Tuesday, September 28, 2021

गार्डनिंग एक्सपर्ट से जानिए इस महीने उगाई जानी वाली कुछ खास सब्जियों के बारे में

घर में उगाई गई ताजी सब्जियों की बात ही कुछ अलग होती है क्योंकि वह मौसम के अनुरूप जैविक खाद का प्रयोग कर उगाई जाती है। हालांकि आजकल बाजारों में हमेशा ही सभी मौसम की सब्जियां आसानी से मिल जा रही है। लेकिन सब्जियों उसके अनुकूल मौसम में उगाना अच्छा होता है।

कुछ महिनो बाद सर्दियों का मौसम आनेवाला हैं। ऐसे में टेरेस गार्डनिंग करनेवाले लोग ठंड में उगाई जानेवाली सब्जियों की तैयारी में लग जाते हैं। आज की जानकारी इसी संदर्भ में है। अनुपमा देसाई, जो सुरत में होम गार्डनिंग और टेरेस गार्डेन वर्कशॉप ऑर्गेनिक करती हैं, बता रही हैं सितम्बर महीने में कौन सी सब्जियां को लगाया जा सकता है।

Know about the vegetables to be sown in the month of September

अनुपमा कहती हैं कि सितम्बर से महीने में मौसम का तापमान कम होता है और नमी होने लगती है। इस मौसम में कई फूलों और सब्जियों के बीज लगाए जा सकते हैं। हालांकि सभी फसलों के लिए भिन्न जगहों पर तापमान भी अलग-अलग होता है इसलिए मौसम के अनुसार ही बीजों को लगाना चाहिए। उदाहरण के लिए मटर के पौधें ठंड में ही उगते हैं लेकिन गुजरात का तापमान इसके अनुकूल नहीं होता है। लेकिन गुजरात में गाजर, शिमला मिर्च, पत्तगोभी, ब्रॉकली, हरि मिर्च, मूली, बैंगन और टमाटर आदि के बीजों को सितम्बर में लगाने पर नम्बर, दिसंबर तक आराम से उपज मिल जाएगी।

अनुपमा के अनुसार, फूलगोभी, शिमला मिर्च, गाजर और टमाटर के बीज रोपने की विधि जानिए-

फूलगोभी और ब्रॉकली को एक समान तरीके से भी उगाया जा सकता है। इसके लिए बाजार से बीज लाने की आवश्यकता है। लेकिन यदि आपके पास घर पर बीज है तो आप इसे उसे टाईकोडर्मा पाउडर और हल्दी के पानी की कोटिंग देकर तैयार कर सकते हैं। आप चाहे तो बीज से अलग-अलग प्रकार फूलगोभी भी लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- बिना खाद और कीटनाशक के होती है इस फल की खेती, विटामिन सी का है बेहतरीन स्त्रोत : Kiwi Fruit

फूलगोभी लगाने की विधि

इसके लिए सबसे पहले एक मध्यम साइज के गमले या सप्लीमेंट्री में बीज को अंकुरित करें। बीज अंकुरण होने के बाद जब तीन से चार पत्ते निकल जाए तो उसे बड़े गमले में शिफ्ट कर दें। आप चाहे तो पुराने टब, गमले या बड़े ग्रो बैग में पॉटिंग मिक्स डालकर इसे लगा सकते हैं। पॉटिंग मिक्स तैयार करने के लिए 50% साधारण मिट्टी में कंपोस्ट मिला लें। उसके बाद एक माह तक नियमित सिंचाई करने के बाद आप देखेंगे कि पौधें तैयार हो गए हैं और लगभग 45 दिनों बाद उसमें फूल निकलने भी शुरु हो जाएंगे। फूल लगने के बाद सही खाद का इस्तेमाल करें ताकि सही समय पर फल मिलने लगे।

अक्सर पौधों में कीड़े मकोड़े लगने लगते हैं। ऐसे में पौधों को कीटों से बचाने के लिए नीम की खली जैविक कीटनाशक या गाय के दूध का छिड़काव करें।

Know about the vegetables to be sown in the month of September

गाजर का पौधा लगाने की विधि

गाजर का पौधा एक कंद होता है इसलिए इसे उसी स्थान पर लगाना चाहिए जहां आप लगाना चाहते हैं। इसके बीज का साइज काफी छोटा होता है इसलिए इसे लगाते समय इसके ऊपर अधिक मिट्टी या पानी डालने से बचे।

गाजर उगाने के लिए 18 इंच की चौड़ाई वाले या कम से कम 1 फीट की गहराई वाले कंटेनर का इस्तेमाल करें। आप चाहे तो इसे ग्रो बैग में भी उगा सकते हैं। अब इसे लगाने के लिए गमले में पॉटिंग मिक्स डालें और उसमें उंगली की सहायता से गड्ढ़ा करके बीजों को 1 इंच की दूरी पर लगाएं। अब बीज के अंकुरित होने तक हल्का हल्का पानी का छिड़काव करते रहे।

हालांकि सितंबर महीने में धूप इतनी तेज नहीं होती है इसलिए इसे सूरज की रोशनी में भी रखा जा सकता है। 45 दिन बाद गाजर के पौधें बड़े हो जाएंगे। उसके बाद आप अपनी आवश्यकतानुसार इसे निकाल सकते हैं।

Know about the vegetables to be sown in the month of September

टमाटर का पौधा लगाने की विधि

हालांकि, टमाटर के बीज घर पर भी मिल सकते हैं जिसे आप सुखाकर हल्दी की कोटिंग लगाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन यदि आप टमाटर के बीज बाहर से ला रहे हैं तो ध्यान रहे कि वह अधिक पुराने ना हो। टमाटर लगाने के लिए आप छोटे-छोटे पौधे या कंटेनर का प्रयोग कर सकते हैं।

इसे लगाने के लिए सबसे पहले एक ग्रो बैग या कंटेनर में मिट्टी डालकर गमला को तैयार कर ले। आप चाहे तो फूलगोभी या गाजर वाली पॉटिंग मिक्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। उसके बाद आप इसकी सैपलिंग तैयार करें और 1 इंच तक मिट्टी डालकर गमला तैयार करें। अब उसमें टमाटर के बीज डालकर उसके ऊपर से मिट्टी डालें। हल्का पानी का छिड़काव करते रहें, 10 दिन बाद आप देखेंगे कि बीज अंकुरित होने लगे हैं। पौधे की लंबाई 1 इंच हो जाए तो आप इसे गमले में ट्रांसफर कर दे। ध्यान रहे एक गमले में एक ही पौधा लगाएं क्योंकि यदि एक गमले में 1 से अधिक पौधे रहेंगे तो उत्पादन अच्छा नहीं होगा।

Know about the vegetables to be sown in the month of September

शिमला मिर्च के पौधे लगाने के तरीके

शिमला मिर्च और टमाटर का पौधा उगाने की विधि एक ही है लेकिन अनुपमा कहती हैं कि किसी भी मिर्च के बीज को अंकुरित होने में थोड़ा अधिक वक्त लगता है और इसके पौधे को पानी की आवश्यकता भी कम होती है। इसलिए 1 दिन बीच देकर इसमें पानी दिया जाता है। हालांकि फंगस के कारण मिर्च की पत्तियां पीली होने लगती है इसलिए आप पानी का अच्छे से ध्यान रखें। इसके अलावा शाम के वक्त उसमें दूध और पानी के मिश्रण का छिड़काव भी करें। अंत में अनुपमा कहती हैं कि इन सभी पौधों को अच्छी धूप में रखें।

Know about the vegetables to be sown in the month of September

यदि आप गार्डनिंग से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो दिए गए नम्बर पर अनुपमा देसाई से सम्पर्क कर सकते हैं।- 9427111881