Sunday, October 24, 2021

लंदन में मिल रही करोड़ों की सैलरी ठुकराकर शुरू किया अपना कारोबार, अचार बेचकर 3 साल में कमाए 1 करोड़ रुपये

हर व्यक्ति का एक प्लान होता है कि वह अपने जीवन में क्या करेगा और कैसे आगे बढ़ेगा, पर कभी कभी जैसा हम सोचते हैं वैसा होता नहीं है। कुछ ऐसा ही दिल्ली की रहने वाली निहारिका भार्गव के साथ हुआ है। निहारिका लंदन से मार्केटिंग की डिग्री हासिल कर चुकी थी फिर भी उन्होंने अपने पिता के साथ मिलकर अचार का बिजनेस शुरू किया।

पिता के पैशन को बनाया अपना प्रोफेशन

निहारिका भार्गव (Niharika Bhargav) के पिता जी को शुरू से ही अचार बनाने का बेहद शौक था। वे अकसर आचार बनाकर रिश्तेदारों में उपहार के तौर पर बांट देते थे और उनके बनाए गए आचार की लोग बेसब्री से इंतजार भी करते थे। निहारिका ने जब अपनी पढ़ाई पूरी कर ली तब कुछ वर्षो के एक्सपीरियंस के साथ उन्होंने सोचा कि क्यों ना हम अपना खुद का बिजनेस शुरू करे और दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाए।

Niharika Bhargav starts her own pickle company the little farm co. after returning from London

अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए छोड़ी नौकरी

दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर चुकी निहारिका ने वर्ष 2015 में लंदन से मार्केटिंग स्ट्रैटजी एंड इनोवेशन (marketing strategy and innovation) में अपनी मास्टर्स की डिग्री प्राप्त की और भारत वापस लौट आई।

शुरू किया अपनी कंपनी

यहां आकर उन्होंने गुड़गांव में ही एक मल्टीनेशन कंपनी में नौकरी करना शुरू कर दिया। इस कंपनी में सैलरी से लेकर हर सुख सुविधाएं उपलब्ध थीं परंतु अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए निहारिका ने मात्र एक साल के बाद ही अपनी जॉब छोड़ दी और अपने पिता के साथ मिलकर अचार के बिजनेस को अच्छी तरह से शुरुआत की।

यह भी पढ़ें :- एक हाउसवाइफ का कार्य करते हुए महिला ने बनाया बेबी प्रोडक्ट्स, आज लाखों में है कमाई

इनके बनाए हुए आचार को खुब पसंद करते हैं लोग

निहारिका भार्गव ने बिज़नेस में आने से पहले इसके बारे में काफी रिसर्च किया उसके बाद ही इस बिज़नेस को आगे बढ़ाया। कई लोगों से बात करते हुए उन्हें जानकारी प्राप्त हुई कि घर पर बनाए हुए अचार लोगों को बेहद पसंद आती हैं।

पिता के साथ मिलकर खड़ा किया बिजनेस

निहारिका ने यह सोचते हुए बिजनेस की शुरुआत किया कि वह घर की बनाई हुई शुद्ध अचार लोगों तक पहुचाएंगी। इस प्लान के साथ उन्होंने अपने पिता से आचार बनाने के तरीके सीखे और फिर इसे एक बड़े बिजनेस का नाम दिया।

Niharika Bhargav starts her own pickle company the little farm co. after returning from London

बिजनेस को लेकर था संदेह पर नहीं मानी हार

निहारिका ने जब बिज़नेस की शुरुआत किया तब उन्हें इस पर संदेह था कि यह कामयाब होगा या नहीं पर इन्होंने हिम्मत नहीं हारी और इसे जारी रखा। शुरुआती दिनों में दिल्ली और उसके आस पास के क्षेत्रों में जो प्रदर्शन (Exhibition) लगाया जाता है वहीं जाकर वह भी अपना अचार का स्टॉल लगाती थी।

लोगों का मिला अच्छा रिस्पॉन्स

धीरे-धीरे लोगों का रिस्पोंस भी मिलने लगा। जब उन्हें लगा कि लोगों को इनके बनाए हुए अचार पसंद आ रहे है, तो इन्होंने लोकल मार्केट में भी अचार देना आरंभ कर दिया।

शूरू किया ऑनलाइन मार्केटिंग

वर्ष 2017 में The Little Farm Co. नाम से में कम्पनी की शुरुआत हुई। इस कंपनी की शुरुआत गुडगांव में किया गया। इसके बाद निहारिका ने अपने प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन मार्केटिंग करना आरंभ किया। धीरे-धीरे कुछ ही सालों बाद उनकी कंपनी का टर्नओवर लगभग एक करोड़ तक जा पहुंचा।

यह भी पढ़ें :- 3 लाख से करोड़ों तक का सफर, जानिए एक देसी स्टार्टअप ने कैसे यह छलांग पाया

कई प्रकार के अचार है उपल्ब्ध

आपको बता दें कि आज के समय में करीब 50 से अधिक वैरायटी वाले अचार मौजूद है, जिसमें से हर किस्म की अचार को लोग पसंद करते हैं परंतु सबसे अधिक डिमांड गुड़ के अचार के लिए मिलता है। इतना ही नहीं इस कम्पनी में सरसों तेल, साबुत मिर्च पाउडर, जैम और हल्दी भी बेची जाती है।

करना था कुछ अलग

वैसे तो ना जाने कितने लोग है, जो अपना बिज़नेस करना चाहते हैं पर हर किसी का सही तरीके से बिजनेस चला पाना थोड़ी मुश्किल हो जाता है। निहारिका को और लोगों से थोड़ा अलग करना था, जिससे वे ग्राहक (customer) का भरोसा जीत सके।

अलग पहचा के लिए संघर्ष

अपनी अलग पहचान बनाने के लिए इन्होंने अचार में लगने वाले सामग्री पूरी तरह आर्गेनिक तरीके से उगाया जाता है। इन्हें ऐसे प्रोडक्ट बिलकुल पसंद नहीं है जिसमें एडिटिव अथवा प्रिजर्वेटिव का उपयोग किया जाता है।

खुद करते हैं खेती

निहारिका के पिता मध्यप्रदेश के खजुराहो में स्थित करीब 50 एकड़ का फर्म में हर साल करीब 30 टन से भी अधिक का उत्पादन (Production) करते हैं। वहां आम, नींबू, हल्दी, आंवला, मिर्च, अदरक आदि की खेती की जाती है और इनका ही उपयोग अचार बनाने के लिए किया जाता हैं।

Niharika Bhargav starts her own pickle company the little farm co. after returning from London

महिलाओं की भी बदल रही है जिंदगी

आपको बता दें कि निहरिका के साथ ज्यादातर महिलाएं कार्य करती है। अभी तक यहां 15 से अधिक महिलाएं अथवा 3 से चार पुरुष काम करते हैं। इन्होंने अपने संस्था को NGO के साथ साझेदारी भी किया है, जो महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने में मदद करता है।

जैविक तरीके से उगाए जाते है फल और सब्जियां

फिलहाल The Little Farm Co. के पास क़रीब 400 एकड़ में खेत है, जो प्रदूषणरहित नदियों के जरिए पोषित है। इतना ही कुछ ऐसे भी जगह है जो सबसे अधिक प्रदूषण मुक्त है। वह स्थान सरकार के आधिकारिक वन भूमि की सीमा से सटे हुए हैं।

शरबत भी हैं उपलब्ध

इस क्षेत्र में कोई भी औद्योगिक गतिविधि के द्वारा खेती नहीं की जाती है बल्कि जैविक तरीके से फल, सब्जियां और मसाले उगाए जाते हैं। इसके साथ ही कंपनी अलग अलग प्रकार के शर्बत, स्नैक्स जैसे पंपकिन सीड्स भी बनाती है।

The Little Farm Co. के बारे में और अधिक जानकारी के लिए www.thelittlefarm.co.in पर जाएं।

The Little Farm Co. के प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन (online) खरीदने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें –