Saturday, December 3, 2022

मोटे अनाज की खेती करने वाले किसानों के साथ खङा कर किया कारोबार, 7000 से अधिक किसान जुड़ चुके हैं

आज खेती का क्षेत्र इतना व्यापक हो गया है कि क्या पुरुष, क्या महिलाएं, क्या युवा या क्या बुजुर्ग सभी उम्र के लोग खेती को अपनाकर अपनी आमदनी का जरिया बना रहे हैं। वे खेती को व्यावसायिक रंग दे रहे हैं जिससे उन्हें अधिक से अधिक मुनाफा हो और वह एक ऊंचा मुकाम हासिल कर सकें।

कृषि के क्षेत्र में महिलाएं भी बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं और उन्होंने खुद को अपनी मेहनत से सफल कृषक के रूप में पेश किया है। उन्हीं महिलाओं में से एक हैं शर्मिला ओसवाल। इन्होंने बेसिलिया ऑर्गेनिक नाम से एक कंपनी की स्थापना की है और वे इसकी मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। उन्होंने किसानों के साथ मिलकर न सिर्फ खेती की बल्कि व्यवसाय भी करना शुरू किया और आज वाह सफलता के ऐसे मुकाम पर पहुंच गई हैं जहां से अन्य महिलाओं को वह प्रेरित कर रही हैं। आपको बता दें कि इनका कारोबार विदेश में भी अच्छा खासा फैल रहा है।

शुरुआत के कई वर्षों तक शर्मिला कनाडा, इंग्लैंड आदि देशों में रहीं लेकिन अपने देश से खासा प्यार और कृषि क्षेत्र में कुछ अलग करने के जुनून ने उन्हें स्वदेश आने पर मजबूर कर दिया। वह पिछले 20 सालों से किसानों के साथ मिलकर बीज की गुणवत्ता, उत्पादन क्षमता बढ़ाने, फूड सिक्योरिटी एवं सिंचाई जैसे बिंदुओं पर कार्य कर रही हैं। इसके साथ ही वह किसानों को ट्रेनिंग भी देती हैं।

यह भी पढ़ें:-पोलियो से ग्रसित शख्स ने अकेले ही कर दी गांव की बदहाल सड़क की मरम्मत, लोग कर रहे तारिफ

शर्मिला कहती हैं कि मैं मिट्टी की बेटी हूं और मुझे मिट्टी से बहुत प्यार है। मैं कृषि क्षेत्र में कुछ अलग करना चाहते थे इसलिए कई सालों तक विदेश में रहने के बाद भी मैं भारत लौट आई और कृषि को अपनाई। महाराष्ट्र का विदर्भ इलाका जहां पर किसानों की आत्महत्या की खबर आए दिन मिलती रहती है उनके साथ काम किया। वह गुजरात और राजस्थान के किसानों के साथ हुई काम कर चुकी है। इसके साथ वह मेघालय जहां पर कृषि क्षेत्र बहुत ही कमजोर सेक्टर रहा है वहां पर कृषि के उत्थान के लिए कार्य किए हैं। वहां पर इन्होंने कृषि में महिलाओं के साथ मिलकर काम करके उनकी कृषि में भूमिका बढ़ाने पर जोर दिया।

शर्मिला ओसवाल ने हमेशा से मोटे अनाजों की खेती पर जोर दिया है। वह कहती हैं कि मोटे अनाज जैसे ज्वार बाजरा मकई आदि की खेती किसानों के लिए काफी लाभदायक है। इन फसलों की खेती किसी भी मौसम में आसानी से की जा सकती है यानी कि बरसात का समय हो या गर्मी का आप इन अनाजों को उगा सकते हैं अनाजों के मूल्य संवर्धन से आप अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं।

यह भी पढ़ें:-IITian ChaiWala: IIT और NIT के छात्रों ने खोला टी स्टॉल, कुल्हड़ में मिलती है 10 अलग-अलग फ्लेवर की चाय

अनाजों के मूल संवर्धन के अंतर्गत आप नूडल्स, लड्डू, चिप्स, नमकीन, बिस्किट आदि बनाकर उससे अच्छी आमदनी कर सकते हैं। वह मिलेट के अंतर्गत इन सब के साथ अन्य उत्पादों के पैकेजिंग पर फोकस करती हैं। कई कोऑपरेटिव्स के बनाकर वह महिलाओं को फूड पैकेजिंग ग्रेडिंग आदि का प्रशिक्षण देती है। इस कार्य से महिलाएं अतिरिक्त आमदनी कार अपने जीवन स्तर में सुधार भी ला सकते हैं।

कृषि में अच्छा और गुणवत्तापूर्ण उत्पादन के लिए वह जैविक खेती को बढ़ावा दे रही हैं। वह इसके लिए किसानों को प्रशिक्षित भी करती हैं वह गुड़ और छाछ के अर्क से जैविक खेती करने के प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं। आपको बता दें कि अभी तक उनसे हजारों किसान जुड़ चुके हैं।