Saturday, December 3, 2022

पोलियो से ग्रसित शख्स ने अकेले ही कर दी गांव की बदहाल सड़क की मरम्मत, लोग कर रहे तारिफ

किसी ने बहुत खूबसूरत बात कही है, परिवर्तन लाने के लिए भीड़ की जरुरत नहीं है, इन्सान अगर ठान ले तो अकेले भी बदलाव ला सकता है। इसका उदाहरण दशरथ मांझी और गौरी नायक जैसे अन्य कई व्यक्ति हैं जिन्होंने अकेले अपने दम पर बदलाव लाकर साबित कर दिया कि अकेला इंसान भी बदलाव ला सकता है। एक बार फिर से इस कथन को एक दिव्यांग व्यक्ति ने सही साबित कर दिखाया है।

दिव्यांग व्यक्ति ने अकेले कर दिया सड़क की मरम्मत

गणेश नाईक (Ganesh Naik) जो धर्मगढ़ प्रखंड के केरमुंडा गांव के रहनेवाले हैं और सब्जी बेचकर अपना जीवनयापन करते हैं। इन दिनों वे काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं जिसकी वजह यह है कि उन्होंने शरीर से असक्षम होने के बाद भी अकेले अपने दम पर बदहाल पड़ी सड़क की मरम्मत करके उसे सही कर दिया है। Polio Afflicted Ganesh Naik Repairs Bad Road.

दिव्यांगता को मात देकर खुद ही लिया सड़क की मरम्मत करने की जिम्मेदारी

गणेश नाईक को बचपन में ही पोलिया की बीमारी लग गई जिस वजह से उन्हें शारिरीक कष्टों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में पोलियो ग्रस्त होने की वजह से वे एक जगह से दूसरे जगह जाने के लिए ट्राईसाइकिल का प्रयोग करते हैं। इसी के सहारे वे अलग-अलग जगहों पर जाकर सब्जी बेचते हैं और गुजारा करते हैं। एक स्वस्थ इन्सान भी कई बार राह चलते गिर जाता है ऐसे में आप समझ सकते हैं कि एक दिव्यांग व्यक्ति के लिए चलना-फिरना कितना मुश्किल भरा काम है।

रिपोर्ट के अनुसार, केरमुंडा से लेकर जोरपाड़ा तक जानेवाली सड़क की स्थिति इतनी खराब थी कि आने-जाने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस सड़क से गुजरते हुए कई बार गणेश के साथ भी घटना घट गई, जिससे उन्हें बार-बार शारिरीक कष्टों की सहना पड़ता था। बारम्बार खराब सड़क से होनेवाली असुविधाओं से तंग आकर 31 वर्षीय गणेश ने खुद ही अकेले उसे ठीक करने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें:- IITian ChaiWala: IIT और NIT के छात्रों ने खोला टी स्टॉल, कुल्हड़ में मिलती है 10 अलग-अलग फ्लेवर की चाय

सड़क की मरम्मत करने के लिए नहीं ली किसी की भी मदद

गणेश नाईक (Ganesh Naik) ने दिव्यांगता को मात देते हुए किसी की भी सहायता नहीं ली और अकेले ही बदहाल पड़ी सड़क की मरम्मत करने लगे और देखते ही देखते सड़क पर पड़े गड्डे सही हो गए। सड़क की स्थिति सही करने के लिए जीतने भी सामग्री की आवश्यकता पड़ी उन सभी को लाने के लिए उन्होंने अपने ट्राईसाइकिल का प्रयोग किया।

सोशल मीडिया पर वायरल हो गया वीडियो

बदहाल पड़ी गांव की सड़क की मरम्मत करने के बारें में बात करते हुए श्याम सुन्दर जो स्थानीय समाजिक कार्यकर्ता हैं, ने कहा कि जब गणेश नाईक द्वारा सड़क को ठीक करने का कार्य किया जा रहा था उस दौरान किसी व्यक्ति ने उनका वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर करते ही वह वायरल होने लगा। इस घटना के बाद ब्लॉक और पंचायत अधिकारी भी गाँव के दौरे पर आए और उन्होंने सड़कों का मुआयना किया। उसके बाद उन्होंने सड़क के खराब पड़े हिस्सों पर क्रशर की धूल डाला।

स्थानीय समाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि, गणेश ने जिस तरह दिव्यांग होने के बाद भी जिस तरह सड़कों की मरम्मत की है उससे लोगों को सबक लेनी चाहिए। इस घटना के बाद पंचायत अधिकारियों को इस समस्या को ध्यान रखते हुए पक्की सड़क का निर्माण करवाना चाहिए। Polio Afflicted Ganesh Naik repairs bad Road

वास्तव में गणेश नाईक ने जिस तरह बिना किसी की मदद लिए अकेले सड़क की मरम्मत की वह तारीफे काबिल है। The Logically इस काम के लिए उनकी प्रशंशा करता है।