Thursday, January 20, 2022

स्कूल के माली की बेटी बनेगी एयरहोस्टेस, नक्सल इलाके से निकलकर भड़ेगी सपनो का उड़ान: Proud moment

मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है। किसी ने सच ही कहा है कि सपनों को साकार करने की ललक है तो मंजिल मिल ही जाएगी। कुछ ऐसी ही कर दिखाया है स्कूल में काम करने वाले अनमोल एक्‍का की बेटी अमूल्‍य एक्‍का ने- (स्कूल में माली का काम करने वाले की बेटी बनी एयरहोस्टेस)

20 वर्षीय अमूल्य कोलकाता में हुए इंटरव्यू में हुईं पास

जोसेफ स्कूल में माली का काम करने वाले अनमोल एक्का की बेटी अमूल्य एक्का का एयर होस्टेस में सिलेक्शन हो गया है। कोलकाता में हुए इंटरव्‍यू में उनका चयन हुआ है। महुआडांड़ प्रखंड के लूरगुमी गांव की रहने वाली 20 वर्षीय अमूल्य एक्का की शुरुआती पढ़ाई गांव के समीरांप स्थित स्कूल संत मिखालल साले में हुई है। उन्‍होंने इंटर की पढ़ाई संत जोसेफ (महुआडांड़) से पूरी की है।

 Amulya becomes air hostess

पिता स्कूल में माली थे और बेटी पढ़कर बन गई एयर होस्टेस

बेटी की इस कामयाबी पर अमूल्य के पिता अनमोल एक्का का कहना है कि संत जोसेफ स्कूल में बतौर माली उन्हें सैलरी के तौर पर 8 हजार रुपए मिलती है। इसी पैसे से वह घर में 5 बच्चों का पालन-पोषण करते हैं। तीन बहन और दो भाइयों में अमूल्य एक्का दूसरे नम्बर पर हैं,  पिता ने कभी भी अपनी बेटी को सपने देखने से नहीं रोका। इसी का नतीजा है कि वह ग्रामीण परिवेश में रहकर भी एयर होस्टेस की परीक्षा में सफल हुईं हैं। (स्कूल में माली का काम करने वाले की बेटी बनी एयरहोस्टेस)

अमूल्य के लिए एयर होस्टेस बनना इतना आसान नहीं था

बता दें कि अमूल्य के एयर होस्टेस बनना अपने आप में एक चैलेंज था।  महुआडांड़ जैसे जंगली क्षेत्र में अकसर बिजली की समस्या रहती है, ऐसे में बिना फ़ोन और लैपटॉप के पढ़ना एक चुनौती जैसी थी, अमूल्य एक्का ने इन तमाम चुनौतियों को पार अपने सपने को सच साबित कर दिखाया है।

 Amulya becomes air hostess

 गूगल से ढूंढा एयर होस्टेस बनने का रास्ता 

महुआडांड़ के लूरगुमी गांव में स्लो इंटरनेट होने के बावजूद अमूल्य ने गूगल में ही एयर होस्टेस बनने का रास्ता ढूंढ़ा, जिसके बाद उन्होंने इसके लिए आवेदन किया। लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के बाद अमूल्य एक्का का चयन कर लिया गया है और अब वह जल्द ही ट्रेनिंग के लिए जाने वाली हैं। अमूल्‍य की इस सफलता पर महुआडांड़ एसडीएम नित निखिल सुरीन ने अमूल्य और उनके पूरे परिवार को बधाई दी है।