Thursday, August 18, 2022

ट्रांसजेंडर समुदाय के मन्जम्मा ने अपनी मेहनत से बनाई एक अनूठी पहचान, सरकार द्वारा पद्मश्री से नवाजी गयीं

गणतंत्र दिवस के पूर्व संध्या यानि 25 जनवरी‚ 2021 को केंद्र सरकार द्वारा प्रतिष्ठित पद्म पुरस्कारों की घोषणा की गई. इस वर्ष 7 लोगों को पद्म विभूषण (Padma Vibhashan), 10 लोगों को पद्म भूषण (Padma Bhushan) और 102 लोगों को पद्म श्री (Padma Shri) से सम्मानित करने की बात कही गई.

पद्म पुरस्कारों से सम्मान पाने वालों में 29 महिलाएं 10 व्यक्ति विदेशी/एनआरआई/पीआईओ/ओसीआई तथा 16 मरणोपरांत व्यक्ति तथा इन 119 लोगों की लिस्ट में एक ट्रांसजेंडर का नाम भी शामिल है जिनका नाम है मंजम्मा जोगाठी (Manjamma Jogathi).

Transgender Manjamma Jogathi

कर्नाटक की रहने वाली मंजम्मा जोगाठी को कला के क्षेत्र में पद्म श्री

मंजम्मा जोगाठी कर्नाटक (Karnataka) की रहने वाली हैं. इस साल कला के क्षेत्र में उनके अतुलनीय योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा. उनके अंदर छिपी कला और उनके जुनून ने उन्हें सफ़लता की ऊंचाइयों पर पहुंचाया है.

यह भी पढ़ें :- महज़ 12 साल की उम्र में शादी हो गई, घर खर्च चलाने के लिए झाड़ू पोंछा करती थी: भारत सरकार ने पद्मश्री से नवाजा

मंजूनाथ बनें मंजम्मा

मंजम्मा का वास्तविक नाम नाम मंजूनाथ शेट्टी है जो उनके माता पिता ने रखा था. बढ़ते उम्र के साथ उन्हें आभास हुआ कि उनके अंदर एक औरत भी छिपी है. लड़कियों के साथ खेलना, उनके जैसे सपने देखना, खाना पकाना जैसी भावनाएं उनके अंदर चलने लगीं. शारीरिक बदलाव होने लगें. माता पिता ने उन्हें ठीक कराने की बहुत कोशिश की पर नर के रूप में पैदा हुए मंजूनाथ अब मंजम्मा बन चुकी थी. फिर वह एक ट्रांसजेंडर कम्युनिटी से जुड़ गई.

Transgender Manjamma Jogathi got padamshree

समाज ने अब तक नहीं स्वीकारा तीसरे जेंडर को

हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने ट्रांसजेंडर को भी सम्मानजनक जीवन जीने का अधिकार दे दिया है पर दुख की बात है कि इन्हें अब तक हमारे समाज ने नहीं स्वीकारा है. लड़कों ने भी बहुत परेशान किया पर सभी परेशानियों का सामना कर मंजम्मा आगे बढ़ीं और यह मुकाम हासिल की.

मंजम्मा की कलायात्रा चिन्नास्वामी स्टेडियम अलवास के गीत नृत्य नाटकों से शुरू हुई थी. साल 2009 में एक मराठी फिल्म ‘जोगवा’ में नेशनल अवॉर्ड मिलने के बाद मंजम्मा लाइमलाइट में आई. आज के समय में उन्हें कई समारोह में सम्मानित किया जा चुका है.

Transgender Manjamma Jogathi got padamshree

ट्विटर पर एक ट्वीट का जवाब देते हुए मंजम्मा जोगाठी ने कहा, “कोई भी इंसान छोटा या बड़ा नहीं होता. कला को पहचान दिलाने वाला हर आदमी आर्टिस्ट है. मेरे लिए आर्ट ही ज़िंदगी है और मैं कला से जुड़े काम कर बेहद खुश हूं.”

The Logically मंजम्मा जोगाठी (Manjamma Jogathi) के जीवन की उपलब्धियों के लिए उन्हें सलाम करता है और पद्म श्री के लिए बधाई देता है.