Thursday, February 25, 2021

कभी कचड़े की ढेर से खाना चुनना पड़ता था, आज इस महिला उधमी ने 1800 करोड़ की कम्पनी खड़ी कर ली है

किस्मत के सहारे बैठे रहने से कामयाबी हमारे हाथ नहीं लगती। सफल होने के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता हैं। आज हम एक ऐसी ही लड़की की बात करेंगे जिसका ना तो कोई अच्छा बैकग्राउंड रहा और ना हीं किस्मत ने उनका साथ दिया, फिर भी वह आज दुनिया के दौलतमंद लोगों में से एक हैं।

सोफिया अमोरुसो (Sofia Amoruso)

साल 1984 में सोफिया का जन्म कैलिफ़ोर्निया (California) के सन डिएगो अमेरिका (America) में हुआ था। कुछ समय बाद पता चला कि सोफिया को डिप्रेशन और अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर नामक बीमारी हो गई है। इस वजह से उन्हें मजबूरन स्कूल छोड़ना पड़ा और घर पर ही उनकी शिक्षा शुरू हुई। जब सोफिया नौ वर्ष की थी तब उनके खुशियों को ग्रहण लगा गया, अचानक उनके माता-पिता की नौकरी छूट गई।

Sofia Amoruso

नौ वर्ष की उम्र में किया काम

नौ वर्ष की उम्र में जहाँ बच्चे खेलते तथा पढ़ते हैं, उस उम्र में सोफिया ने खुद लेमोनेड की शॉप खोली। 22 वर्ष की उम्र तक सोफिया लगभग 10 अलग-अलग तरह की नौकरियां कर चुकी थीं। सोफिया अमेरिका के पश्चिमी तट पर भटकते हुए चोरी का काम करने लगी। एक बार एक ऐसी ही चोरी में वह पकड़ी गई और जुर्माना हुआ। इसके बाद सोफिया ने चोरी करना छोड़ दिया और सैनफ्रांसिस्को चली गई, वहाँ जाकर वह फिर से पढ़ने लगी।

यह भी पढ़ें :- पति के देहांत के बाद भी टूटी नहीं, किराना दुकान चलाकर 5 बेटियों की परवरिश कीं: महिला शक्ति

सोफिया नैस्टी गैल विंटेज की शुरूआत की

इसी बीच सोफिया ने ई-बे पर नैस्टी गैल विंटेज (Nasty Gal Vintage) नामक एक ऑनलाइन स्टोर खोला। सोफिया ने इस स्टोर का नाम एक पॉप सिंगर बेटी डेविस (Betee Devis) के अल्बम पर आधारित था। सोफिया चैरिटी शॉप्स से कपड़े लाकर उन्हें ऊँचे दामों पर बेचतीं थी। एक बार सोफिया ने एक चैनल जैकेट मात्र 515 रुपये में ख़रीद कर 64,395 रुपये में बेची। सोफिया अपनी चीज़ों को खुद ही स्टाइल करती, उसकी फोटो लेती, सटीक कैप्शन देती और यहाँ तक की डिलीवरी भी वह खुद ही करती थी।

Sofia Amoruso

सोफिया मुश्किलो से हार नहीं मानी

लोग सोफिया के इस ब्रैंड को काफी पसंद करने लगे। वह पहले माय स्पेस और बाद में फेसबुक का इस्तेमाल कर ब्रैंड की जानकारी लोगो को देने लगी। साल 2008 में ई बे ने सोफिया पर अपने खुद के ब्रांड को तरजीह देने का आरोप लगाकर इनके लोकप्रिय अकाउंट को ब्लॉक कर दिया। इस बात का सोफिया को बहुत बड़ा झटका लगा परंतु उन्होंने हार नहीं मानी और ई-बे से हटकर अपना खुद का स्टोर खोलने का निर्णय किया।

सोफिया का नाम धनी महिलाओं की सूचि में आया

सोफिया अपने कर्मचारियों के साथ मिलकर लॉस एंजेलिस में अपना खुद का रीटेल स्टोर खोली। 315 करोड़ रूपये की पूंजी से शुरू किया गया यह स्टोर कुछ ही दिनों में 1800 करोड़ की कंपनी बन गई। साल 2012 में सोफिया का नाम फ़ोर्ब्स मैगज़ीन के धनी महिलाओं की सूचि में आ गया। सोफिया ना सिर्फ़ बिज़नेस में सफलता प्राप्त की बल्कि अलमहिला इंटरप्रेन्योर के बारे में प्रचलित गलत धारणाओं को भी गलत साबित किया। इसके अलावा सोफिया आधुनिक नारीवाद की मशाल थामने वाली महिला भी बनी।

Sofia Amoruso

सोफिया बनी पूरे विश्व के लिए एक उदाहरण

सोफिया ने महिलाओं की उपलब्धियों पर गलत धारणाओं और परिभाषा देने वालो के खिलाफ युवा महिलाओं को प्रोत्साहित भी किया। 21 अप्रैल 2017 से नेटफ्लिक्स पर शुरू हुई श्रृंखला (series) गर्ल बॉस में सोफिया की कहानी कही गई। उन्होंने पूरे विश्व के सामने एक उदाहरण पेश किया कि दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत से हम अपनी एक अलग पहचान बना सकते हैं। अगर हमारी जिज्ञासा और महत्वाकांक्षा हमारे डर से ऊपर हो तो हम अपने मंजिल को अवश्य प्राप्त कर सकते हैं।

The Logically सोफिया अमोरुसो के दृढ़ संकल्प की तारीफ करता है।

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय