Saturday, December 3, 2022

ये शिक्षक बेकार पड़ी बोतलों से पेड़ों को दे रहे पोषण, टपक विधि से हो रहा पौधों का उत्तम विकास

अगर प्रयास किया जाए तो हम अपने पर्यावरण को एक बार फिर से पहले की तरह हरा-भरा बना सकते हैं। कई लोग इस क्षेत्र में कार्य भी कर रहे हैं। उन्हीं लोगों में से एक हैं झारखंड (Jharkhand) के चाईबासा के एक शिक्षक। यह शिक्षक राजाबास गांव के रहने वाले हैं, जो अबतक हजारों पानी की बोतलों को काट कर उसका इस्तेमाल टपक विधि से पौधों को पानी देने के लिए कर रहे हैं। – Tarun Gogoi from Jharkhand, started the drip method from a waste plastic bottle.

पर्यावरण की सुरक्षा के लिए इस पहल की शुरआत

इस तकनीक से पौधों को जरूरत के हिसाब से लगातार पानी मिलता रहता है, जिससे पौधे तेजी से बढ़ते हैं। इस तकनीक को विकासित करने वाले टीचर का नाम तरुण गोगोई (Tarun Gogoi) है। वह बताते हैं कि अक्सर लोग पानी पीने के बाद बोतल फेंक देते हैं, जिससे प्रदूषण बढ़ता है। प्लास्टिक का बोतल जल्दी गलता नहीं है और जिस जगह पर रहता है उस जमीन को बेकार भी बनाता है, जिसका बुरा असर हमारे पर्यावरण पर पड़ता है।

यह भी पढ़ें:-Solar Cooling Belt: नहीं देखी गई पिता की परेशानी तो B.Com की छात्रा ने बना दिया पानी ठंडा करने की मशीन

प्लास्टिक के बेकार पड़ी बोतल का सही इस्तमाल

प्लास्टिक की बोतल के नुक्सान को समझते हुए तरुण उन्हें इकट्टा करने लगे और उसका सही इस्तमाल करने के लिए उसके पेंदे को काटकर अलग कर देते हैं। उसके बाद उन्होंने उसे उल्टा करके ढक्कन को थोड़ खोल दिया, जिससे एक बोतल में सुबह पानी डालने पर पूरा दिन में बूंद-बूंद के हिसाब से पानी गिरता है। इससे दो फायदे हैं एक प्लास्टिक का बोतल पर्यावरण को नुकसान नही पहुंचा रहा और दूसरा पौधा को भी आसानी से पानी मिला रहा है। – Tarun Gogoi from Jharkhand, started the drip method from a waste plastic bottle.

Tarun Gogoi used the drip method from a plastic bottle to irrigate plant
प्लास्टिक के बोतले से पौधों की सिंचाई के लिए टपक विधि

टपक विधि से पौधो को मिलता है बहुत लाभ

तरुण इस तकनीक के साथ काम करते हुए बेकार बोतलों को किसी पौधे के सामने एक लकड़ी को डालकर बोतल बांध देते हैं, जिससे एक बार अधिक मात्रा में पानी भी नहीं जाता पौधा में, जबकि पूरा दिन पौधे को पानी मिलता रहता है। इससे ना तो पौधा सूखता है और ना ही गलता है। जानकारों के अनुसार इस तरह पौधे में पानी डालने से उसका विकास तेजी से होता है।

यह भी पढ़ें:-बेटे ने माता-पिता को अद्भूत तरीके से दी श्रद्धांजलि, धान के पौधों से खेत में बना दिया उनकी तस्वीर

तरुण अबतक टपक विधि से 2 हजार पौधे लगा चुके हैं

कई जगहों पर पानी की बहुत समस्या हैं। वहां के लोग चाह कर भी पौधे नहीं लगा पाते, परंतु तरुण के इस तकनीक से पौधे को नियमित रूप से पानी भी मिलता रहेगा और पानी की बर्बादी भी नहीं होगी। तरुण एक प्रयोग के तहत सहजन का 2 हजार पौधा लगाकर टपक विधि से उसमे पानी डाल रहे हैं। तरुण के इस पहल से पर्यावरण को बहुत लाभ मिलेगा। साथ ही उनके इस पहल से हम सबको सीख लेकर अपने स्तर पर पर्यावरण की सुरक्षा करनी चहिए। – Tarun Gogoi from Jharkhand, started the drip method from a waste plastic bottle.