Saturday, December 3, 2022

B.tech की नौकरी छोड़ शुरु किया फूलों की खेती, अब कमा रहे हैं सालाना 35 लाख का मुनाफा

आजकल के अधिकांश युवा चाहे वह शहर के हों या गांव के हों, का सपना पढ़ाई-लिखाई करके अच्छी सैलरी वाली नौकरी करना होता है ताकि वे एक अच्छी लाइफ जी सकें। लेकिन कुछ युवा वर्ग ऐसा भी है जो अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के बावजूद भी नौकरी न करके खेती-बाड़ी की तरफ रुख कर रहे हैं और अपनी मेहनत से नया इतिहास रच रहे हैं।

कुछ ऐसी ही कहानी है युवा संदीप कुमार वर्मा (Farmer Sandeep Kumar Varma) की, जिन्होंने B.tech की पढ़ाई करने के नौकरी छोड़ खेती में हाथ आजमाया और आज सालाना 35 लाख रुपये की आमदनी कमा रहे हैं।

पूरे जिले में हाइटेक किसान के रूप में बनाई अपनी पहचान

बारांबाकी के तहसील रामनगर के गजियापुर गांव के निवासी संदीप कुमार वर्मा (Sandeep Kumar Varma) फूलों की खेती (Gerbera Flower Cultivation) में सफलता हासिल करके आज अपने पूरे जिले में एक हाइटेक किसान के रूप में अपनी पहचान बना चुके हैं। इसके साथ ही वे अनेकों ऐसे युवा के लिए प्रेरणा भी बन गए हैं जो नौकरी न करके खेती-बाड़ी या किसी अन्य क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं।

नौकरी छोड़ किया खेती करने का फैसला

संदीप (Farmer Sandeep Kumar Varma) बताते हैं कि, B.tech की पढ़ाई करने के बाद उन्हें कई कंपनियों में नौकरी भी मिली लेकिन किसी भी कम्पनी में नौकरी करके उन्हें सुकून नहीं मिला। कुछ कंपनियों में काम के मुताबिक सैलरी नहीं मिलती थी तो कुछ में काम अधिक करना पड़ता था। इन्हीं सब कारणों के वजह से संदीप ने नौकरी छोड़ खेती करने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें:- महुआ के फूल और वाइल्ड चावल खाकर करना पड़ता था गुजारा, आज अमेरिका में वैज्ञानिक हैं: प्रेरणा

घरवालों को नहीं हो रहा था विश्वास

हर मां-बाप की ख्वाहिश होती है कि उनके बच्चे पढ़-लिखकर अच्छी जगह नौकरी करे और सुखद जीवन जी सके। संदीप के माता-पिता भी यही चाहते थे लेकिन संदीप के खेती करने के फैसले ने इस सपने को तोड़ दिया। संदीप ने जब अपने पैरंट्स को बताया कि वे नौकरी छोड़कर खेती करना चाहते हैं तो उनके माता-पिता और घरवालों ने इस बात पर विश्वास नहीं किया।

संदीप के परिवारवाले इस बात से बहुत दुखी थे इतना पैसा खर्च करके जिस बेटे को अच्छी शिक्षा दी आज वहीं बेटा अच्छी नौकरी करने के बजाय गांव में खेती-बाड़ी कर रहा है। इतना ही नहीं B.tech की पढ़ाई करने के बाद खेती करने के फैसले से संदीप के घरवालों को वे पागल नजर आने लगे क्योंकि पढ़ाई पर बड़ी रकम खर्च करके वह खेती करना चाहते थे। हालांकि, संदीप बारांबाकी ने अपनी मेहनत से धीरे-धीरे सब कुछ ठीक हो गया।

सालाना हो रहा है 75 लाख का टर्नओवर

उत्तर प्रदेश सरकार के उद्यान विभाग से बागवानी मिशन के तहत अनुदान राशि दिया जाता है। इसी अनुदान राशि की मदद से वर्तमान में संदीप 8 पॉलीहाऊस में जरबेरा फूल की खेती (Gerbera Flower Cultivation) कर रहे हैं और लाखों का मुनाफा कमा रहे हैं। जरबेरा फूल की खेती से उन्हें सालाना 75 लाख रुपये का टर्नओवर होता है जिसमें से खर्च काटकर 35 लाख रुपये का सीधा फायदा होता है।

संदीप कुमार वर्मा (Sandeep Kumar Varma) ने खेती में सफलता हासिल करके साबित कर दिया है कि अब खेती घाटे का सौदा नहीं रह गया। अब युवा वर्ग खेती करके भी अच्छा जीवनयापन कर सकते हैं।