Wednesday, August 4, 2021

चार एकड़ में फैली बंजर पहाड़ी को बना दिया हरा-भरा, अद्भूत पर्यावरण प्रेम को देखते हुए सरकार ने किया सम्मानित: प्रकृति से प्रेम

पर्यावरण प्रेमी वे नहीं जो पर्यावरण दिवस के दिन एक पौधे लगाकर फोटोज क्लिक कर सोशल मीडिया पर अपलोड करें बल्कि पर्यावरण प्रेमी वे हैं, जो प्रतिदिन पौधों की देखभाल करते हैं एवं दूसरों को भी पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूक करते हैं।

कुछ ऐसी ही कहानी एक शख्स की है, जिसने बंजर पड़ी जमीन को अपनी मेहनत के बदौलत हरा-भरा बनाया है। उन्होंने अब तक लाखों पौधों को लगया है और पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान देने का काम किया है।
(Environment protection)

Santosh Chaturwedi from Madhya Pradesh is working on Environment protection

पर्यावरण प्रेमी सन्तोष चतुर्वेदी

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) से ताल्लुक रखने वाले सन्तोष चतुर्वेदी (Santosh Chaturwedi) स्वास्थ्य विभाग (Health Department) में जॉब करते हैं लेकिन उनकी पहचान पर्यावरण प्रेमी के तौर पर है। (Environment protection)

लगा चुके हैं लाखों पेड़

सन्तोष चतुर्वेदी (Santosh Chaturwedi) ने 20 वर्षों में ही अब तक लगभग लाखों पौधों को लगाया है और पर्यावरण को लेकर लोगों में जागरूकता फैला रहे हैं। उन्होंने एक वीरान और सुनसान पड़ी जमीन को हरियाली में तब्दील किया है। (Environment protection)

Santosh Chaturwedi from Madhya Pradesh is working on Environment protection

पहला प्यार है पौधा

नौकरी करने के बावजूद भी सन्तोष चतुर्वेदी (Santosh Chaturwedi) का पहला प्यार पेड़-पौधे ही हैं। वह बचपन से ही पौधों में ज्यादा रुचि रखते हैं। वर्ष 2012 में उन्होंने 4.30 एकड़ बंजर पड़ी जमीन को खरीदकर उसे अपनी मेहनत के बदौलत हरियाली में तब्दील करना प्रारंभ किया। अब वहां जमीन पर पौधे लगाने लगे और कुछ ही वर्षों में यह बंजर जमीन जंगल मे बदल गई। (Environment protection)

Santosh Chaturwedi from Madhya Pradesh is working on Environment protection

मिल चुके हैं कई सम्मान

पर्यावरण के प्रति लगाव और उनके अनोखे कार्यों के कारण ही सन्तोष चतुर्वेदी को कई सम्मान मिले हैं। उन्हें वर्ष 2010 में “बसामन मामा स्मृति” सम्मान प्राप्त हुआ। उन्होंने बताया कि कोरोना काल ने सभी व्यक्ति को यह एहसास दिलाया है कि हमारे जीवन में पौधों की क्या महत्व है?
(Environment protection)

The Logically भी अपने पाठकों से अपील करता है कि वह भी अपने आसपास पौधों को लगाकर पर्यावरण के संरक्षण में अपना योगदान दे और अपनों का जीवन सफल बनाएं।