Thursday, January 28, 2021

जानिए कैसे,मात्र 13 साल के रिद्धिमा का नाम विश्व के 100 सबसे प्रभावशाली महिलाओं के बीच शामिल हुआ

मनुष्य का जीवन प्रकृति से जुड़ा हुआ है। यदि प्रकृति नहीं होती तो शायद मनुष्य का जीवन संभव नहीं हो पाता। सभी जीवों के लिए प्रकृति का होना बेहद महत्वपूर्ण है। इस बात को जानते हुए भी ज्यादातर लोग प्रकृति का हनन कर रहे हैं। प्रकृति का हनन होने की वजह से धरती पर जीवन लगातार घट रहा है। कई ऐसे जीव हैं जो प्रकृति के अंधाधुंध हनन होने की वजह से विलुप्त हो चुके हैं। धरती पर जीवन को सुचारु रूप से चलाने के लिए पर्यावरण का होना बेहद आवश्यक है। पर्यावरण संरक्षण के लिए हम सभी को एक हो कर कदम उठाने की आवश्यकता है।

प्रकृति संरक्षण जैसे अहम मुद्दे को समझते हुए आजकल के नवयुवक जोर-शोर से अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं तथा लागातर प्रयासरत हैं। आज हम आपको एक ऐसी हीं छोटे उम्र की बालिका से अवगत कराने जा रहे हैं जिसने महज 13 वर्ष की उम्र में पर्यावरण संरक्षण में अपना नाम जोड़ा है।

Ridhima Pandey

रिद्धिमा पांडे (Ridhima Pandey) उत्तराखंड के हरिद्वार (Haridwar) की रहने वाली हैं। उनकी उम्र लगभग 13 वर्ष है। रिद्धिमा पांडे ने अपने आप को दुनिया के 100 प्रभावशाली और प्रेरक महिलाओं की लिस्ट में अपने नाम को दर्ज करवाया है। आपको बता दें कि BBC प्रत्येक वर्ष सौ ऐसी महिलाओं की सूची जारी करता है तथा उन्हें सम्मानित करता है जिन्होंने अलग-अलग कई क्षेत्रों में बेहतर कार्य किया है। एक न्यूज रिपोर्ट के अनुसार BBC के द्वारा जारी की गई विश्व की टॉप 100 असरदार महिलाओ की सूची में उत्तराखंड की रिद्धिमा पांडे का भी नाम दर्ज हुआ है। आपको बता दें कि पूरे भारत देश में सिर्फ तीन महिलाओं को इस सूची में शामिल किया गया है, जिसमें रिद्धिमा पांडे सबसे कम उम्र की हैं यह भारत देश के लिए बेहद गर्व की बात है।

यह भी पढ़ें :- एक ही झटके में आम से ख़ास बन गई, KBC 12 में करोड़पति बन गई नाज़िया नसीम

रिद्धिमा एक प्राकृतिक पर्यावरण कार्यकर्ता हैं। वह पर्यावरण संरक्षण जैसे अहम और महत्वपूर्ण विषयों के बारे में जागरूकता फैलाने का कार्य करती हैं। रिद्धिमा ने सिर्फ 9 वर्ष की उम्र में ही जलवायु परिवर्तन तथा पर्यावरण संरक्षण के लिए कदम नहीं उठाने की वजह से केंद्र सरकार के खिलाफ शिकायत दर्ज कारवाई थी। रिधिमा सिर्फ 11 वर्ष की उम्र में ही भारत की ऐसी पहली लड़की थी जिन्होंने पर्यावरण संरक्षण पर युनाइटेड नेशन (United Nations) में जाकर बहुत ही बेहतरीन और शानदार भाषण दिया था। भारत देश की यह बेटी जंगलों के काटने तथा जलवायु परिवर्तन की ओर लगातार अपनी आवाज उठा रही है। रिद्धिमा को इन्टरनेशनल लेवल पर भी पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कार्य करने तथा जागरूकता फैलाने के लिए बेहद प्रशंसा हो रही है।

महज 13 वर्ष की उम्र में हीं रिद्धिमा द्वारा किया गया कार्य सच में बेहद सराहनीय है। उन्होंने सभी के लिए एक मिसाल कायम किया है। The Logically रिद्धिमा पांडे और उनके कार्यों की खूब सराहना करता है।

Shikha Singh
Shikha is a multi dimensional personality. She is currently pursuing her BCA degree. She wants to bring unheard stories of social heroes in front of the world through her articles.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय