Friday, December 4, 2020

प्रेरणा : खुद के बच्चों को सुनामी में खोने के बाद अब अनाथ बच्चों की ज़िन्दगी संवार रही हैं

मातृत्व को दुनिया में सबसे उपर का दर्जा हासिल है ! आखिर मातृत्व ममता और दया की प्रतिमूर्ति जो होती है ! तमिलनाडु की रहने वाली चूड़ामणि मातृत्व की एक ऐसी हीं प्रेरणा बन चुकी हैं ! वे अपने मातृत्व के साये में कई अनाथों की जिंदगी सँवार रही है !

अनाथ जिनका इस दुनिया में कोई नहीं होता है, बिल्कुल बेसहारा , लाचार और कमजोर ! ऐसे में उनके पोषण की जिम्मेदारी चूड़ामणि अपने पति परमेश्वरन् के साथ मिलकर निभा रही हैं !

चूड़ामणि भी आम लोगों की तरह अपने पति और बच्चों के साथ जिंदगी बिता रही थीं ! 26 दिसम्बर 2004 को दबे पाँव 9.1 की तीव्रता वाले आए भूकम्प और सुनामी ने इनकी हँसती-खेलती जिंदगी को तबाह कर दिया ! उनके तीनों बच्चे सुनामी की भेंट चढ गए ! इस दर्दनाक घटना से बिल्कुल टूट चुकीं वह दम्पति आत्महत्या तक के बारे सोंचने लगा था , और सोंचता भी क्यूँ ना आखिर उनकी उम्मीदों के तीनों जगमगाते सितारे बुझ जो गए थे ! अपनी गहरी पीड़ा को सीने में दबाकर वे शहर छोड़कर गाँव चले गए ! जाने के क्रम में रास्ते में उन्होंने सड़कों पर कई अनाथ बच्चों को इधर-उधर भटकते देखा जो अपने माता-पिता का साया उठ जाने के बाद बेसहारा हो चले थे ! उन बच्चों की बिखरती हुई जिंदगी को देखकर उनके अंदर उन बच्चों के लिए कुछ करने का विचार आया और चूड़ामणि व उनके पति परमेश्वरन ने आत्महत्या का विचार त्याग दिया और उन बच्चों की जिंदगी सँवारने का फैसला किया !

ऐसे शुरू हुआ अनाथों के परवरिश का कार्य

चूड़ामणि कहती हैं “हमने कई बच्चों को सड़क किनारे देखा जो बिल्कुल असहाय थे , जिनके पास ना तो रहने को घर था और ना हीं उनके माता-पिता थे ! मैंने सोंचा कि मेरे बच्चे तो अब रहे नहीं तो क्यों ना इन बच्चों को आश्रय दिया जाए” ! शुरूआत में उन्होंने चार अनाथ बच्चों को घर ले आए जिसमें दो लड़के और दो लड़कियाँ थीं ! अपने घर को हीं अनाथाश्रम बना दिया जिसका नाम उन्होंने ‘नांबिक्केई’ दिया ! तमिल भाषा के इस शब्द का अर्थ होता है ‘उम्मीद’ ! अनाथ बच्चों की उम्मीद बनकर उन्हें परवरिश करने जैसे कार्य से यह संस्था अपने नाम को सिद्ध करने लगी ! धीरे-धीरे उन्होंने अपने अनाथाश्रम का विस्तार शुरू किया , दो अलग-अलग मकान बनवाए ! एक लड़कों और दूसरा लकड़ियों के लिए ! तत्पश्चात कुछ और अनाथ बच्चों को इस अनाथाश्रम में ले आए जिससे उनके इस अनाथालय में बच्चों की संख्या बढकर 36 हो गई ! सूनामी के बाद अब तक लगभग 50 बच्चों की जिंदगी सँवारती चूड़ामणि और उनके पति परमेश्वरन सभी के लिए प्रेरणा हैं !

परवरिश के साथ शिक्षा प्रदान

अपने अनाथाश्रम में बच्चों की परवरिश पर खासा ध्यान देती हैं चूड़ामणि ! शिक्षा और कौशल के विकास पर बच्चों का ध्यान केन्द्रित किया जाता है ! यहाँ बच्चों को शुरूआती पढाई , माध्यमिक पढाई के बाद उच्च शिक्षा भी दिलाई जाती है ताकि वे अपने सपनों को पूरा कर सकें ! उस आश्रम के कई बच्चे इन्फॉरमेशन टेक्नोलॉजी जैसे तकनीकी शिक्षा भी ग्रहण कर रहे हैं ! कई बच्चे बहुराष्ट्रीय कंपनियों में कार्य कर रहे हैं तो कई उस अनाथाश्रम में अपनी सेवा दे रहे हैं ! बच्चों के समुचित विकास पर ध्यान केन्द्रित कर उन्हें काबिल बनाया जाता है !

अनाथों के लिए जीवन समर्पित

बेसहारे बच्चों का सहारा , नाउम्मीदी में भी उम्मीद बनकर उभरे चूड़ामणि अनाथ बच्चों की परवरिश , पढाई और उन्हें एक बेहतरीन इंसान बनाने के कार्य को अपनी जिंदगी का लक्ष्य बना चुकी हैं ! वे अपनी जिंदगी का हर क्षण उन अनाथ बच्चों को समर्पित कर देना चाहती हैं !

चूड़ामणि और उनके पति कहते हैं कि “हमारा यह मिशन आजीवन जारी रहेगा क्योंकि हम अपने बच्चों को सम्मान देना चाहते हैं” !

Vinayak Suman
Vinayak is a true sense of humanity. Hailing from Bihar , he did his education from government institution. He loves to work on community issues like education and environment. He looks 'Stories' as source of enlightened and energy. Through his positive writings , he is bringing stories of all super heroes who are changing society.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अपने घर मे 200 पौधे लगाकर बनाई ऐसी बागवानी की लोग रुककर नज़ारा देखते हैं: देखें तस्वीर

बागबानी करने का शौक बहुत लोगो को होता है और बहुत लोग करते भी हैं और उसकी खुशी तब दोगुनी हो जाती है जब...

यह दो उद्यमि कैक्टस से बना रहे हैं लेदर, फैशन के साथ ही लाखों जानवरों की बच रही है जान

लेदर के प्रोडक्ट्स हर किसी को अट्रैक्ट करते हैं. फिर चाहे कपड़े हो या एसेसरीज हम लेदर की ओर खींचे चले जाते है. पर...

गरीब और जरूरतमंद महिलाओं को दे रही हैं नौकरी, लगभग 800 महिलाओं को सिक्युरिटी गार्ड की ट्रेनिंग दे चुकी हैं

हमारे समाज मे पुरुष और महिलाओ के काम बांटे हुए है। महिलाओ को कुछ काम के सीमा में बांधा गया हैं। समाज की आम...

पुराने टायर से गरीब बच्चों के लिए बना रही हैं झूले, अबतक 20 स्कूलों को दे चुकी हैं यह सुनहरा सौगात

आज की कहानी अनुया त्रिवेदी ( Anuya Trivedi) की है जो पुराने टायर्स से गरीब बच्चों के लिए झूले बनाती हैं।अनुया अहमदाबाद की रहने...