Sunday, December 5, 2021

देश को मिली पहली महिला फाइटर पायलट, बनारस की बेटी शिवांगी का चयन राफेल के लिए हुआ

भारतीय सेना अपनी सैन्य ताकत बढ़ा रही है। जैसा की आप सभी जानतें हैं भारत और चीन के बीच संबंध अच्छे नहीं चल रहें। दोनों देशों के बीच LAC को लेकर विवाद चल रहा है। ऐसे में दोनों देश LAC पर अपनी-अपनी सेना की तैनाती को बढ़ा दिया है। वहीं भारत अपनी सैन्य शक्ति को बढ़ाने के लिये राफेल (लड़ाकू_विमान) भी खरीदा रहा हैं। कुछ राफेल आ गए हैं और कुछ आना अभी शेष है। कुछ दिनों पहले ही भारतीय सेना में राफेल को शामिल किया गया हैं। इन सब के दौरान हमारे देश की बेटियों को भी देश सेवा का मौका मिल रहा है। हमारे देश की बेटी अब राफेल फाइटर विमान भी उड़ाएंगी और दुश्मनों से देश की रक्षा भी करेंगी।

हम आपको अपने देश की ऐसी बेटी के बारें में बताने जा रहें है जिसके बारें में सुन कर सभी का सर गर्व से ऊपर उठ जायेगा।

गर्व की बात है हमारे देश के सबसे पुराने शहर वाराणसी (Varanasi) की रहने वाली शिवांगी सिंह को राफेल फाइटर विमान को उड़ाने का मौका मिला है। शिवांगी सिंह देश की पहली महिला फाइटर पायलट बनने जा रही है। फाइटर प्लेन राफेल को उड़ाने वाले सभी परीक्षाओं में उतीर्ण होने के बाद देश की बेटी शिवांगी को राफेल उड़ाने का अवसर मिला है जो दूसरे देश से हमारे देश की रक्षा करेगा। फ्लाइट लेफ्टिनेंट (Flight Lieutenant) शिवांगी सिंह First Rafale Women Fighter Pilot बनने जा रही है।

फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह (Shivangi Singh) का जन्म वाराणसी के फुलवरिया क्षेत्र के एक साधारण परिवार में हुआ है। शिवांगी उस समय सुर्खियों में आई जब वह पहली महिला पायलट बनी। उसके बाद अब शिवांगी के सर एक और ताज सजने जा रहा है। वह राफेल फाइटर प्लेन को उड़ाने वाली स्क्वाड्रन में शामिल होने जा रही है।

फ्लाइट लेफ्टिनेंट (Flight Lieutenant) शिवांगी सिंह के इस कीर्तिमान को देखकर उनके परिवार में खुशियां छा गईं हैं। उनके पूरे परिवार और क्षेत्र में खुशी का माहौल छाया हुआ है। या यूं कहें कि पूरा देश अपनी बेटी के कीर्तिमान के लिये बहुत ही आनंद का अनुभव कर रहा है।

शिवांगी की मां सीमा सिंह का कहना है, “अपनी बेटी को अपने देश के लिये दुश्मनों से लड़ाई लड़ना और देश की रक्षा करते हुयें देखकर मेरी खुशी का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है।” शिवांगी की मां ने आगे बताया कि, वह उस वक्त भी बहुत आनंद महसूस कर रही थी जब हैदराबाद में शिवांगी को एयरफोर्स ने कमीशंड किया था। उनका कहना है कि स्कूल, कॉलेज, NCC और एयरफोर्स तक शिवांगी ने अपना एयर अपने परिवार का नाम गर्व से ऊंचा किया है। अब शिवांगी दुश्मनों से अपने देश की हिफाजत करेगी।

शिवांगी के छोटे भाई मयंक ने बताया कि उन्हें अपनी दीदी से आर्मी में जाने की प्रेरणा मिली है। मयंक अपनी बहन शिवांगी से प्रेरित होकर NDA ज्वाइन करने की चाह रखते हैं। मयंक ने अपनी दीदी के बारे में बताया कि उनके नानाजी कर्नल थे तब वह शिवांगी को लेकर एयरफोर्स बेस के लेकर गये थे। वहां शिवांगी ने पायलट को यूनिफॉर्म में देखा, उसी वक्त से उन्होंने एयरफोर्स में जाने का दृढ़-निश्चय कर लिया था।


यह भी पढ़े :- यह दो महिलाएं उड़ाएंगी फाइटर जहाज़, भारतीय नौ सेना ने अपने लड़ाकू विभाग में इन्हें शामिल किया


फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी के पिता का नाम सुशील सिंह है। सुशील सिंह का कहना है कि अपनी बेटी को देश की सेवा के लिये समर्पित होते देखकर बहुत ही खुशी और आनंद का अनुभव हो रहा है। इसके साथ ही बहुत गर्व की भी अनुभूति हो रही है। पूरे परिवार ने हमेशा से शिवांगी के मनोबल को बढ़ाया है। उन्होनें आगे बताया कि, लोगों के कुनबे की पहचान उसके बेटे से मिलती है लेकिन उन्हें पहचान अपनी बेटी से मिल रही है यह बहुत सौभाग्य और गर्व की बात है।

शिवांगी को उनके बचपन से देखने वाले उनके पड़ोसी और परिजनों में से सुधीर सिंह ने बताया कि शिवांगी हमेशा से सिर्फ अपनी पढ़ाई और खेलकूद पर फोकस करती थी। वह शुरु से ही अपने लक्ष्य के प्रति अपने ध्यान को एकाग्र रखती है। वहीं फाइटर लेफ्टिनेंट शिवांगी से उम्र में छोटी और रिश्ते में बुआ लगने वाली जान्हवी का कहना है कि शिवांगी दीदी ने इस बात को एक बार फिर से सही साबित कर दिखाया है कि लड़कियां किसी भी क्षेत्र में अपना हुनर दिखा सकती हैं और वह किसी भी क्षेत्र में किसी से पीछे नहीं हैं।

The Logically को अपने देश की बेटी शिवांगी सिंह जो फाइटर प्लेन राफेल उड़ाने जा रही है, उन पर बहुत गर्व हो रहा है। शिवांगी के देश के प्रति समर्पण भाव और देश की सुरक्षा करने के लिये उन्हें हृदय से नमन करता है।