Sunday, September 19, 2021

इस महिला ने अपने छत पर शुरू किए अनेकों फल और सब्जियों की खेती, अनेको लोगों को सीखा रही हैं इसके गुड़

यदि इंसान में काबिलियत हो और उसके अनुरूप इंसान प्रयास करें तो अद्भुत कार्य भी किया जा सकता है और इंसान उसमें सफलता भी हासिल कर सकता है। यूं तो सेब को जमीन पर उगाते हुए तो बहुत लोग देखे होंगे या उपजाए होंगे, सेब के बगान देखें होंगे या लगाए होंगे लेकिन छत्तीसगढ़ में एक महिला ऐसी हैं जिन्होंने अपने छत पर सेब के पेड़ लगाये हैं। साथ हीं वे कई तरह के फल, सब्जी व मेडिसीन उत्पाद की खेती कर रही हैं। क्या आपको विश्वास होगा? शायद नहीं हो.. लेकिन यह सत्य है, इस अद्भुत कार्य को फलिभूत किया है भोपाल की महिला पुष्पा साहू ने। तो आईए जानते हैं कि पुष्पा साहू ने आखिर किस तरह अपनी छत पर इतने तरह के उत्पाद तैयार कर रही हैं…

पुष्पा साहू (Pushpa Sahu) अपने परिवार के साथ भोपाल (Bhopal) में रहती हैं। इन्होंने अपने घर के छत पर विभिन्न प्रकार के सब्जियों और फलों के साथ सेब को उगाकर एक अद्भुत कार्य किया है, जिससे कृषि विशेषज्ञ इस पर शोध कर रहे हैं। ‘इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय’ के प्रमुख वैज्ञानिक ‘डॉ.कृष्ण कुमार साहू’ ने बताया कि यहां आने वाले समय में सेब की खेती अत्यधिक मात्रा में किये जाने की संभावना है। 

पुष्पा साहू ने घर की छत पर हीं बनाए गार्डन में 100 से भी अधिक गमलों में फल और सब्जियों के पौधे लगाए हैं। गमले के अलावा पौधे लगाने के लिए ट्रे और प्लास्टिक केन का भी इस्तेमाल किया जाता है। ड्रीप इरिगेशन टेक्निक की भी सहायता ली जाती है।

जैविक विधि से करती हैं खेती 

पुष्पा साहू जितनी भी तरह की सब्जियां या फल उगाती हैं सभी जैविक खेती कर उगाती हैं। वे अपने फसलों को रसायनिक खादों और कीटनाशकों से दूर रखती हैं। वे वर्मी कम्पोस्ट घर पर हीं बनाती हैं जिसके लिए गोबर, किचेन का अपशिष्ट पदार्थ, सब्जियों के छिलके, सड़ी-गली सब्जियां आदि से जैविक खाद बनाती हैं जिसे वह पौधों में डालती हैं। ऐसी खाद पौधों के लिए बेहद लाभकारी होती है और इस खाद के माध्यम से उपजे उत्पाद बहुत पौष्टिक होते हैं।


यह भी पढ़े :- मोहन सिंह केवल 2 पौधों से 3 क्विन्टल कीवी का उत्पादन करते हैं, एक फल की कीमत होती है 30-40 रुपये


कई तरह के फल, सब्जियों और मेडिसिन उत्पादों की करती हैं खेती 

पुष्पा साहू अपने बगान में कई तरह के उत्पादों की खेती करती हैं। फल के रूप में वे सेब, केला, मौसम्बी, अनार, पपीता, नींबू की खेती करती हैं। सब्जियों में वे बैंगन, फूलगोभी, पत्तागोभी, टमाटर, भिंडी, लौकी, पालक, सरसों आदि की खेती करती हैं। फल और सब्जी के अलावा पुष्पा साहू कुछ मेडिसीन उत्पादों की भी खेती करती हैं। जिसमें एलोवेरा, तुलसी, आंवला, नीम, पुदीना, ब्राह्नी आदि प्रमुख हैं।

इनकी खेतीको देखने विदेश से भी आ चुके हैं वैज्ञानिक

कुछ दिनों पूर्व संसदीय सचिव ‘तोखन साहू’ पुष्पा की खेती का निरीक्षण करने आये थे। छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh) में  पुष्पा साहू के सेब की खेती को देखने के लिए जर्मनी की कृषि वैज्ञानिक ‘बारबरा अल्टमल’ और ओडिसा (Odisha) के कोवनेंट सेंटर फॉर डेवलपमेंट (CCD) के ‘डॉ.पुलिकेश नायडू’ के साथ अन्य कृषि वैज्ञानिक भी मौजूद हुए। पुष्पा ने अपने छत पर लेतुस, निम्बू, बैंगन, सीताफल , अनार, मुनगा के साथ ग्वार फल्ली और सेब जैसे फलदार पेड़ लगाये हैं। 

पुष्पा खेती पूर्णतः जैविक विधि से करती है। जो स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है। इनके खेती को छत्तीसगढ़ के कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित दो दिवसीय कार्यक्रम में दिखाया गया। वहां पुष्पा के अद्भुत खेती का नजारा प्रेजेंटेशन के माध्यम से आयोजन में सम्मिलित लोगों को देखने का मौक़ा मिला। Pushpa Sahu ने जो अद्भुत और जैविक खेती किया है इसके लिए The Logically उन्हें सलाम करता है।