Wednesday, January 20, 2021

गलती से एलओसी पार कर आए इस 14 साल के बच्चे को भारतीय सेना ने गिफ्ट और चॉकलेट देकर घर भेजा

बीते कुछ दिनों पहले पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) से एक 13 साल का बच्चा एलओसी (LOC) पार कर जम्मू कश्मीर (Jammu & Kashmir) चला आया था। सेना के जवानों की जैसी ही उस पर नजर पड़ी उन्होंने बच्चे से उसके पहचान कि तफ़तीश की। बच्चे ने अपना नाम हैदर बताया।

समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें हैदर कह रहा है कि ‘वो जंगल के रास्ते आ रहा था जब वह गलती से जम्मू-कश्मीर आ गया’। उसने आगे बताया कि ‘कैसे भारतीय सेना (Indian Army) और स्थानीय पुलिस (Local police Kashmir) ने उसे ठंड से बचने के लिए कपड़े, जूते और खाने को खाना दिया’। साथ ही हैदर ने कहा कि ‘ये लोग (भारतीय सेना) अच्छे लोग हैं’।

जरूरी जांच पड़ताल के बाद सेना ने हैदर को गिफ्ट्स और चॉकलेट के साथ बॉर्डर के उस पास वापस छोड़ दिया। हैदर अब सकुशल अपने घर पहुंच चुका है।

Indian army sent 14 year Pakistani boy back at home

इससे पहले दो नाबालिग पाकिस्तानी बहने भी भटक कर पहुंची थी भारत

बता दें कि पिछले महीने भी ऐसी घटना सामने आई थी जब पीओके में रहने वाली दो नाबालिग बहनें गलती से एलओसी पार कर जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में आ गई थी। सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। लेकिन अगले दिन दोनों बहनों वापस उनके घर भेज दिया गया।

दो नाबालिग पाकिस्तानी बहनों में से बड़ी बहन लाएबा जबैर ने एएनआई से बातचीत में अच्छे व्यवहार के लिए भारतीय सेना का आभार जताया था।

यह भी पढ़ें :- आखिर कैसे सियाचिन की गलाने वाली सर्दी में भी भारतीय सेना डटकर ड्यूटी करती है: तस्वीर देखें

ऐसे भारतीय सेना की तस्वीर इनके मन में हुई साफ

एक वीडियो संदेश में उसने कहा- “हम अपने घर से भटक कर, सीमा पार करके यहां आ गए थे। हमें आर्मी वालों ने पकड़ा और थोड़ी हमारी पूछताछ हुई। हमने सोचा था कि यह लोग (भारतीय सेना) हमें मारेंगे लेकिन इन्होंने बहुत अच्छा सलूक किया। हमें इधर लेकर आए अपने पास, खाना भी खिलाया। हमने सोचा था यह लोग हमें जाने नहीं देंगे और यह आज हमें वापिस भेज रहे हैं इतनी जल्दी। यहां के लोग बहुत अच्छे हैं।”

प्रगति चौरसिया
Pragati has studied Journalism from 'Jagran Institute of Management and Mass Communication' Kanpur, and is very passionate about her profession. She has pursued internship from many reputed media houses,and has done freelancing with various news agencies. Now she is writing stories of social change, where she is involved in articles related to education, environment and impactful stories.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय