Saturday, December 3, 2022

झुग्गी-झोपड़ी के बच्चों को पढ़ाने के दौरान आया IAS बनने का ख्याल, UPSC की परीक्षा में 31वीं रैंक लाकर बनी IAS

देश के अधिकांश युवा का सपना होता है कि वह IAS, IPS बने और देश सेवा करें। इस सपने को पूरा करने के लिए अनेकों युवा कई सालों तक कड़ी मेहनत करते हैं लेकिन कुछ ही युवा को सफलता हाथ लगती है। कुछ युवा UPSC के लिए तय उम्र तक इस सपने को पूरा करते हैं तो वहीं कुछ युवा कम उम्र में ही IAS, IPS बनने के सपने को पूरा करते हैं।

उन्हीं युवाओं में से एक नाम सिमी करण (IAS Simi Karan) का है, जिन्हें IAS बनने के सपने को पूरा करने में अधिक समय नहीं लगा। उन्होंने अपनी मेहनत और लगन से महज 23 की उम्र में ही UPSC में सफलता हासिल करके अपने सपने को साकार किया।

झुग्गी के बच्चों को पढ़ाने के दौरान आया IAS अधिकारी बनने का ख्याल

सिमी करण (Simi Karan) ओडिशा (Odisha) की रहनेवाली हैं और उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा छत्तीसगढ़ के भिलाई से पूरी की है। उनके पिता भिलाई में ही एक स्टील प्लांट में नौकरी करते थे और मां एक टीचर हैं। सिमी ने इण्टरमीडिएट की पढ़ाई करने के बाद इन्जीनियरिंग करने के लिए IIT बॉम्बे में दाखिला ले लिया।

IIT की पढ़ाई करने के दौरान उन्होंने देखा कि झुग्गी-झोपड़ी के बच्चों को पढ़ने के लिए उनके परिवार वालो को जीवन जीने के जरुरी संसाधनों के लिए संघर्ष करते हुए देखा। उनलोगों को जिंदगी ने सिमी को अंदर तक हिला दिया। उसके बाद उन्होंने झुग्गी के बच्चों को पढ़ाने का काम शुरु किया और उसी दौरान उनके मन में लोगों की सेवा करने ख्याल आया। इस सोच को पूरा करने के लिए उन्होंने IAS बनने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें:- दिन में चाय बेची और रात में गार्ड की नौकरी की, फिर अपनी मेहनत से बने जूनियर इंजीनियर: मुकेश दाधिच

दूसरों से अधिक खुद पर था विश्वास

IAS बनने के सपने को पूरा करने के लिए सिमी ने कई IAS टॉपर्स के इंटरव्यू को देखा और फिर UPSC की परीक्षा की तैयारी की। संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा की तैयारी करने के दौरान उन्हें औरों से अधिक खुद पर सबसे अधिक भरोसा था। एक इंटरव्यू के दौरान सिमी ने बताया कि, UPSC की तैयारी आसानी बनाने के लिए उन्होंने इसके सिलेबस को छोटे-छोटे टुकड़ों में बांट दिया और फिर उसके अनुसार तैयारी की।

31वीं रैंक लाकर हासिल की सफलता

IAS अधिकारी बनने के सपने को हकीकत में बदलने के लिए सिमी ने अपने आप को पूरी तरह परीक्षा की तैयारी में झोक दिया। उनकी मेहनत रंग लाई और उन्होंने साल 2019 में महज 23 साल की उम्र में संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में 31वीं रैंक लाकर सफलता हासिल की। इय तरह उनका IAS बनने का सपना साकार हुआ। इसी साल सिमी ने IIT बॉम्बे से इन्जीनियरिंग की डिग्री भी हासिल की।

LBSNAA के एक ट्विट के अनुसार, सिमी करण (IAS Officer Simi Karan) को IAS OT 2020 उत्तर-पूर्व कैडर (असम-मेघालय) को बेस्ट परफॉर्मिन्ग ऑफिसर ट्रेनी LV रेड्डी मेमोरियल अवार्ड और सर्टिफिकेट दिया गया है। अभी वह दिल्ली में सहायक सचिव के पद पर अपनी सेवाएं दे रही हैं।

The Logically सिमी करण को उनकी सफलता के लिए ढेर सारी बधाई देता है।