Sunday, November 29, 2020

गुजरात : इजराइल से खजूर की खेती सीख लाखों रुपये कमा रहे हैं, अपने उत्पाद को विदेशों में भी बेचते हैं

बहुत बार ऐसा होता है कि कोई इंसान बचपन में कुछ और सपना देखता है और बड़े होते होते वह कुछ और बन जाता है। इसी तरह ईश्वर पिंडोरिया ने भी बचपन में कमर्शियल पायलट बनने का सपना देखा था। पर आज वह एक सफल बिजनेसमैन के साथ हैं बहुत सफल किसान भी हैं। आज की कहानी ऐसी किसान की है जिन्होंने कच्छ की भूमि पर खजूर की खेती की।

ईश्वर पिंडोरिया (Ishwar Pindoria) गुजरात के कच्छ के भुज के एक गांव के रहने वाले हैं। इन्होंने अपनी पढ़ाई राजकोट से की । इनका सपना कमर्शियल पायलट बनने का था। इसके ट्रेनिंग के लिए यह बड़ौदा भी गए। पर शायद किस्मत को कुछ और मंजूर था और यह खेती की तरफ मुड़ गए। ईश्वर बताते हैं कि 2003 में इन्होंने खेती करने की योजना बनाई थी ।

dates field

इजराइल से सीखी आधुनिक खेती का तरीका

हम सब जानते है कि आधुनिक खेती के लिये इजराइल पूरे विश्व मे प्रसिद्ध हैं । खेती की नई तकनीक सीखने ईश्वर पिंडोरिया इजराइल भी गए। वहां वह अपने दोस्तो के साथ कई मशहूर और बड़े किसानों से मिले और खेती की नई तकनीक सीखी। इजराइल में इन्होंने देखा कि रेतीली भूमि और अलग जलवायु में भी खजूर की खेती हो रही थी। यह देख इन्हें कच्छ में खजूर की खेती करने का विचार आया। इन्होंने इजराइल से कुछ पौधे लाकर अपने खेत में लगाया।

यह भी पढ़ें :- औषधीय गुण वाले सर्पगन्धा की खेती कर रहा बिहार का किसान, मात्र 75 हज़ार की लागत में 3-4 लाख तक का फायदा हो रहा है

2006 में इन्होंने 40 एकड़ जमीन पड़ खजूर, अनार, आम के पौधे लगाए। अपने फार्म को सेटअप करने के लिए इजराइल की कृषि तकनीक का इस्तेमाल किया। कैलिफ़ोर्निया से इन्होंने मिट्टी की गुणवत्ता, नमी और सिंचाई के लिए इंस्ट्रूमेंट मंगवाए। ईश्वर अपने खेतो में ड्रिप इरीगेशन सिस्टम, कैनोपी मैनेजमेंट, बैंच मैनेजमेंट , पोस्ट हार्वेस्ट मैनेजमेंट, पेस्ट मैनेजमेंट और मिट्टी के न्यूट्रिशन मैनेजमेंट तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। इनका खुद का कोल्ड स्टोरेज यूनिट भी हैं। अपने खेतों में ईश्वर पिंडोरिया गोबर, किचन वेस्ट, खेतो में गिरे खजूर के पत्तो का इस्तेमाल खाद के तौर पर करते हैं। ईश्वर बताते है कि वह खेती के एक-एक प्रक्रिया पर बहुत ध्यान देते हैं। अगर एक प्रक्रिया पर भी छोटी से गलती हुई तो उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता हैं। शुरू में थोड़ी गलती के कारण उन्हें नुकसान भी हुआ हैं।

dates farming

ईश्वर के खेत मे खजूर की 2-3 वैरायटी हैं। 1 खजूर के पेड़ से 200किलो खजूर मिलता हैं। आमतौर पर खजूर 12-14g तक का होता हैं पर इनके यह खजूर 23-26g तक होता हैं। ईश्वर ने 2006 में पेड़ लगाए थे जिनपर 2008 में फल आने शुरू हो गए।

विदेशो में भी इनके फल की मांग हैं

ईश्वर पिण्डोरीया के ब्रांड का नाम हैं हेमकुंड फार्म फ्रेश (Hemkund farm fresh)। इनके फल की अच्छी गुणवत्ता के कारण इसकी मांग विदेशो में भी हैं। इनके फल भारत के बाहर निर्यात होते हैं। जर्मनी से इन्हें अच्छा फीडबैक भी मिला।

dates in market

खजूर की नई किस्म बनाने की कोशिश कर रहे हैं

ईश्वर ने अपने खेतों से 10-12 पौधे चुने हैं जिनका क्रॉस पॉलिनेशन कर कर खजूर की नई किस्म लेन की कोशिश कर रहे हैं। जिन्हें उम्मीद है कि इसमें जल्द ही सफलता मिलेगी।

श्री कच्छी लेवा पटेल मंडल की स्थापना

ईश्वर पिण्डोरीया ने कुछ प्रगतिशील किसानों के साथ मिल कर श्री कच्छी लेवा पटेल मंडल की स्थापना की है। इसका उद्देश्य ज़रूरतमंद किसानों की मदद करना हैं। यह हर साल 50 किसानों को देशभर की यात्रा करवाते है ताकि उनसब को खेती की नई जानकारी मिल सके। इस संगठन ने कृषि मेला का भी आयोजन करवाया। यहां किसान कृषि यंत्र और बीजो के लिए कंपनी से सीधा संपर्क कर सकते हैं और इन सब को डिस्काउंट पर भी खरीद सकते हैं।

dates in market

ईश्वर पिण्डोरीया (Ishwar Pindoria)कहते है कि उन्हें खेती करने से एक अलग सा सुकून मिलता हैं। इसके साथ ही वह लोगो को समय निकाल कर खेती करने की सलाह भी देते हैं। अगर आप भी ईश्वर पिण्डोरीया से बात कर खेती से जुड़ी जानकारी चाहते है तो hemkund.horticulture@gmail.com पर सम्पर्क कर सकते हैं।

मृणालिनी सिंह
मृणालिनी बिहार के छपरा की रहने वाली हैं। अपने पढाई के साथ-साथ मृणालिनी समाजिक मुद्दों से सरोकार रखती हैं और उनके बारे में अनेकों माध्यम से अपने विचार रखने की कोशिश करती हैं। अपने लेखनी के माध्यम से यह युवा लेखिका, समाजिक परिवेश में सकारात्मक भाव लाने की कोशिश करती हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

30 साल पहले माँ ने शुरू किया था मशरूम की खेती, बेटों ने उसे बना दिया बड़ा ब्रांड: खूब होती है कमाई

आज की कहानी एक ऐसी मां और बेटो की जोड़ी की है, जिन्होंने मशरूम की खेती को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया...

भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन ‘तेजस’ बन्द होने के कगार पर पहुंच चुकी है: जानिए कैसे

तकनीक के इस दौर में पहले की अपेक्षा अब हर कार्य करना सम्भव हो चुका है। बात अगर सफर की हो तो लोग पहले...

आम, अनार से लेकर इलायची तक, कुल 300 तरीकों के पौधे दिल्ली का यह युवा अपने घर पर लगा रखा है

बागबानी बहुत से लोग एक शौक़ के तौर पर करते हैं और कुछ ऐसे भी है जो तनावमुक्त रहने के लिए करते हैं। आज...

डॉक्टरी की पढ़ाई के बाद मात्र 24 की उम्र में बनी सरपंच, ग्रामीण विकास है मुख्य उद्देश्य

आज के दौर में महिलाएं पुरुषों के कदम में कदम मिलाकर चल रही हैं। समाज की दशा और दिशा दोनों को सुधारने में महिलाएं...