Monday, November 30, 2020

बीमारी के कारण लम्बे अरसे तक अस्पताल में भर्ती रहे, वहां भी पढाई करते रहे और आज IAS बन चुके हैं

जो व्यक्ति कर्म करता है उसे फल अवश्य मिलता है। हमें जीवन में कभी भी किसी भी चुनोती से पीछे नहीं हटना चाहिए बल्कि उसका सामना करना चाहिए। आज की हमारी कहानी एक ऐसे हीं व्यक्ति की हैं, जिसने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी और सफलता प्राप्त की।

नवजीवन पवार (Navjivan Pawar)

नवजीवन पवार महाराष्ट्र (Maharastra) के रहने वाले हैं। इनका जीवन समान्य नहीं था, इन्हें बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। यहां तक कि इनके भविष्य के बारे ज्योतिषी की राय थी की वो कभी सफल नहीं होंगे। लेकिन फिर भी इन्होंने कभी हार नहीं मानी।

नवजीवन का शिक्षा का सफर

नवजीवन के पिता खेती कर के घर का गुजारा करते हैं और माँ प्राथमिक विद्यालय में शिक्षिका हैं। नवजीवन का ग्रेजुएशन पूरा होने के बाद उन्होंने यूपीएससी परीक्षा देने का निश्चय किया और उसकी तैयारी करने के लिए वह दिल्ली चले गए। वहाँ जाकर उन्होंने बहुत मेहनत की और जिसमें उन्हें सबसे ज्यादा उम्मीद थी की वो सफल जरूर होंगे। डेढ़ साल बाद जब परिणाम आया तो कुछ अलग ही आया वह उसमें असफल थे। उन्हें इस बात का बहुत बड़ा झटका लगा, परंतु उन्होंने हार नहीं मानी और अपनी इस कमजोरी को हीं उन्होंने अपनी ताकत बना ली और फिर से मेहनत में जुट गए।

 Navjevan pawar

नवजीवन को हुआ डेंगू

नवजीवन रात-दिन पढ़ते हीं रहते थे। परंतु एक दिन वह अपनी क्लास खत्म कर घर आए और सोए तो 48 घंटे तक उठे ही नहीं। यह देख उनके दोस्तों को आश्चर्य हुआ कि आखिर यह सोया क्यों है? तब उनके दोस्त नवजीवन को अस्पताल लेकर गए। वह अस्पताल गए तो पता चला कि उन्हे डेंगू हुआ है। यह खबर सुनते हीं उनके परिवार वाले नवजीवन को नासिक बुला लिए और उन्हें ICU में भर्ती करा दिए।

पिता द्वारा नवजीवन को मिला सीख

इसी बीच उन्हें यूपीएससी प्री में सफलता मिल चुकी थी और मेंस एग्जाम का बस एक महीना बाकी था। नवजीवन इससे परेशान होकर अपने पिता के सामने रोने लगे तो उनके पिता ने उन्हें समझाते हुए एक मराठी कहावत कही जिसका मतलब यह था कि जब किसी पे बहुत ज्यादा मुसीबत पड़ता है तो उसके पास सिर्फ दो विकल्प होता है। पहला वह उससे लड़े और दूसरा उसके लिए रोता रहे। नवजीवन ने अपने पिता की बात समझते हुए कभी ना रोने का निश्चय और उसका डटकर सामना किया।

यह भी पढ़ें :- गांव की बदहाल स्थिति से व्यथित होकर डॉक्टर की नौकरी छोड़ बने IAS, अब ग्रामीण उत्थान पर विशेष रुप से काम कर रहे हैं

मुश्किल समय में बहन तथा भांजी ने की पूरी मदद

नवजीवन इस वक्त बहुत ही कठिन समय से गुजर रहे थे। उनके बाएं हाथ में इंजेक्शन था और डॉक्टरों ने उस हाथ को छूने से मना किया था। जिसकी वजह से वो लिख नहीं पा रहे थे। ऐसी कठिन परिस्थिति में उनकी भांजी ने उनकी बहुत मदद की वो उनके लिए नोट्स बनाया करती थी। सिर्फ इतना ही नहीं नवजीवन की छोटी बहन यूट्यूब से वीडियो सुनाया करती थीं और कोशिश करती थीं कि वह उस वीडियो को सुनकर उससे नोट्स तैयार कर उन्हें दे।

नवजीवन के दोस्तो ने भी उनकी मदद की

नवजीवन के दोस्तो ने भी उनकी पूरी मदद की। किसी ने फोन के जरिए नोट्स भेजे तो किसी ने उन्हें कॉल करके ही पढ़ाया। नवजीवन ने हॉस्पिटल में भी अपनी पढाई को जारी रखा।

 Navjevan pawar

शिक्षक ने बढ़ाया मनोबल

एक बार नवजीवन के दोस्तों ने बहुत जिद करके उन्हें एक ज्योतिषी से मिलवाया और उनका हाथ दिखाया। उस ज्योतिषी ने उनका हाथ देख कर कहा कि तुम 27 साल के पूर्व तो कलेक्टर नहीं बन सकते फिर इतनी मेहनत क्यों कर रहे हो। तुम यहां मेहनत करने नहीं बल्कि मौज-मस्ती करने आए हो। यह बात नवजीवन को बहुत बुरी लगी। उसके बाद वह अपने 1 शिक्षक के पास गए जिन्होंने उनकी पीठ थपथपाते हुए कहा तुम एक दिन सफल जरूर होंगे। इससे उनका मनोबल और बढ़ गया।

डेंगू के दौरान उन्हें एक कुत्ते ने भी काटा, साथ ही मोबाइल भी गुम हो गया था। इतने मुश्किलों के बाद भी नवजीवन ने हार नहीं मानी और अपनी कोशिशों को जारी रखा।

नवजीवन को फिल्म के डायलॉग से मिली प्रेरेना

नवजीवन बताते हैं कि उन्हें एक फिल्म के डायलॉग से बहुत प्रेरणा मिलती थी। वह डायलॉग यह था कि किसी भी चीज को अगर पूरे दिल से चाहो तो पूरी कायनात तुम्हें उससे मिलाने की कोशिश में लग जाती है। नवजीवन ने कहा कि ये बात मेरे दिमाग में हमेशा घूमता रहता। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और वो साल 2018 में IAS ऑफिसर बनें।

The logically नवजीवन पवार की हिम्मत की दाद देता है। उन्होंने जिस प्रकार हर मुसीबत का सामना किया वह हर युवा के लिए एक सीख है।

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

500 गमले और 40 तरह के पौधे, इस तरह यह परिवार अपने छत को फार्म में बदल दिया: आप भी सीखें

आजकल बहुत सारे लोग किचन गार्डनिंग, गार्डनिंग और टेरेस गार्डनिंग को अपना शौक बना रहे हैं। सभी की कोशिश हो रही है कि वह...

MS Dhoni क्रिकेट के बाद अब फार्मिंग पर दे रहे हैं ध्यान, दूध और टमाटर का कर रहे हैं बिज़नेस

आजकल सभी व्यक्ति खेती की तरफ अग्रसर हो रहें हैं। चाहे वह बड़ी नौकरी करने वाला इंसान हो, कोई उद्योगपति या फिर महिलाएं। आज...

इस दसवीं पास ने ट्रैक्टर से लेकर पावर ग्लाइडर तक बना डाले, पिछले 2 दशक में 10 अविष्कार कर चुके हैं

अगर आपमे कुछ करने की चाहत हो तो फिर आपको किसी डिग्री की ज़रूरत नही होती। डिग्री आपको सिर्फ किताबी ज्ञान दे सकती है...

थाईलैंड अमरूद, ड्रैगन फ्रूट जैसे दुर्लभ फलों की प्रजाति को ब्रम्हदेव अपने छत पर ही उगाते हैं: आप भी जानें तरीका

आज के समय मे सबकी जीवनशैली इतनी व्यस्त हैं कि हम चाह के भी अपना मनपसंद का काम नही कर पा रहे हैं या...