Sunday, December 5, 2021

तैनाती के दौरान ख़ुद को गोली लगी थी, मेजर ने बना डाला बुलेटप्रूफ जैकेट: सेना’ध्यक्ष सम्मानित कर चुके हैं

भारतीय सेना (Indian Army) अपनी बहादुरी के लिये विश्व प्रसिद्ध है। इंडियन आर्मी दुनिया की सबसे बड़ी सेना है। हमारे देश की गरिमा, मान-सम्मान और देश के जनता की सुरक्षा करने के लिये हमारे देश के जवान दिन-रात सेवा में लगे रहतें हैं। हमारे देश के सैनिक हमारे खातिर अपने घर-परिवार, बीवी-बच्चे से दूर रहतें हैं, ताकि पूरा देश शांति और सुकून से अपनों के साथ सुकून से रह सके। देश के सैनिक देश की सुरक्षा के लिये अपने प्राण न्योछावर कर देते हैं। ऐसी सेना को जितनी बार भी नमन किया जाये कम है।

भारतीय सेना अपने जवानों और सैनिकों की रक्षा करने के लिये प्रतिबद्ध है। देश की रक्षा हेतु सैनिकों के उपयोग के लिये इंडियन आर्मी रोज नए-नए हथियार और तकनीक की खोज करती है। ऐसी ही एक खोज भारतीय सैनिक के मेजर पद पर तैनात अनुप मिश्रा (Anup Mishra) ने की है।

इंडियन आर्मी के मेजर ने बुलेटप्रूफ जैकेट का निर्माण किया है। मेजर के द्वारा निर्माण किए गए बुलेटप्रूफ जैकेट को पहनने के बाद सैनिकों पर स्नाइपर राइफल की गोली का भी असर नहीं होता है। इस बुलेटप्रूफ जैकेट का निर्माण जवानों के ऊपर होने वाले स्नाइपर हमलों से उन्हें संरक्षण देने के लिये तैयार किया गया है। अनुप मिश्रा ने सेना को जैकेट देते हुआ बताया कि इस बुलेटप्रूफ जैकेट को पहनने के बाद यदि कोई 10 मीटर की दूरी से स्पाइनर से निशाना लगाये तो जैकेट पर उस गोली का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

आपकों बता दे कि अनुप मिश्रा की जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में पोस्टिंग के वक्त सर्च ऑपरेशन के दौरान उन्हें गोली लग गई थी। हालांकि उन्होंने बुलेटप्रूफ जैकेट पहना हुआ था, इसलिए अधिक नुकसान नहीं हुआ और वे सलामत रहे। लेकिन वह समय और अनुभव बेहद दर्द भरा था। उन्होंने अपने दर्द भरे एहसास की वजह से निश्चय किया कि वे एक ऐसे बुलेटप्रूफ जैकेट का निर्माण करेंगे जिसको धारण करने से बहादुर सैनिकों की सुरक्षा होगी और इसके साथ ही ट्रामा भी कम व्यथा देगा।


यह भी पढ़े :- दादा भी फ़ौज में थे, अब पोता भी चीनी सैनिकों के ख़िलाफ़ चल रहे जंग में हुआ शहीद: शहादत को नमन


जनरल बिपिन रावत द्वारा किये गये सम्मानित।

मेजर द्वारा बनाये गये इस जैकेट की तारिफ हर कोई कर रहा है। आर्मी टेक्नोलॉजी सेमिनार में अनुप मिश्रा को इस जैकेट को बनाने के लिये थल सेना के अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) के द्वारा सम्मानित भी किया गया है। अनुप मिश्रा को “आर्मी डिजाइन ब्यूरो एक्सीलेंस अवार्ड” से नवाजा गया।

अनुप मिश्रा ने बताया कि पुणे में मिलिट्री इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई के वक्त उन्होंने लेबल 4 की बुलेटप्रूफ जैकेट को तैयार किया है। इस जैकेट की खास बात यह है कि यह जैकेट स्नाइपर राइफल बुलेट से होने वाले हमलों से सुरक्षा देती है। भारत विश्व में तीसरे स्थान पर है, ऐसी बुलेटप्रूूफ जैकेट बनाने में। उन्होंने आगे बताया, “LOC (Line of Control) और कश्मीर घाटी में देश के सैनिकों पर हो रहें स्नाइपर हमलों से बचाव करने के लिये जवानों को फुल बॉडी प्रोटेक्शन वाली जैकेट की आवश्यकता है।”

भारतीय सेना इस जैकेट के लिये शीघ्र ही टेंडर दे सकती है, जिससे 24 घंटे देश की सुरक्षा में डटे रहे बहादुर जवानों की रक्षा हो सकें। टेंडर के जारी होने के बाद शीघ्र ही सैनिकों को इस बुलेटप्रूफ जैकेट की सुरक्षा मिल जायेगी। जिससे वे ख़ुद को थोड़ा और शक्तिशाली महसूस रहेंगे।

The Logically अनुप मिश्रा की ऐसी अति सुरक्षित जैकेट का निर्माण करने के लिये धन्यवाद देता है।