Monday, November 30, 2020

जोधपुर के किसान ने देशी तरकीब से बनाई बीज़ जिससे 3-4 फ़ीट का हो रहा है बाजरा: हो रहा है दुगना फायदा

मैंने अक्सर अपने घर में दादाजी से ‘बाजरे’ (Black Millet or Pearl Millet) के बारे में सुना है। पहले बाजरे की खेती बड़े पैमाने पर की जाती थी। दादाजी मुझे बताते कि बाजरे की रोटी हमारे स्वास्थ्य के लिए कितनी फायदेमंद है। उन्हें बाजरे की रोटी चटनी के साथ बहुत ही पसंद थी। राजस्थान के पारंपरिक व्यंजनों में से भी एक है।

शायद आपको भी अपने बुजुर्गों से इसके फायदे के बारे में जानकारी मिली होगी। लेकिन जैसे-जैसे पीढ़ी बदलती गई वैसे-वैसे नई तकनीकों का उपयोग शुरू हो गया और बाजरे की खेती कम होने लगी। बाजरे से हमें बहुत ही लाभ मिलता है। बाजरा प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम, फास्फोरस, फाइबर और आयरन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। साथ ही यह हमारे कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल रखता है, एनर्जी देता है, पाचन तंत्र सही रखता है और डायबिटीज के मरीजों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन आज के समय में बाजरे की खेती लुप्त होत नजर आ रही है।

जोधपुर के एक किसान हैं। नाम रामपाल सोलंकी (Rampal Solanki) है। ये बाजरे की खेती को बढ़ावा दे रहे हैं। रामपाल बाजरे की ऐसी अनूठी खेती कर रहे हैं कि इसे देखने के लिए कई व्यक्ति उनके खेत में आते हैं।

Rampal Solanki

रामपाल सोलंकी

रामपाल सोलंकी (Rampal Solanki) जोधपुर (Jodhpur) के सोयला (Soyla) गांव के निवासी है। इनका खेत लोगों को अपनी तरफ आकर्षित कर लेता है। यह अपने खेत में बाजरे का उत्पादन करते हैं। जिसे देखने के लिए हर रोज कई व्यक्ति आते हैं। यह अपने खेत में देसी बाजरे की बुआई नए तरीके से करते हैं।

3-4 फीट होते हैं लम्बे सिट्टे

इनके खेत की खासियत यह है कि फसल पर जो सिट्टे आते हैं वह लगभग 3-4 फीट फीट लंबे होते हैं। अगर बाजार में इसके सिट्टे को देखा जाय तो वह ज्यादा से ज्यादा 1 फीट लंबा होता है। इनके खेत में ऐसी उपज देख सभी अचम्भित हैं। लोग सोच में पड़ जाते हैं कि रामपाल किस तरह खेती कर रहें हैं जो इतने लम्बे सिट्टे आते हैं।

यह भी पढ़े :- खेती कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, सेब की बागवानी लगाकर कमा रहे है लाखो का मुनाफा

होता है अधिक लाभ

रामपाल ने अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि इन्होंने देसी बाजरे को नई तकनीक के साथ लगाया फिर जो फसल तैयार हुई, उससे आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा। इसके सिट्टे की लंबाई लगभग 3 से 4 फिट दिखी। ऐसे तो अन्य पौधे के पेड़ की लंबाई 5-7 फीट होती है लेकिन यह 11 से 13 फीट लंबा है। जाहिर सी बात है कि अगर पौधे बड़े हैं तो सिट्टे भी बड़े होंगे और जब ऐसा होगा तो हमें लाभ भी अधिक मात्रा में मिलेगा।

1 बीघा में 15 क्विंटल तक होती है उपज

इन्होंने कुछ वर्ष पूर्व 5 सौ ग्राम बीज विदेश से ट्राई करने के लिए मंगवाया था जो कि सफल हुआ। सफलता को देख इन्होंने लगभग 3 बीघा से अधिक खेत में इस बीज की बुवाई की। तब जाकर इन्हीं फसलों में 4 फीट तक सिट्टे तैयार हुये। इन्होंने बताया कि प्रति एकड़ में लगभग 15 से 20 क्विंटल का उत्पादन हो रहा है। इस खेती से इन्हें बहुत ही फायदा है। एक तो अधिक उपज भी होती है और सिट्टे की लंबाई अधिक होने के कारण इसे मवेशियों के चारे के लिए भी उपयोग किया जा रहा है।

जो खेती धीरे-धीरे विलुप्त हो रही है उसे बढ़ावा देने के लिए The Logically Rampal Solanki की प्रशंसा करता है।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

30 साल पहले माँ ने शुरू किया था मशरूम की खेती, बेटों ने उसे बना दिया बड़ा ब्रांड: खूब होती है कमाई

आज की कहानी एक ऐसी मां और बेटो की जोड़ी की है, जिन्होंने मशरूम की खेती को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया...

भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन ‘तेजस’ बन्द होने के कगार पर पहुंच चुकी है: जानिए कैसे

तकनीक के इस दौर में पहले की अपेक्षा अब हर कार्य करना सम्भव हो चुका है। बात अगर सफर की हो तो लोग पहले...

आम, अनार से लेकर इलायची तक, कुल 300 तरीकों के पौधे दिल्ली का यह युवा अपने घर पर लगा रखा है

बागबानी बहुत से लोग एक शौक़ के तौर पर करते हैं और कुछ ऐसे भी है जो तनावमुक्त रहने के लिए करते हैं। आज...

डॉक्टरी की पढ़ाई के बाद मात्र 24 की उम्र में बनी सरपंच, ग्रामीण विकास है मुख्य उद्देश्य

आज के दौर में महिलाएं पुरुषों के कदम में कदम मिलाकर चल रही हैं। समाज की दशा और दिशा दोनों को सुधारने में महिलाएं...