Sunday, October 24, 2021

मात्र 250 रुपये में ‘रेन वाटर हार्वेस्टिंग’ सिस्टम बनाकर 1 मिनट में बचा सकते हैं 20L पानी

सभी सजीवों के लिए जैसे हवा ज़रूरी है। वैसे ही जीवन-यापन के लिए जल भी आवश्यक है। जल के बिना हम जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते है। जल के अभाव में न हीं फसलें होंगी और ना ही पेड़-पौधे ही सही से बढ़ पाएंगे। इसके बिना वन्य जीव से लेकर पशु-पक्षी का जीवन भी असंभव है। अक्सर हम न्यूज या अखबारों में जल की कमी की ख़बर पढ़ते या सुनते रहते है, लेकिन कभी जल के संचय के बारे में नहीं सोचते है। अतः हमें हर संभव जल का संरक्षण करना चाहिए। हम घर में भी उपयोग के बाद निकलने वाले पानी को कहीं पेड़ की जड़ों में डालकर, बारिश के पानी का सही उपयोग कर… विभिन्न तरीकों से जल संरक्षण कर सकते है।

चेन्नई (Chennai) के रहने वाले दयानंद कृष्णन (Dayanandn Krishnan) ने पानी के बचाव के लिए एक ऐसा जुगड़ बनाया है जिसमें 10 मिनट में लगभग 200 लीटर बारिश का पानी इकट्ठा किया जाता है। इस DIY की लागत खर्च मात्र 250 रूपए है। कृष्णन ने बारिश के पानी को बर्बाद होते देख एक ऐसा इनोवेशन करने को सोचा जिससे शहर में पानी की किल्लत कम होगी और जल संरक्षण भी होगा। उनका आईडिया सफल भी हुआ। इसे अपने घर में लगाने के लिए किसी एक्सपर्ट की ज़रूरत नहीं है। आप अपने घर में ख़ुद ही बना सकते है। आइए जानते है DIY को बनाने और इसके उपयोग के बारे में।

DIY को बनाने के लिए निम्न सामग्रियों की आवश्कता पड़ती है

1.  ड्रम

2. पीवीसी पाइप

3. दो पाइप बेंड्स और

4. कॉटन कपड़े फिल्टर के लिए

DIY बनाने की विधि

लगभग हर घर में पानी बाहर निकलने के लिए छत पर पाइप लगे रहते है। कृष्णन के अनुसार पानी निकलने वाले पाइप को बेंड्स की मदद से दूसरे पाइप के सिरे को जोड़ना होगा और दूसरे सिरे को कपड़े के फिल्टर से ढके हुए ड्रम में।

यह भी पढ़े :-

लाखों रुपये बचाकर पुणे के इस सोसाइटी के लोगों ने जलस्तर सुधारने का निकाला नयाब तरीका

DIY का कार्य

इस प्रक्रिया में बारिश का पानी बाहर बहने के बजाए ड्रम में इकट्ठा होगा। पाइप में नीचे के साइड लगा कपड़ा पानी को फिल्टर करने का काम करेगा, जिससे छत से आने वाले धूल-मिट्टी, कंकड़-पत्थर पानी के साथ ड्रम में नहीं जाएगा। अंततः हमें शुद्ध और स्वच्छ पानी प्राप्त होगा, जिसका हम अपने दिनचर्या में उपयोग कर सकते है। इसमें 10 मिनट में लगभग 200 लीटर बारिश का पानी इकट्ठा कर सकते है जिससे हमें दो-तीन दिनों तक कहीं और से पानी की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। कृष्णन को इस आविष्कार से बहुत फायदा हुआ। आगे उनके साथ और भी कई लोग जुड़ कर इसका फायदा उठा रहे है।

दयानंद कृष्णन द्वारा किए गए आविष्कार का आप भी लाभ उठा सकते है और जल संरक्षण में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सकते है। The logically, Dayanandn Krishnan द्वारा किए गए आविष्कार और जल संरक्षण के लिए उनकी सराहना करता है।