Razia Sultana becomes first Muslim Women DSP in Bihar through BPSC

वर्षों से मुस्लिम महिलाओं के हिजाब, बुर्का और पर्दा पर बहस चलते आ रही है, जिसका आजतक कोई नतीजा सामने नहीं आया है।

यदि बात उनकी शिक्षा की जाए, तो आज भी शिक्षा का स्तर कम है। कुछ लोग लड़कियों को इस डर से नहीं पढ़ाते कि यदि पढ़-लिख लेगी तो सही-गलत की पहचान हो जाएगी और अपने फैसले स्वयं लेने लगेगी। ऐसी सोच रखने वालों के लिए रजिया एक मिसाल बनकर उभरी हैं।

कौन हैं रजिया सुल्तान?

बिहार (Bihar) के गोपालगंज के हथुआ के रतनचक की रहने वाली रजिया सुल्तान (Raziya Sultana) ने सभी बेबुनियादी बातों को गलत साबित कर शिक्षा का महत्व समझाते हुए बिहार की पहली मुस्लिम महिला DSP बनी हैं। उनकी कहानी सभी को प्रेरणा दे रही है।

रजिया के पिता बोकारो स्टील प्लांट में स्टेनोग्राफर के पद पर कार्यरत थे लेकिन कुछ समय पहले उनका देहांत हो गया था। रजिया अपने सात भाई-बहन में सबसे छोटी हैं। उनका एक ही भाई है, जो MBA की पढ़ाई पूरी करने के बाद झांसी के एक निजी कम्पनी में कार्यरत हैं।

Razia Sultana becomes first Muslim Women DSP in Bihar through BPSC

डायरेक्ट DSP पद के लिए हुआ चयन

रजिया (Raziya) ने अपनी मेहनत से पहले प्रयास में ही BPSC की परीक्षा में सफलता हासिल करके अपने परिवार के साथ बिहार राज्य का नाम भी रोशन कर दिया है। वह ऐसी पहली मुस्लिम महिला हैं, जो BPSC में सफलता हासिल कर सीधे DSP पद के लिए चयनित हुई हैं।

यह भी पढ़ें :- दो साल के बच्चे के साथ फुल टाइम नौकरी की, फिर भी UPSC निकाल बन गई IAS अधिकारी: IAS बुशरा बानो

नौकरी के दौरान की BPSC की तैयारी

रजिया ने दसवीं और बारहवीं की शिक्षा बोर्ड झारखंड के बोकारो से पूरी की है। उसके बाद उन्होंने जोधपुर से इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग से स्नातक किया है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 2017 में बिजली विभाग में सहायक अभियंता के पद पर कार्य करने लगी। वह बताती हैं कि नौकरी के साथ ही BPSC की तैयारी शुरु कर दी थी। हालांकि वे पटना से इसकी तैयारी के लिए कोचिंग करना चाहती थी, लेकिन हिंदी में पढ़ाई होने के वजह से वे असहज महसूस कर रही थी इसलिए उन्होंने सेल्फ स्टडी शुरु कर दिया। श्रम और समाज कल्याण उनका विषय था।

रजिया बताती हैं कि DSP बनने के बाद उनकी पहली प्राथमिकता क्राइम कंट्रोल होगी। इसके अलावा वे घरेलू हिंसा और महिलाओं से जुड़ी वारदात पर रोक लगाने का प्रयास करेंगी।

Razia Sultana becomes first Muslim Women DSP in Bihar through BPSC

अन्य महिलाओं के लिए बनी प्रेरणास्त्रोत

इससे पहले बिहार राज्य में कोई भी मुश्लिम महिला डायरेक्ट इतने बड़े पोस्ट के लिए चयनित नहीं हुई है। ऐसे में रजिया सुल्तान (Razia Sultana) उन तमाम महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं, जो इतने बड़े सपने देखती हैं।

The Logically रजिया सुल्तान की सफलता के लिए ढ़ेर सारी शुभकानाएं देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here