हमारे देश में कोई भी ग़म या तकलीफ़ होने पर लोग मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा या चर्च ज़रूर जाते हैं। लॉक_डाउन के समय कुछ सेक्टर्स में पूरी तरह से काम ठप्प होने की वजह से बहुत से लोगों की नौकरी छूट गई थी। ऐसे में जब हम अपना दुख बांटने इन धार्मिक स्थलों तक नहीं जा सकें.. गुरुद्वारा ने हम तक पहुंचने की कोशिश की..

‘लंगर ऑन व्हील्स’

लॉक_डाउन में जब कुछ लोगों के पास खाने को अन्न का दाना भी नहीं था, तब दिल्ली के सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट समिति ने उन ज़रूरतमंद लोगों को खाना खिलाने के लिए ‘लंगर ऑन व्हील्स’ शुरू किया था। इस मुहिम के तहत लगभग 15 हज़ार लोगों को प्रतिदिन खाना खिलाया गया।

गुरुद्वारा परिसर में शुरू किया जा रहा डायलिसिस सेंटर

लोगों के मदद की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए दिल्ली के बंगला साहिब गुरुद्वारा ने एक और नई पहल की है। गुरुद्वारा परिसर में गुरु हरकिशन अस्पताल में एक डायलिसिस सेंटर भी स्थापित किया जा रहा है। साल के दिसंबर महीने से यहां डायग्नोस्टिक सुविधा की शुरुआत की जाएगी। इसका उद्देश्य ज़रूरतमंद और निम्न आय वर्ग के लोगों को स्वास्थ्य सेवा कम से कम क़ीमत में देना है।

देश की सबसे सस्ती स्वास्थ्य सेवा; 2500 रुपए की MRI यहां सिर्फ 50 रुपए में

यहां शुरू की जा रही स्वास्थ्य सेवा देश की सबसे सस्ती स्वास्थ्य सेवाओं में से एक होगी। जिस MRI (Magnetic Resonance Imaging) की क़ीमत साधारण तौर पर 2500 रुपए होती है, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा अनुसार उसी MRI स्कैन की क़ीमत यहां बहुत कम होगी। ज़रूरतमंदों को यह सेवा मात्र 50 रुपये में उपलब्ध कराई जाएगी। अन्य लोगों के लिए इस एमआरआई स्कैन (MRI Scan) की कीमत 800 रुपये होगी। एक व्यक्ति के लिए एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड की क़ीमत मात्र 150 रुपए होगा। समाचार एजेंसी पीटीआई की डायलिसिस प्रक्रिया में सिर्फ 600 रुपये खर्च होंगे


यह भी पढ़े :- महामारी के दौरान गुरुद्वारा बंग्लासहिब ने शुरू किया लंगर, हर रोज 40 हज़ार लोगों को खिला रहे खाना


एक रिपोर्ट के मुताबिक गुरुद्वारा परिसर के गुरु हरकिशन अस्पताल को 6 करोड़ रुपये की डायग्नोस्टिक मशीनें दान की गईं है। इन मशीनों में अल्ट्रासाउंड, एक्स-रे, एमआरआई और डायलिसिस के लिए चार मशीनें शामिल हैं।

The Logically के अनुसार लॉक_डाउन में ज़रूरतमंदों को खाना खिलाकर गुरुद्वारा ने जिस प्रकार लोगों की मदद की है और अब अस्पताल के जरिए सस्ती स्वास्थ्य सेवा देने की यह पहल.. ये दोनों ही लोगों की मदद और उनके तकलीफ़ में साथ रहने का बहुत ही सराहनीय प्रयास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here