Pallavi Utagi started Super Bottoms

हमारे यहाँ पिछले कुछ वर्षों में एक स्वागत योग्य विकास में कई भारतीय महिलाएं का बहुत बड़ा योगदान है। महिलाओं के लिए अपने बच्चे के एक साथ जन्म और एक महान व्यावसायिक विचार के बीच कुशलता से संतुलन बहुत चुनौतीपूर्ण होता है। आज हम बात करेंगे, पल्लवी उतागी (Pallavi Utagi) नामक एक महिला के बारे में। जिन्होंने एक ऐसा डायपर लॉन्च किया है, जो एक डिस्पोजेबल डायपर और एक लंगोट जैसा आरामदायक है और आज अपने बिज़नेस के बदौलत करोड़ों में खेल रही है।

तो आइए जानते हैं पल्लवी के बिजनेस से जुड़ी सभी जानकारियां।

Pallavi Utagi started Super Bottoms
Pallavi Utagi- Super Bottoms

कौन है पल्लवी उतागी?

पल्लवी उतागी (Pallavi Utagi) एक पढ़ी लिखी महिला है। उन्होंनें मुंबई से एमबीए किया और एक ब्रांड-मैनेजर के रूप में काम करना शुरू किया। उन्होंने आईपिल, आईकैन और आईश्योर जैसे कई असामान्य ब्रांडों के लिए काम किया। एक ब्रांड-मैनेजर के रूप में रूप में वे अच्छा प्रदर्शन की और अच्छी प्रतिष्ठा पायीं। इसके बाद, पल्लवी की शादी हो गई। शादी और उसके बाद के मातृत्व ने उनको नौकरी छोड़ने पर मजबूर कर दिया। लेकिन जीवन रूपी संघर्ष में उन्होंने हार नहीं मानी। वे बताती है कि, उन्होंनें अपने बच्चे के जन्म के बाद एक बात पर हमेशा से ध्यान दिया कि आज के समय में डायपर बच्चे की त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं। अब पहले वाली बात नहीं है कि बच्चे को प्रथागत ‘लंगोट’ पहनाया जाए, क्योंकि लंगोट को बार-बार बदलने की आवश्यकता होती है। पल्लवी ने एक ऐसी सामग्री पर शोध किया जो बहुत ज्यादा भिगोने लायक है। उन्होंनें अपना ब्रांड का नाम ‘सुपरबॉटम्स’ रखा। वे एक डायपर लॉन्च की, जो एक डिस्पोजेबल डायपर और एक लंगोट जैसा आरामदायक है। पल्लवी के अनुसार, उनके इस बिजनेस का एक मुख्य और अहम मुद्दा पर्यावरण पर खतरनाक प्रभाव था जो डिस्पोजेबल डायपर के कारण होता है।

यह भी पढ़ें :- गधे के दूध से शुरू किया सौंदर्य उत्पादन बनाने का व्यापार, अब कमा रहे लाखों रुपये: Startup Story

Pallavi Utagi started Super Bottoms
Pallavi Utagi- Super Bottoms

शुरूआत में बहुत डिमांड मिली

पल्लवी ने बताया कि उनके ब्रांड को शुरू में अच्छी प्रतिक्रिया मिली थी, लेकिन एक माॅ की महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों को देखते हुए पल्लवी के लिए व्यवसाय को बनाए रखना और उसे बढ़ाना आसान नहीं था, लेकिन एक ब्रांड-मैनेजर के रूप में उसका अनुभव काम आया और उसने विकसित करने के लिए एक स्मार्ट मार्केटिंग मॉडल का इस्तेमाल किया। उन्होंने फेसबुक और व्हाट्सएप समुदाय बनाकर कई माता-पिता को जोड़ा और उसके बाद नए-नए माता-पिता के साथ बातचीत करना शुरू कर दिया। पल्लवी के अच्छे संचार कौशल के साथ विचार ने उन्हें सार्थक बातचीत शुरू करने और अपने ब्रांड के लिए अच्छा व्यवसाय बनाने में मदद की। उनका यह प्रयास तब फलीभूत हुआ जब उन्हें ढेरों तारीफें मिलने लगीं।

Pallavi Utagi started Super Bottoms
Pallavi Utagi- Super Bottoms

चुनौतियों का सामना करना पड़ा

पल्लवी बताती है कि, एक बार जुड़वां बच्चों के माता-पिता ने उन्हें चुनौती दी कि यह डायपर पूरी रात नहीं टिकेगा। लेकिन अगली सुबह उसने मुझे बुलाया और कहा कि वास्तव में यह डायपर एक रात तक चली। पल्लवी के अनुसार उनके लिए यह सबसे जबरदस्त तारीफ थी और इस तारीफ़ से उन्हें अपने विचार पर विश्वास हुई।

Pallavi Utagi started Super Bottoms
Pallavi Utagi- Super Bottoms

पल्लवी उन महिलाओं में से एक हैं जो एक बच्चे के साथ ही साथ एक व्यावसायिक विचार की मिसाल कायम करती हैं। एक व्यावसायिक विचार जो सबके सामने व्यक्तिगत कठिनाई से निकला है, ऐसी विचार अब एक लाख से अधिक ग्राहकों की सेवा करने वाले एक करोड़ के बिजनेस ब्रांड में बदल गया है। उनका ब्रांड हर साल पांच गुना की भारी गति से बढ़ रहा है। पल्लवी अब इसे एक करोड़ रुपये बनाने की दिशा में लगातार काम कर रही है। 2023 के अंत तक 100 करोड़ का राजस्व ब्रांड करने का इरादा रखी हैं। अब पल्लवी, जीवन में अर्जित कौशल का उचित उपयोग करने और किसी समस्या का निवारण करने का एक उदाहरण बन चुकी हैं। पल्लवी की कहानी कई माताओं को ‘मॉम्प्रेन्योर’ बनने के लिए प्रेरित करने के लिए उपयुक्त है।