IPS puja

अक्सर हमने देखा और सुना है कि हर नवयुवक अलग-अलग लोगों को अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं। उदाहरण के लिये कोई किसी फिल्म अभिनेता को तो कोई नेता को अपना रोल मॉडल मानता है। हमें अपने जीवन में क्या करना है इसकी प्रेरणा कभी भी कहीं भी किसी से भी मील जाती है। लेकिन ज्यादातर बच्चे अपने जीवन में अपने माता-पिता से सबसे अधिक प्रेरित होते है। अक्सर बच्चे चाहते हैं कि वे अपने माता-पिता के जैसा बने या उनके सपने को पूरा करें।

आज की कहानी भी इसी से मिलती-जुलती है। आज एक ऐसी बेटी के बारें में आप सभी को जानने का मौका मिलेगा जो अपने मां को पुलिस की वर्दी में देखकर उनसे प्रेरित होकर IPS अधिकारी बन गईं। उसने वर्ष 2018 की UPSC की परीक्षा में पहले ही प्रयास मे 147वीं रैंक हासिल कर लोगों के लिए प्रेरणा की बेहद ही खुबसूरत मिसाल पेश की है।

IPS puja

आइये जानते हैं उस बहादुर बेटी के बारें में।

डॉ. पूजा (Dr. Puja) की मां का नाम रेखा गुप्ता है। वह दिल्ली पुलिस में ASI के पद पर कार्यरत हैं। पूजा के पिता का नाम राजकुमार गुप्ता है तथा वह एक प्राईवेट नौकरी करतें हैं। पूजा के अनुसार, उनकी मां जिस नौकरी में सबसे नीचे पद से आई थी, उससे प्रेरित होकर पूजा ने दृढ संकल्प किया कि वे इस नौकरी का सबसे बड़ा पद हासिल करेंगी। उनका यह दृढ संकल्प और विश्वास था जो पूजा का साहस बना रहा।

यह भी पढ़े:- अपनी हार को चुनौती देकर बनी IAS, तीन बार परीक्षा में फेल होने वाली चन्द्रिमा से जानिए सफलता के मंत्र: इंटरव्यू

आपकों बता दें कि पूजा की मां सिविल लाइंस कंट्रोल रुम में है। उन्होंने अपने बेटी पूजा के लिए कहा कि ये मेरा बच्चा ईश्वर का आशीर्वाद है, जिसने हमेशा मेरा मान बढ़ाया है। उन्होंने यह भी बताया कि जब पूजा कक्षा 6 में आई तब से अपनी स्कॉलरशीप से ही पढ़ाई कर रही है। पूजा पर कभी भी पढ़ाई के लिगे दबाव बनाने की आवश्यकता नहीं पड़ी। पूजा के सफलता हासिल करने पर उनके पिता ने बताया कि पूजा स्कूल से ही पढ़ाई-लिखाई में काफी होशियार थी। वह 10वीं कक्षा की परीक्षा में भी बहुत अच्छे नंबर से पास हुईं जिससे सभी लोगों ने मुझे बहुत बधाई दिया था। उन्होंने बताया कि मुझे पूरा विश्वास था कि वह UPSC में सफलता हासिल कर लेगी, लेकिन इतना अच्छे से पास होने की आशा नहीं थीं। वह पूरी लगन के साथ दिन-रात पढ़ाई में जुटी रहती थी।

वीडियो देखें IPS पूजा द्वारा दिए गए सुझाव

डॉ. पूजा की एक बहन है जो अभी पढ़ाई कर रही है। पूजा का परिवार इन्द्रलोग के पास त्रिनगर में रहता है। उन्होंने बताया कि UPSC का पहला प्रयास था। पूजा ने पहले ही प्रयास में ही 147वीं रैंक हासिल किया। रैंक के आधार पर ही पूजा का चयन IPS के लिये होगा। पूजा इससे पहले दिल्ली के ईएसआई से 5 वर्ष का डेंटिसट्री का कोर्स भी किया है। वह डॉक्टरी करने के दौरान भी लगातार UPSC की तैयारी कर रही थी।

डॉ. पूजा ने बताया कि मेरी मम्मी मेरे UPSC में 147वीं रैंक हासिल करने से बेहद खुश है। उन्होंने बताया कि वे बचपन से ही अपनी मां को पुलिस की वर्दी में देखी है। उन्होने महसूस किया है कि लोग वर्दी के कारण सम्मान करतें हैं। पूजा को दिल्ली पुलिस की तरफ से काफी पुरस्कार भी दिया जा चुका है। पूजा महिला अधिकारियो से बेहद प्रभावित हुईं है। अब वह इस पद पर जाकर महिलाओं के लिये कार्य करना चाहती है।

The Logically डॉ. पूजा को उनके सफलता के लिये बधाई देता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here