Sunday, December 5, 2021

आत्मनिर्भर भारत मुहिम का असर, भारत ट्रेड सरप्लस , बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार !

किसी भी देश की आत्मनिर्भरता उसके सेहत के लिए बड़ी बात होती है ! आज जब भारत कोरोना के संक्रमण से जूझ रहा है और निपटने के लिए कोशिश कर रहा है ! कोरोना के कारण देश में लागू लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था पर गहरा प्रभाव पड़ रहा था ! उसी बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए “आत्मनिर्भर अभियान” के तहत 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज का ऐलान किया था ! मोदी जी ने Vocal for Local का नारा भी दिया था ! इस मुहिम के कारण जून महीने में सफलता दिखने लगी है ! जून महीने में भारत की अर्थव्यवस्था में एक सफलता स्पष्ट दिखाई पड़ी ! भारत की स्थिति ट्रेड सरप्लस की है !

ट्रेड सरप्लस का अर्थ

ट्रेड सरप्लस का अर्थ है दूसरे देशों से आयात के अपेक्षा निर्यात का ज्यादा होना ! जून महीने में भारत ने विदेशों से आयात कम और निर्यात ज्यादा किया है ! यह भारत के लिए बेहद अच्छी खबर है ! ट्रेड सरप्लस की स्थिति से यह स्पष्ट पता चलता है कि भारत आत्मनिर्भर बनने की ओर कदम उठा चुका है ! ट्रेड सरप्लस के कारण भारत का विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड बढा है ! यह भारत के आंतरिक ढाँचे की मजबूती का द्योतक है !

जून में आए आँकड़े

हाल हीं आए जून के आँकड़े के मुताबिक भारत के आयात में लगभग 47.59 प्रतिशत की कमी आई है ! जून महीने में भारत ने विदेशों से करीब 21.11 अरब डॉलर का आयात किया है !

चीन से तनाव बढने के असर

गलवान घाटी में भारत और चीन के मध्य उत्पन्न हालातों के कारण भारत ने ना सिर्फ कई चाईनीज ऐप्सों को बन्द कर दिया है बल्कि भारतीयों ने चाईना बायकॉट के तहत चाईनीज सामानों के प्रयोग से खुद को अलग करने का प्रयास कर रहे हैं ! गौरतलब हो कि भारत में चाईनीज सामानों की मात्रा बहुतायत है ! चाईनीज ब्रांडों और सामानों की डिमांड में कमी भी सरप्लस को सकारात्मक रूख दिया है !