Thursday, October 28, 2021

अगर छत पर उगाना चाहते हैं सब्जियां तो इन बातों का ध्यान रखें: टेरेस गार्डनिंग

आजकल ज्यादातर लोगों मे गार्डनिंग का शौक दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। गार्डनिंग का शौक हो भी क्यूं ना। हरा भरा और फूलों की सुगंध से महका हुआ घर का गार्डेन बहुत अच्छा लगता है। इससे हमारे सेहत पर भी बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है। गार्डनिंग के जरिए हमें रोज ताजी सब्जियों का सेवन करने को मिलता है। इसके साथ ही यह घर की खूबसूरती को भी बढ़ा देता है।

जिनका घर बड़ा है वे आंगन में गार्डनिंग करते है। लेकिन आजकल घर छोटे होते है जिसकी वजह से आंगन में गार्डनिंग करने के लिए प्रर्याप्त स्थान नहीं होता है। कई लोग जिनका घर छोटा होता है और वह गार्डनिंग नहीं कर पाते हैं उनके लिए आज की यह कहानी बहुत मददगार साबित होगी। तो आइये जानतें है गार्डनिंग करने के लिये ध्यान देने योग्य मह्त्वपूर्ण बातें।

यदि किसी के पास कम भूमि हो या घर छोटा हो तो उनके लिये टेरेस गार्डनिंग (Terrace Gardening) बहुत अच्छा विकल्प है। टेरेस गार्डनिंग के माध्यम से आप अपने घर की छत पर भी कई प्रकार की सब्जियां उगा सकते हैं। जैसे लौकी, करेला, भिंडी, खीरा आदि अनेकों तरह की सब्जियां उगाई जा सकती हैं।

यह भी पढ़े :- गार्डनिंग: बिना मिट्टी के भी लगा सकते हैं फूल, इन 8 तरह के फूलों को केवल पानी मे लगाया जा सकता है

टेरेस गार्डनिंग करने के लिए इस बात का ध्यान रखना होगा की छत मजबूत है या नहीं। क्यूंकि टेरेस गार्डनिंग करने के लिये छत का मजबूत होना बहुत आवश्यक है। इसके बाद छत की वाटर प्रूफिंग बहुत जरुरी है। गार्डन बनाने के लिये पानी की निकासी (ड्रेनेज सिस्टम) होना बेहद जरुरी है क्यूंकि पौधों के कारण हमेशा नमी बनने के कारण वह घर की दीवारों को कमजोर बना सकती है।

टेरेस गार्डनिंग के लिये वर्षा ऋतु का मौसम अच्छा माना जाता है। लेकिन किसी विशेषज्ञ के सलाह से हीं मौसम के अनुरूप पौधों को लगाया जाना चाहिए। टेरेस गार्डनिंग के लिये सबसे अधिक प्लास्टिक बैग्स का उपयोग करना चाहिए। मिट्टी के वजनदार गमलों से बचना चाहिए। इससे फायदा यह होगा कि खर्च में कमी होगी और छत पर अधिक भार नहीं पड़ेगा।

टेरेस गार्डनिंग के लिये हैंगिंग गमलों का उपयोग भी बहुत अच्छा होता है। इससे छत हरी-भरी प्रतीत होती है तथा बास्केट में लटकते हुए फूलों वाले गमले गार्डन की खूबसूरती को बढ़ा देते हैं, जिससे देखने में यह बहुत हीं आकर्षक नजर आता है।

छत के पौधों की देखभाल अच्छी तरह से करना चाहिए। प्रत्येक पौधों को उसकी आवश्यकता के अनुसार धूप मिलता रहे इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए। इसके अलावा सुबह-शाम गार्डन को पानी जरुर देना चाहिए। इस बात का खास ध्यान रखे कि गार्डन में वैसे फल और सब्जियों को नहीं लगाना चाहिए जिसको अधिक पानी की जरुरत होती हो।

गार्डनिंग के फायदे।

टेरेस गार्डनिंग से घर को एक अच्छा वातावरण मिलेगा, इसके साथ ही घर में ठंडक भी बनी रहेगी। गार्डनिंग के जरिए जरुरत की सब्जियों का भी उपज किया जा सकता है। टेरेस गार्डनिंग में टमाटर, भिन्डी, बैगन और पालक जैसी अन्य सब्जियां भी उगाई जा सकती है। इसके साथ ही रोज ताजी सब्जियां भी खाने को मिलेगी और सेहत भी ठीक रहेगा।

The Logically उम्मीद करता है कि टेरेसा गार्डनिंग के लिए बताई गई उक्त बातें आप सभी को समझ में आईं होंगी और उक्त बातें आपको इस विधि से गार्डनिंग करने में मदद करेंगी।