Tuesday, January 19, 2021

पिता दिल्ली पुलिस में ASI हैं, बेटी 6वा रैंक लाकर बनी IAS, पिता ने गर्व से किया सैल्युट: प्रेरणादायी सफर

असफलता से बिना हारे बिना डिगे प्रयास निरन्तर रूप से जारी रहते हैं तो सफलता अवश्य मिलती है। असफलता उस बारे में आपको सिखाती या सचेत करती जिसके कारण आपको हार मिलती है। असफलता पाने के बावजूद भी अपने निरंतर प्रयास से सफलता प्राप्त किया जाए तो उससे अधिक खुशी होती है। आज की यह कहानी एक ऐसे पुलिस एसिस्टेंट की बेटी की है जिन्होंने अपने दो प्रयासों के फलस्वरूप मिली असफलता से हार नहीं मानी और तीसरे प्रयास में UPSC की परीक्षा पास कर कामयाबी का मिसाल पेश किया। उन्होंने उस परीक्षा में 6वीं रैंक हासिल किया।

विशाखा यादव

विशाखा यादव (Vishakha Yadav) दिल्ली की निवासी हैं। उन्होंने अपनी शिक्षा यहीं से सम्पन्न की है। उन्होंने अपने ग्रेजुएशन सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग (Software Engineering) से किया है। विशाखा ने ग्रेजुएशन के लिए अपना दाखिला दिल्ली कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग (Delhi Collage Of Engineering) में कराया। बेंगलुरु (Bengaluru) में 2 वर्षों तक नौकरी के साथ और UPSC की तैयारी भी की।

 Vishakha Yadav

पिता हैं ASI

विशाखा यादव के पिता राजकुमार यादव (Rajkumar Yadav) द्वारिका पुलिस स्टेशन में ASI ( सहायक उप-निरीक्षक) हैं। उनका परिवार सरकारी महकमों से जुड़ा है। बचपन से ही वह बड़ा बनने की सपना देखती थीं। जब वह पिता को इस पद पर कार्य करते देखतीं तो यह सोंचतीं कि मैं एक दिन उनसे बड़ा अधिकारी जरुर बनूंगी। 10वीं कक्षा में उन्होंने यह मन बना लिया कि UPSC पास करूंगी।

यह भी पढ़े :- माँ पुलिस में दरोगा और बेटी बन गई IPS, अधिकारी बनकर बेटी ने माँ का सपना पूरा किया: नारी शक्ति

2 बार हुई हैं असफल

जब वह बेंगलुरु में जॉब कर रही थीं उस दौरान उन्होंने यह सोचा कि मैं जब तक जॉब करूंगी तब तक कुछ बड़ा नहीं कर पाऊंगी और ना ही अपना सपना पूरा कर पाऊंगी। तब उन्होंने जॉब छोड़ने का निश्चय किया। जॉब के दौरान भी वह तैयारी कर रही थीं लेकिन दो बार असफल हो चुकी थीं। UPSC परीक्षा के लिए उन्होंने उस जॉब को छोड़ा और दिल्ली आ गईं। वहां आकर उन्होंने पूरी तरह खुद को यूपीएससी की तैयारी में समर्पित करके अपनी पढ़ाई शुरू किया। अपनी तैयारी के लिए उन्होंने कोचिंग में जाना तय किया। अब उन्होंने अपना पूरा फोकस सिर्फ IAS बनने पर लगाया और तीसरी बार मे सफलता प्राप्त कर हीं लिया।

आया 6वीं रैंक

आखिरकार उन्होंने अपने तीसरे प्रयास में सफलता प्राप्त कर हीं लिया। उन्होंने UPSC के एग्जाम में 6वीं स्थान हासिल किया। जब उनकी सफलता की बात थाने में पँहुची तो वहां उनके पिता की आंखे नम हो गई। उन्होंने वहां सभी को मिठाइयां खिलाई। थाने के सभी व्यक्तियों ने विशाखा को उनकी उपलब्धि के लिए बधाई दिया।

The Logically विशाखा यादव जी को उनकी सफलता के लिए ढेर सारी बधाईयां एवं शुभकामनाएं देता है।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय