Tuesday, April 20, 2021

एक किलो प्लास्टिक के बदले एक किलो राशन: इस तरह मुम्बई को कचड़ा मुक्त बनाता एक अभियान

प्लास्टिक से हमारे आज और आने वाले कल दोनों को ही बहुत खतरा है। हम यह जानते हैं कि किस तरह पर्यावरण को प्लास्टिक से क्षति पहुंच रही है। प्लास्टिक नन बायोडिग्रेडेबल पदार्थ है। इसका विघटन नहीं होता है। बहुत से व्यक्ति पेड़ लगाकर हमारे पर्यावरण के संरक्षण में अपना योगदान दे रहें हैं।

आज की यह कहानी एक ऐसे शख्स की है जो मुंबई को प्लास्टिक मुक्त बनाने में जुड़े हैं। यह वहां के लोगों को एक अभियान के तहत जितना प्लास्टिक का कचरा आप उन्हें दोगे उसके बदले आपको उतना ही राशन दिया जायेगा।

प्रोजेक्ट मुंबई

मुंबई में एक पहल का शुभारंभ हुआ है। इसका नाम ‘प्रोजेक्ट मुंबई’ है। मुंबई को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए NGO की शुरुआत की गई है। इस अभियान के तहत आपके पास जितना भी प्लास्टिक है, वह आप इन्हें दे और उस कचरे के अनुसार आपको जरूरतमंद चीज़े दी जाएंगी।

शिशिर जोशी

शिशिर जोशी (Shishir Joshi) “Project Mumbai” के संस्थापक और CEO हैं। इस संगठन के द्वारा जो कार्य कर रहें हैं उनका टैगलाइन है “Mumbai Ke Liye Kuchh Bhi Karega”.. अगर मुंबईवासी कचरा दान करने के लिए तैयार हैं तो उसे लेंने के लिए प्रोजेक्ट मुम्बई से कोई व्यक्ति जाकर वह कचरा लायेगा। इनके पास स्वयंसेवक के लिए फौज भी है।

यह भी पढ़े :-

लोगों के घर से समान इकठ्ठा कर बेचती हैं, और उस पैसे से जरूरतमंद बच्चों के फीस चुकाती हैं: Re store

लॉकडाउन में किया 1 टन कचरा इकट्ठा

शिशिर के टीम का कार्य पूरा दिन होता है और शाम को कचरे का वजन कर उन लोगों के घर राशन भेजा जाता है। राशन गया या नहीं ये भी पता किया जाता है। एक रिपोर्ट में शिशिर ने बताया कि जुलाई में इनकी टीम ने लगभग 1 टन प्लास्टिक जमा किया था। उन्हें इस सफलता पर बहुत खुशी हुई थीं। आगे इन्हें आशा है कि इनकी टीम इस पहल की मदद से 3 टन तक प्लास्टिक जरूर इकट्ठा कर लेंगे।

कोरोना से मदद का भी यह इंतेजाम

शिशिर की मदद और भी कॉरपोरेट्स करना चाहती है। इनके संगठन के माध्यम से जो अनाज लोगों को दिया जा रहा है उसमें- दाल, चावल, आटा, नमक के साथ चीनी शामिल है। इनके पत्येक किट में कम से कम 12 kg का राशन शामिल होगा। कोरोना से बचाव के लिए मास्क और पीपीई किट जैसे कोरोना बचाव को भी उपलब्ध किया गया है।

लिम्का बुक में है नाम दर्ज

इतना ही नही इनके टीम के द्वारा जमा किये गए कचरे से फर्नीचर बनाने का भी कार्य किया गया है। कचरा को रिसाइकिल कर उनका सही उपयोग करने के लिए इस संगठन का नाम 2020 के “लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड” में मौजूद हुआ है। अगर आप इनसे कोई मदद या इनकी मदद करना चाहते हैं तो इस [email protected] या [email protected] पर जाकर आप इनसे कॉन्टेक्ट कर सकते हैं।

प्लास्टिक का सही उपयोग कर लोगों की मदद के लिए The Logically शिशिर के साथ उनकी संगठन में कार्य किये जाने वाले सभी महानुभवों को नमन करता है।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय