Monday, January 30, 2023

जानिए गाय का गोबर कितनी गुणकारी है, केमिकल युक्त पानी को भी साफ करता है

युग-युगांतर से हमारे देश में गाय को माता का दर्जा दिया गया है। लोगों का यह मानना है कि गौ माता में हमारे देवी-देवताओं का निवास होता है। उनके हर एक अंग में हमारे सभी देवता वास करते हैं इसीलिए गाय की पूजा की जाती है। इसके दूध में ऐसे बहुत से पौष्टिक गुण समाहित होते हैं जो मनुष्य को स्वस्थ तथा निरोगी बनाता है।

वैसे तो गांव में गाय पालन को लेकर लोगों के बीच काफी क्रेज देखने को मिलता है परंतु अब यह शहरों में भी देखा जा रहा है। सरकार के द्वारा देशी गाय पालन को प्रमोट किया जा रहा है। गाय के तहत ही जीरो बजट प्राकृतिक खेती का मॉडल तैयार हुआ है। जिससे किसान कम लागत में अच्छा लाभ कमा रहे हैं। इस प्राकृतिक खेती में गाय के गोबर तथा मूत्र बेहद उपयोगी सिद्ध हो रहे हैं। जैविक कंपोस्ट द्वारा तैयार किए गए फसल हमें अधिक ताकतवर, सेहतमंद बनाने के साथ-साथ मिट्टी को भी स्ट्रांग बनाते हैं।

यह भी पढ़ें:-अथिया शेट्टी और केएल राहुल की वेडिंग आउटफिट ने खींचा लोगों का ध्यान, बनाने में लगे थे 10 हजार घन्टे

आज के इस मॉडर्न युग में भी गाय के गोबर द्वारा सिर्फ उर्वरक ही नहीं बल्कि साबुन, दंतमंजन, सजावट के सामान, पेंट, दिए अर्क, माला, चूड़ियां आदि कई प्रकार की प्रोडक्ट का निर्माण हो रहा है। लोग भोजन बनाने हेतु गोबर गैस चूल्हे का भी उपयोग कर रहे हैं। आज भी गांव में लोग मिट्टी एवं गोबर को मिश्रित कर घर की लिपाई-पुताई करते हैं ताकि घर में कीड़े-मकोड़े नष्ट हो एवं शुद्धता कायम रहे। परंतु आज हम आपको गोबर की एक ऐसी विशेषता बताने वाले हैं जिसे सुनकर आप दंग रह जाएंगे।

गोबर द्वारा होगा पानी की अशुद्धता दूर

एक रिसर्च के दौरान यह जानकारी मिली है कि गाय का गोबर पानी में मिली अशुद्धता को दूर करने में काफी महत्वपूर्ण है। अगर आप गाय के गोबर को पानी में डालते हैं तो इससे हैवी मैटल्स एवं केमिकल्स बाहर निकलता है एवं पानी उपयोग फिर से किया जाता है। IIT IASM के वैज्ञानिकों द्वारा गाय के गोबर से ऊर्जा भंडारण हेतु एक ऐसी तकनीक का निर्माण किया गया है जो पानी में मौजूद हैवी मैटल्स तथा केमिकल्स को बाहर निकालेगा। -Benifits Of Cow Dung

रिसर्च के दौरान वैज्ञानिकों को यह जानकारी मिली है कि गोबर में नाइट्रोजन, कार्बन तथा फास्फोरस आदि जैसे कद गई खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं। जो लिग्निन, सैलूलोज तथा हेमिकेलुलोज से निकलकर विषाक्त पानी को प्यूरिफाई करेंगे। अभी यह शोध जल में चल रहा है और आगे इसका उपयोग घर के उपयोग वाले पानी मे भी होगा। -Benifits Of Cow Dung

यह भी पढ़ें:-देखिए 7 एकड़ में फैले MS Dhoni के ड्रीम हाऊस की कुछ तस्वीरें, क्रिकेटर ने खुद किया था डिजाइन: Eeja Farmhouse

हो रहा कई देशों में उपयोग

जिस तरह हम व्यवसाय को लेकर लोग पानी को दूषित कर रहे हैं ये हम सभी के लिए घातक सिद्ध होते जा रहा है। इसीलिए वैज्ञानिकों द्वारा ही शोध निकला है कि भी पानी को प्यूरिफाई करें। हमारे देश के अतिरिक्त यह कार्य मलेशिया बांग्लादेश आदि शहरों में हो रहा है। जहां लोग गोबर की के महत्व को समझ कर इससे निर्मित उत्पादों को भी महत्व दे रहे‌ हैं। रिसर्च के मुताबिक वैज्ञानिकों ने बताया कि गोबर का उपयोग ऊर्जा भंडारण हेतु होगा। ऊर्जा भंडारण करने वाले उपकरण का निर्माण अपशिष्ट पदार्थों द्वारा होगा जो कम कीमती होगा। इसकी मदद से सोलर पैनल द्वारा गांव में रौशनी भी मिलेगी। -Benifits Of Cow Dung