Tuesday, October 27, 2020

Lockdown की तंगी में पढाई छोड़नी पड़ी, 12वीं पास यह लड़का घर चलाने के लिए कुआं खोद रहा है: Sandeep

Covid-19 संक्रमण के कारण हर व्यक्ति परेशान है। कुछ लोगों ने अपने माता-पिता को खोया है तो कुछ लोगों ने अपने बच्चे को। कुछ लोग भुखमरी के कारण मर रहे है तो कुछ लोग आश्रय ना होने के कारण। इनमें कुछ लोग ऐसे भी है जो हर दिन अपने मुश्किल हालातों से लड़ रहें हैं और आगे बढ़ने की कोशिश कर रहें हैं। आज की हमारी यह कहानी पंजाब के “संदीप” की है जो दिहारी मजदूरी कर अपने घर का खर्च चला रहे हैं।

संदीप का परिचय

संदीप पंजाब (Panjab) के लुधियाना (Ludhiyana) के निवासी हैं। इस लॉकडाउन के दौरान उन्हें दिहारी मजदूरी कर रोजी-रोटी का काम चलाना पड़ रहा है। संदीप के पिता और उनका छोटा भाई भी आर्थिक स्थिति के तंगी के कारण मजदूरी कर रहें हैं। संदीप हर रोज कुंआ की खुदाई कर 300-500 रुपये कमा लेते हैं जिससे उनका और उनके परिवार के दैनिक दिनचर्या की पूर्ति हो रही है।

यह भी पढ़े :-

आदिवासी दम्पति ने 20 दिन में खोद दिया कुंआ : पेश की आत्मनिर्भरता की मिसाल

Representative Photo

संदीप (Sandeep) ने 12वीं कक्षा तक की पढ़ाई की है पूरी

18 वर्षीय संदीप (Sandeep) ने 12वीं तक की पढ़ाई की है। आगे भी पढ़ना चाहते हैं और कंप्यूटर कोर्स करना चाहते है। इसके लिए इनके घर वालों के पास इतने पैसे नहीं है कि वह संदीप को किसी भी कोर्स के लिए दाखिला करा सकें। लॉकडॉउन की वजह से स्थिति और खराब हो गई। घर की ऐसी स्थिति देख संदीप पढ़ाई छोड़ मजदूरी करने को मजबूर हैं। उनके लिए यह बेहद दुःखद समय है। इसलिए अपने माता-पिता और परिवार की देखभाल के लिए संदीप ने पढ़ाई को छोड़ना ज़्यादा ज़रूरी समझा।

मां दूसरों के घर काम करती है

घर की ऐसी हालत देख संदीप की मां भी लोगों के घर जाकर कुछ काम करती हैं जिससे उनके घर का गुजर-बसर हो सकें। संदीप अपने साथ अपने भाई-बहन को भी पढ़ाना चाहते हैं। भाई-बहन की पढ़ाई के लिए संदीप ने मजदूरी कर घर खर्च से पैसा बचा कर एक सेकंड हैंड स्मार्टफ़ोन लिया हैं। जिस फोन की मदद से उनके भाई-बहन ऑनलाईन क्लासेज कर सकें और उनकी पढ़ाई ना रुके।

संदीप की मदद के लिए उनके प्रिंसिपल आगे आये

संदीप पढ़ने में तेज हैं। इसलिए स्कूल में उन्हें सभी शिक्षक और विधार्थी जानते हैं। जब इस बात का पता उनके प्रिंसिपल को चला कि उनके स्कूल का तेज विधार्थी मजदूरी कर रहा है तो उन्होंने हर संभव प्रयास कर संदीप के भाई-बहन की पढ़ाई में मदद करने के लिए कहा है। संदीप ने जो कार्य अपने परिवार के लिए किया है वह सराहनीय है। इसलिए The Logically संदीप को सलाम करता है और उनके लिए दुआ करता है कि उनकी परेशानी जल्द ख़त्म हो और वह आगे पढ़ाई पूरी कर सकें।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अपने घर पर 650 से भी अधिक गमलों में उगा रही हैं तरह तरह के फूल और सब्जियां, तरीका है बहुत ही सरल

महात्मा बुद्ध ने बहुत सुंदर एक बात कही है-जब आपको एक फूल पसंद आता है तो आप उसे तोड़ लेते हैं। लेकिन...

हरियाणा के एक ही परिवार की 6 बेटियां बनीं साइंटिस्ट, जिनमें से 4 विदेशों में कार्यरत हैं: महिला शक्ति

हमारे समाज में आज भी लड़कियों को अपने अनुसार ज़िंदगी जीने के लिए कठीन परिस्थितियों से गुजरना पड़ता है। अगर हम शिक्षा...

खुद के लिए घर पर उंगाती हैं सब्जियां और लोगों को भी देती हैं ट्रेनिंग, पिछले 10 वर्षों से कर रही हैं यह काम

हर किसी की चाहत होती है कि कुछ ऐसा करे जिससे समाज में उसकी एक अलग पहचान बने। लोगों के बीच अपनी...

आगरा के अम्मा के चेहरे पर लौटी मुस्कान, लोगों ने दिए नए ठेले और दुकान पर होने लगी ग्राहकों की भीड़

आज भी अधिकतर औरतों की जिंदगी शादी से पहले उनके पिता पर निर्भर करती हैं तो शादी के बाद उनके पति पर….....