Tuesday, May 24, 2022

बिहार की ननद-भाभी ने किया कमाल, घर के बने अचार को पूरे देश मे बेचकर ब्रांड बना लिया: JhaJi Pickle बेचकर लाखों कमा रही

अचार का नाम सुनते हीं सभी के मुंह में पानी आ जाता है। भोजन कितना भी स्वादिष्ट क्यूं ना हो लेकिन अचार के बिना उसका स्वाद फीका पड़ हीं जाता है। इतना हीं नहीं, अगर भारतीय आचार की बात करें तो इसमें इतनी स्वाद होती है कि देशों के साथ विदेशों में भी इसको लोग बहुत पसंद करते है। आज हम बात करेंगे बिहार के दरभंगा शहर की ऐसे हीं दो महिलाओं के बारे में, जिन्होंने अचार के बिजनेस की शुरुआत करके आज लाखों का मुनाफा कमा रही है।

ननद-भाभी ने शुरू किया अचार का व्यापार

बिहार (Bihar) के दरभंगा की रहने वाली दो महिलाओं 52 वर्षीया कल्पना (Kalpna) और 51 वर्षीया उमा झा (Uma Jha) (जो रिश्ते में एक दूसरे की ननद-भाभी है) ने मिलकर ‘झाजी’ (JhaJi) नाम से अचार की ऑनलाइन बिजनेस की शुरुआत की है और अपने अचार को देशी रूप में तैयार करके पूरे देश भर में सप्लाई कर रही हैं।

कल्पना (Kalpna) ने बताया कि, वे बरसों से अचार बनाते आ रही हैं। उनके द्वारा बनाया गया अचार इतना स्वादिष्ट होता है कि, जब वे अपने रिश्तेदारों के यहां मिठाई लेके जाती हैं तो लोग कहते हैं कि मिठाई नहीं अचार लेके आया करें।

शुरू में बनाया 10 तरह के अचार

जब उन दोनो ने झाजी स्टोर (JhaJi Store) की शुरुआत किया था तो वे लोग 10 तरह के अचार हीं बनाती थीं, लेकिन अब उनके यहां 15 तरह के अचार बनते हैं। उनके यहां पांच तरह के आम के अचार, लहसुन, हरी मिर्च, गोभी, इमली की चटनी तथा कई और भी अचार बनाए जाते हैं।

कैसे आया बिजनेस का ख्याल?

कल्पना (Kalpna) ने बताया कि, मेरे पति भारतीय प्रशासनिक सेवा में थे, जिसके कारण उनका तबादला एक स्थान से दूसरे स्थान पर हुआ करता था। लेकिन पति के रिटायर होने के बाद मैने तय किया कि मुझे कोई न कई काम करनी है। उसी दौरान मेरे दिमाग में अचार बनाने का ख्याल आया और मैंने अपनी भाभी (उमा झा) को इस बारे में बताया, जो एक स्कूल में शिक्षिका थी। उन्होंने मेरा अचार बनाने में पूरा साथ दिया।

उमा ने बताया कि, मैं हमेशा से अचार बनाने की शौकीन रही हूं। मेरे द्वारा बनाए गए अचार मेरे ससुराल में सबको पसंद आते थे। आस-पड़ोस के लोग मुझसे अचार मांग कर खाते थे और मेरे द्वारा बनाए गए अचार की खूब तारीफ भी करते थे। जब कल्पना ने मेरे से अचार बनाने की सलाह मांगी तो मैने उसको तुरंत हां कर दिया।

2021 में ‘JhaJi’ स्टोर का हुआ ऑनलाइन शुरुआत

वे दोनो बताती हैं कि, हमलोगों ने वर्ष 2020 में अचार के बिज़नेस के लिए आवेदन दिया था और जून, 2021 में ‘JhaJi’ स्टोर की ऑनलाइन शुरुआत की गई।

पारंपरिक तरीके से बनाती हैं अचार

दोनो बताती हैं कि, हम पारंपरिक बिहारी तरीके से अचार बनाते है। सास और मां के द्वारा बनाई गई रेसिपी के अनुसार हम धूप में सुखाकर अचार को तैयार करते हैं।

एक बार में एक हजार किलो आचार होता है तैयार

दोनो ने अपने अचार के बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए बहुत मेहनत किया है। वे एक बार में एक हजार किलो आचार तैयार करते हैं। 250 ग्राम के जार में अचार को पैक किया जाता है तथा हर अचार की कीमत अलग-अलग होती है।

उनके द्वारा बनाए गए आचारों में सबसे महंगा अचार लहसुन का है। बता दें कि, 250 ग्राम के लहसुन अचार के पैकेट की कीमत 299 रुपये है।

मिलते है खूब ऑर्डर

जब उन्होंने ‘JhaJi’ स्टोर की शुरुआत की थी तो दो महीने में ही दो हजार ग्राहक बन गए थे। वहीं अब आचारों के ऑर्डर्स भी खूब मिल रहे हैं।

कल्पना ने बताया कि, उनको मुंबई, बेंगलुरु, दिल्ली और पश्चिम बंगाल से खूब ऑर्डर्स मिल रहे हैं। भविष्य में उनका विचार बेंगलुरु और मुंबई में वेयरहाउस भी खोलने का हैं, ताकि वे ज्यादा ऑर्डर्स की डिलीवरी समय से कर सकें।

छह लाख रुपये का है टर्नओवर

उन दोनो ने जब इस बिजनेस की शुरुआत की थी, तो उन्होंने रजिस्ट्रेशन, मार्केटिंग और सामान के लिए करीबन 10 लाख का निवेश किया था तथा अब उनका टर्नओवर छह लाख रुपये है।