जैसे सांख्यिकी एकत्र करते थे।

British left behind 7 things for India

सर्वेक्षण

भारतीय भौगोलिक सर्वेक्षण की स्थापना 1851 में अंग्रेजों द्वारा की गई थी। गांवों- शहरों का सर्वेक्षण और भारत का नक्शा बनाने के लिए संस्थान का स्थापना किया गया था। कई जगह आज भी अंग्रेजों द्वारा बनाए गए नक्शे का ही इस्तेमाल किया जाता है। अंग्रेजों ने भारत की लंबाई चौड़ाई चौड़ाई का सर्वेक्षण करने के लिए कई प्रकार की उन्नत उपकरण पेश किए।

British left behind 7 things for India

अगर आप गार्डेनिंग सीखना चाहते हैं तो हमारे “गार्डेनिंग विशेष” ग्रुप से जुड़ें – जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें