Saturday, July 31, 2021

रहने के लिए पक्का मकान नहीं है लेकिन अपनी मेहनत से मैट्रिक परीक्षा में पूरे बिहार में परचम लहराया

बिहार बोर्ड द्वारा मैट्रिक का रिजल्ट घोषित किया जा चुका है ! इस बार एक ऐसे लड़के ने पूरे बिहार में अव्वल स्थान प्राप्त किया है जिसकी जिंदगी दुखों की गहरी दास्तां है ! बिहार के रोहतास जिले का रहने वाला हिमांशु राज हर दुखों और बाधाओं को पार कर अपने अंदर पढाई का ऐसा दीपक जलाया जिसकी रौशनी से आज उनका पूरा परिवार , समाज , राज्य जगमगा उठा है ! 500 पूर्णांक वाले इस परीक्षा में हिमांशु ने 481 अंक प्राप्त किए ! आईए…काबिलियत का परचम लहरा कर सफलता की गाथा लिखने वाले एक छोटे से नौनिहाल हिमांशु राज की कहानी जानते हैं !

हिमांशु राज बिहार के रोहतास जिले के दिनारा प्रखण्ड के नटवार तेनुअज पंचायत का रहने वाला है ! उनके पिता सुभाष सिंह और माता मंजू देवी है ! हिमांशु की एक बहन भी हैं ! हिमांशु के पिता स्नातक पास हैं जिसका लाभ हिमांशु को हमेशा मिलता रहता है ! माँ कम पढी-लिखी हैं फिर भी अपने बच्चों को बढाने के लिए संकल्पित हैं !

हिमांशु एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है ! वह एक मिट्टी के खपड़ैल घर में रहता है ! उसके पिता बहुत संघर्ष कर उसे पढा-लिखा रहे हैं ! वे घर पर हीं ट्यूशन पढाने का काम करते हैं पर उससे जिंदगी की सभी जरूरतें पूरी नहीं हो पातीं तो दूसरों से बटाई पर खेत लेकर खेती करते हैं तथा सब्जियां बेचने का भी काम करते हैं ! पिता को इतने सारे बोझ उठाते देख हिमांशु भी उनके काम में हाथ बँटाया करता है और हिमांशु भी सब्जी बेचा करता है ! उन दिनों वह सभी कामों से समय निकाल कर बेहद लगन से पढाई भी करता था !

रिजल्ट और पढाई को लेकर हिमांशु ने कहा

हिमांशु ने अपनी तैयारी के बारे में बात करते हुए बताया कि रोज कम से कम मैं 14 घंटे की पढाई करता था ! पिता , बहन व मेरे गुरू सभी मेरी पढाई में मदद करते थे ! मुझे पूरी उम्मीद थी कि मेरा स्थान राज्य के टॉप-10 में जरूर आएगा लेकिन इसका तो कतई अंदाजा नहीं था कि मैं पूरे राज्य में प्रथम स्थान प्राप्त करूँगा ! हिमांशु आगे एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनकर देश की सेवा करना चाहते हैं ! हिमांशु को अपने पिता की आर्थिक कमजोरी की भली-भाँति अनुभूति है फिर भी उसे अपनी काबिलियत और लगन पर पूरा भरोसा है और जिससे वह अपने सपनों को साकार करना चाहता है !

हिमांशु अपनी पढाई की राह में आने वाली सभी बाधाओं को पारकर अपनी दृढता और लगनता से पढाई के क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर प्रेरणा रूपी परचम लहराया है ! Logically हिमांशु को उसके बेहतर रिजल्ट की बहुत बहुत बधाईयाँ व शुभकामनाएँ देता है !