कुछ लोग चाहते हैं कि वे जो कार्य कर रहें हैं, वहीं उनका बच्चा भी करे। बहुत बच्चे अपने पिता जैसा कार्य कर उनके समान बनते हैं और कुछ उनसे भी ऊंची उड़ान भरते हैं। वहीं कुछ ऐसे भी बच्चे होते हैं जो परिवार में पीढ़ियों से चले आ रहे काम को ना कहकर अपने सपने बुनते हैं और उन्हें पूरा करते हैं। ऐसे ही कुछ लोग यह भी कहते हैं कि किसान का बेटा अपने पिता का ही गुण सीखेगा। अगर बेटी है तो समाज की सोच कुछ ज़्यादा ही कठोर हो जाती है। लेकिन यह सच है कि अगर कोई व्यक्ति किसी काम को करने की ठान लें तो किसी भी हालत में उसे पूरा कर ही लेता है।

आज की यह कहानी किसान के बेटी की है, जिसका सपना है कि वह IAS बनें और वह इसके लिए कठिन परिश्रम भी कर रही। इस लड़की ने अपनी मेहनत से UPSC पास कर PCS बनीं और IAS बनने का कार्य भी जारी है।आइये पढ़ते हैं फिर इनकी पूरी कहानी।

तान्या सिंह

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के जलेसर (Jalesar) से सम्बंध रखने वाली तान्या सिंह (Tanya Singh) का जन्म किसान परिवार में हुआ था। इनके पिता रविन्द्र सिंह (Ravindra Singh) किसान और माँ Assistant teacher हैं। इनके 3 छोटे भाई भी हैं। इनका यह गांव शिक्षा के महत्व को अच्छी तरह नहीं जानता है। वहां लोगों को पढ़ाई-लिखाई करना ठीक नहीं लगता। इस कारण इन्हें अपनी पढ़ाई में बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। इनके यहां लड़कियों को बाहर निकलना गलत माना जाता है। लोगो की सोच अब भी पहले जैसी ही है। लेकिन तान्या इस बात से बहुत खुश है कि इनके पैरेंट्स ने इन्हें समझा, इन्हें इतनी आजादी दी कि इन्होंने अपने सपनों को पूरा किया। अपनी सफलता का पूरा श्रेय तान्या अपने पैरेंट्स को ही देती हैं।

तान्या की शिक्षा

तान्या ने अपनी शुरुआती पढ़ाई जवाहर नवोदय विद्यालय (Jawahar Navodaya Vidyalaya)
से पूरी की। आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने बीएचयू (Banaras Hindu University) में दाखिला लिया और 2016 में B.Sc सम्पन्न की। जब ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी हुई तब आगे UPSC के बारे में सोचने लगी। इसकी तैयारी के लिए यह दिल्ली आईं और यहां Jawaharlal Nehru यूनिवर्सिटी में Philosophy में ऑप्शनल को चुना। इतना ही नहीं यह PHD भी कर रहीं हैं।


यह भी पढ़े :- पिता थे बस कंडक्टर, आभाव में जीने के बाद भी बेटी बन गई IPS अधिकारी, कर रही हैं देश सेवा: IPS Shalini


PSC का आया रिजल्ट

तान्या ने अपनी मेहनत से वर्ष 2018 में PSC परीक्षा को पास कर 30वीं रैंक हासिल की। परिणाम आने पर इनके साथ इनके परिवार वालों की खुशी का अंदाजा लगाना मुश्किल था। इस सफलता के बाद यह UPSC की तैयारी में लगीं हैं। अगले महीने इनकी प्रीलिम्स का एग्जाम भी है और इसके लिए यह जी-तोड़ मेहनत कर रहीं हैं। वह IAS बनकर अपने गांव में लोगों को दिखाना चाहती हैं कि लड़कियों को अगर उनके सपनों को पूरा करने का हक दिया जाये तो वह जरूर उसे हासिल करेंगी।

तान्या अपने गांव की पहली लड़की हैं जिन्होंने UPSC पास किया और आगे IAS बनने का सपना देख रही है। इनकी इस उपलब्धि पर गांव में इनकी बातें भी होती है कि इन्होंने हमारे परम्परा को तोड़ा। तान्या को उनकी उपलब्धि के लिए The Logically ढ़ेर सारी शुभकामनाएं देता है और IAS बनने की कामना करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here