Thursday, October 28, 2021

अपनी हार को चुनौती देकर बनी IAS, तीन बार परीक्षा में फेल होने वाली चन्द्रिमा से जानिए सफलता के मंत्र: इंटरव्यू

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के बारें में अक्सर हमारे सीनियर हमें बताते हैं कि कितनी देर पढाई करनी चाहिए, स्ट्रेटजी हमारी क्या होनी चाहिए तथा सफलता के बहुत सारे सूत्रों के बारें में जानने को मिलता है। UPSC क्रैक करने का सपना लगभग सभी का होता है। लेकिन कुछ ही लोग इस सपने को साकार कर पाते हैं। जैसा की सभी को पता है यूपीएससी की परीक्षा में 3 राउंड की परीक्षा होती है। पहला राउंड प्री, दूसरा मेन्स और तीसरा राउंड इंटरव्यु का होता है। पहले राउंड में लगभग छात्र उतीर्ण हो जाते हैं लेकिन दूसरे राउंड मेन्स में पास नहीं कर पाते।

आज की कहानी वैसे ही छात्रों के लिये उपयोगी है जिन्हें मेन्स में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आज हम आपकों UPSC में चौथी प्रयास मे सफलता प्राप्त करने वाली चन्द्रिमा के बारे में बताने जा रहें हैं। चंद्रिमा अपने अनुभव से बता रही हैं, एस्से लिखने का तरीका जिससे अधिकतम अंक प्राप्त कर किया जा सके।

पानीपत, हरियाणा की चन्द्रिमा ने वर्ष 2019 में चौथे प्रयास में UPSC-CSE में कामयाबी प्राप्त किया है। उन्होंने लगातर 3 बार असफल होने के बाद चौथे कोशिश में 2019 में 72वीं रैंक के साथ कामयाबी के शिखर को छुआ। 3 बार के प्रयास के बाद चन्द्रिमा 2019 में यूपीएससी की परीक्षा में पहली बार इंटरव्यू राउंड तक पहुंची। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि एस्से पेपर में अच्छे अंक कैसे प्राप्त किया जा सके, निबंध लिखने का तरीका क्या होता है और किन पॉइंट्स से एग्जामिनर प्रभावित होते हैं। आपकों बता दें कि चन्द्रिमा को निबंध में 143 अंक मिले हैं जो 2019 के टॉप स्कॉर्स में से एक है।

IAS Chandrima with her family

एस्से लिखने के बारे में महत्तवपूर्ण जानकारी।

IAS चन्द्रिमा ने बताया कि एस्से के पेपर को हल करने के लिये 3 घंटे का समय मिलता है। 3 घंटे में 2 निबंध लिखना होता है। चन्द्रिमा दोनों निबंध को समय के हिसाब से एक निबंध के लिये डेढ़ घंटे का समय बांट लेती थी। उन्होंने निबंध पेपर के लिये सबसे जरुरी बात यह बताई कि निबंध लिखने में जल्दीबाजी नहीं करनी चाहिए। डेढ़ घंटे के समय में पहले 15-20 मिनट में रफ पेज पर जाकर निबंध का स्ट्रक्चर फ्रेम कर लेना चाहिए। निबंध लिखने के विषय में जो बातें दिमाग में आए उसे कहीं लिख लेना चाहिए। लिखने के पहले इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पहले क्या लिखना है और बाद में क्या। आरंभ कैसे करना चाहिए और अंत कैसे करना है, इन दोनों बात का ख्याल रखना चाहिए। विषय से सम्बंधित कहनी, केस स्टडी, डेटा, फैक्ट्स, एनिकडोट्स आदि जो भी याद आये उसे एक-एक कर लिख लेना चाहिए। IAS चन्द्रिमा का मानना है कि शुरु के मिनट बहुत सहायता करतें हैं। इसलिए निबंध की रूप रेखा दिमाग में बनाकर ही लिखना चाहिए।

यह भी पढ़े :- कमर्स ग्रेजुएट होने के बाद बनी IAS, शिवानी गोयल बता रही हैं अपने सफलता का रहस्य: वीडियो देखें

निबंध का विषय चुनने के बारें में चन्द्रिमा ने बताया कि जो भी ऑप्शन दिये गये हो, उनमें से सबसे अलग विषय चुनने के फेर में नहीं पड़ना चाहिए। इस बारे में सोचकर टाईम वेस्ट नहीं करना चाहिए कि सबसे अलग विषय चुनने पर अधिक अंक मिलेंगे। हम अक्सर समझ नहीं पाते कि अच्छे नंबर अलग विषय को चुनने पर नहीं बल्कि चुने गये विषय पर कितनी गहराई और अच्छे तरीके से बात कही गईं है, इस बात पर मिलतें हैं। विषय कोई भी हो उस पर मजबूत पकड़ होनी बहुत जरुरी है। निबंध लिखते समय मल्टी डाइमेंशनल होने की कोशिश करनी चाहिए। विषय से सम्बंधित सभी क्षेत्र को कवर करने की कोशिश करनी चाहिए।

निबंध लिखने के बारे में अधिक जानकारी देते हुए चन्द्रिमा बताती है कि फ्लो मेनटेन करना चाहिए। ऐसा नहीं होना चाहिए कि पहला पैरा कुछ और हो और दूसरा पैरा कुछ और। पहला दूसरे से जुड़ना चाहिए, दूसरा तीसरे से… एस्से में बिखराव नहीं होना चाहिए। इसे अधिक से अधिक प्रभावशाली बनाने के लिये जहां जरुरत हो वहां कोट्स, फैक्ट्स, डेटा और उदहारण आदि डालते रहना चाहिए। कोशिश करनी चाहिए कि पैरा अधिक लम्बा नहीं होना चाहिए। आरंभ मे बनाये गये स्ट्रक्चर के अनुसार ही आगे बढ़ना चाहिए। पहले किस पॉइंट्स को लिखना है उसके बाद कौन सा इसके मिताबिक आन्सर राइटिंग करनी चाहिए। कोई छात्र चाहे तो इसे निबंध के सबहेडिंस डाल सकता है, यह उसकी व्यक्तिगत च्वाईस होनी चाहिये।

देखें वीडियो में IAS चन्द्रिमा द्वारा दिए गए सुझाव

कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि कुछ छात्र एस्से लिखते समय विषय से भटक जाते हैं। प्रश्न कुछ और होता हैं और लिखने कुछ और लग जाते हैं। निबंध में इन्फोर्मेशन डालते वक्त ध्यान रहें कि इन्फोर्मेशन रेलिवेंट हो अर्थात आपके विषय से ही संबंधित हो। एस्से पढ़ कर ऐसा लगना चाहिए कि विषय के बारें में जानकारी है। उन्होंने बताया कि बाकी पेपर की तरह एस्से राइटिंग लिखने का भी अभ्यास करना चाहिए। यह पेपर रैंक लाने में महत्वपूर्ण भुमिका निभाता है। इसलिए इस पूरे विषय पर ध्यान देना चाहिए।

The Logically IAS चन्द्रिमा को एस्से लिखने के तरीके को बताने के लिये धन्यवाद देता है।