Tuesday, September 28, 2021

गांव में ऑनलाइन क्लास के लिए नेटवर्क नही था, बच्चों के कहने पर सोनू सूद ने टावर लगवा दिया

सोनू सूद हर उस शख्स के लिए मसीहा हैं, जिन्हें किसी भी चीज की जरूरत है। इन्होंने जो भी कार्य किया है, उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। जिस वक़्त इस कोरोना संक्रमण ने सबको अपने घरों में कैद करा दिया, उस वक़्त सोनू सूद ज़रूरतमंद लोगों के लिए बाहर आएं। जिनसे इनका कोई सम्बन्ध नहीं था। इस लॉकडाउन में यह बॉलीवुड एक्टर प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाए, लड़कियों को उनके घर जाने के लिए स्पेशल व्यवस्था किए, जिन मजदूरों के पास नौकरी नहीं थी उन्हें नौकरी भी दिए। आज एक बार फिर इन्होंने उन बच्चों की मदद की है जिन्हें पढ़ाई में बहुत दिक्कत होती थी। हम यह जानते हैं कि इस कोरोना से स्कूल, कॉलेज बन्द हैं। इस दौरान स्कूल वाले बच्चों को ऑनलाइन क्लास करा रहें हैं। तो चलिए पढतें हैं कि बच्चों के लिए इन्होंने क्या किया है।

बच्चे पेड़ की डाल पर बैठ करते थें पढ़ाई

ऑनलाइन क्लास के लिए जरूरी है नेट की स्पीड। नेट फास्ट काम करना चाहिए। तभी पढ़ाई में थोड़ी आसानी होगी। लेकिन हरियाणा (Hariyana) के मोरनी (Morani) गांव के बच्चों को अपनी ऑनलाइन क्लास के लिए बहुत ही दिक्कत होती थी। ये सब अपनी स्लो इंटरनेट से ऐसे परेशान थे कि यह अपनी ऑनलाइन क्लास नहीं कर पा रहें थे। जब ये बात सोनू सूद को पता चली तो उनकी उदारता एक बार फिर बच्चों की मदद के लिए सामने आई। इन बच्चों की मदद सोनू ने इस प्रकार किया कि वह अपने एक दोस्त करण गिलहोत्रा की सहायता से उन बच्चों के लिए नेटवर्क टावर लगवा दिए। ताकि ये बच्चे अपनी पढ़ाई ना रोकें और फ़ास्ट इंटरनेट से अपनी क्लास कम्पलीट करें।

विडीयो के जरिए पता चली सोनू को यह बात

दरअसल इस बात की जानकारी सोनू को सोशल मीडिया से हुई। उन्होंने एक वायरल वीडियो देखा जिसमे एक बच्चा अन्य बच्चों की पढ़ाई पूरी कराने के लिए फोन हाथ में लिये पेड़ की डाल पर बैठा है। ये जो वीडियो पोस्ट हुआ था उसमें टैग सोनू और उनके मित्र करण थें। बच्चों का शायद यह संदेश था कि सोनू इनकी मदद करें और इन्हें उम्मीद भी थी।


यह भी पढ़े :- मसीहा: मजदूर, छात्र, पुलिस और अनगिनत लोगों की मदद करने वाले सोनू सूद बन गए देश के सुपर हीरो


सोनू ने दिया स्टेटमेंट

सोनू ने एक स्टेटमेंट में कहा कि “ये जो हमारे बच्चे हैं, ये हमारे देश के आने वाले कल के फ्यूचर हैं। इन्हें अपने फ्यूचर के लिए बेहतर अवसर मिलना चाहिए। ये परेशानी उनके लिए बाधा हैं जिसे दूर करना चाहिए। मैंने इन बच्चों के लिए जो किया वह मेरे लिए सम्मान की बात है। अब हमारे देश के भविष्य को पेड़ पर चढ़ना नहीं पड़ेगा।”

मिला है सम्मान

इतना ही नहीं इन्होंने चंडीगढ़ में बच्चों को स्मार्टफोन भी दिया है ताकि वह ऑनलाइन क्लास कर सकें। सोनू को इनके दरियादिली के लिए UNDP की तरफ से “ह्यूमनटेरियन ऐक्शन अवार्ड” (Humanitarian action Award) से नवाजा गया है।

अपनी उदारभाव और जरूरतमंदों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले सोनू सूद को The Logically सलाम करते हुए इनकी प्रशंसा करता है।