Monday, November 30, 2020

13 वर्षीय लड़की ने पालतू जानवरों के लिए बनाया विशेष तरह का बोतल: जानिए इसकी विशेषता

पेट लवर यानि पालतू जानवरों को प्यार करने वाले.. आज की हमारी कहानी एक पेट लवर या पेट पेरेंट की है। 13 वर्ष की छोटी सी उम्र की लड़की जिसे अपने पेट से बेहद लगाव है। एक पेट पेरेंट (pet parent) के रूप में वह अपने पपी (puppy) की समस्या को दूर करने के लिए हाइड्रेटिंग पानी की बोतल डिजाइन की।

यह कहानी है दीया शेठ (Diya Sheth) की। दीया मुंबई में रहती है। वहां DY पाटिल इंटरनेशनल स्कूल की छात्रा है। इनके पास एक पपी (puppy) है। यह जब भी अपने puppy को घुमाने के लिए किसी बगीचे में या लॉन्ग ड्राइव पर ले जाती तो इन्होंने गौर किया कि वह बहुत प्यासा रहता था। इस वजह दीया उसे कहीं दूर नहीं ले जा पाती थी। पालतू जानवरों के इस समस्या को हल करने के लिए 2019 में दीया ने Slurrp-y हाइड्रेटिंग पानी की बोतल का विचार किया।

bottle for pet animals

दीया का डिजाइन किया यह बोतल पालतू जानवरों के लिए हाइड्रेटर बोतल है, जिसमें खाने के साथ-साथ पानी का भी स्टोरेज होता है। यह लीक प्रूफ है। इसे फूड ग्रेड मैटेरियल के साथ बनाया गया है। साथ ही किसी भी गंध और अशुद्धियों को दूर करने के लिए इसमें एक कार्बन फिल्टर है। हम अपने साथ इसे आसानी से कैरी (carry) कर सकतें हैं। हमारे पेट (pet) के साथ यात्रा को यह आसान बनाता है।

यह भी पढ़ें :- नेक कार्यो के लिए अपनी पॉकेट मनी खर्च करते हैं, बेज़ुबान जानवरों की सेवा से लेकर रक्तदान भी करते हैं

दीया ने Young Entrepreneurship Academy (YEA) में क्लास किया है। यह एकेडमी अपने रोमांचक क्लासेज के जरिए बच्चों को बिजनेस आइडियास, मार्केटिंग स्ट्रेटजी जैसी चीजें सिखाती है और उन्हें युवा उद्यमी बनने में माहिर करती है। YourStory के साथ हुए बातचीत में दिया बताती हैं कि YEA में ‘यूनिट इकोनॉमिक्स’ की क्लास ने उन्हें किसी भी बिजनेस के टर्म्स को समझने में मदद की। दीया ने वहां शामिल लागतों, निश्चित और परिवर्तनीय लागतों के बीच के अंतर को समझा। साथ हीं मूल्य निर्धारण कैसे किया जाए ताकि उन्हें उचित लाभ हो, इस बारे में भी सीखा। मैन्युफैक्चरिंग, पैकेजिंग और मार्केटिंग लागतों को समझा।

दीया शेठ (Diya Sheth) के लिए यह सफ़र आसान नहीं रहा। उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती एक मैन्युफैक्चरर को खोजने की थी। बोतल का चौड़ा माउथ फीचर होने की वजह से उन्हें मैन्युफैक्चरर मिलने में परेशानी हुई लेकिन वह हार नहीं मानी। एक जगह से दूसरी जगह जाती रहीं। अंततः भिवंडी में उन्हें एक कारखाना मिला जो उनके लिए मोल्ड डाई बनाने के लिए तैयार हुआ।

Diya seth

दीया के लिए गर्व की बात तब हुई जब वह Dogs and More पत्रिका की संपादक रोसीना से मिली। रोसिना 13 साल की दीया के डिजाइन किए प्रोडक्ट को देखकर आश्चर्यचकित थी। उन्होंने दीया के प्रोडक्ट को अपने पत्रिका में फीचर करने की पेशकश की। फिर दीया ने ‘The Dogs and More’ में अपने प्रोडक्ट्स का प्रदर्शन किया।

आप भी अपने पेट (pet) के साथ घर के बाहर लम्बा वक्त गुजारने और उनकी ज़िंदगी आसान बनाने के लिए Slurrp-y हाइड्रेटिंग पानी की बोतल ऑर्डर कर सकते हैं। Slurrp-y पेट स्टोर्स ‘Heads up for Tails’ और ‘Shake Hands’ में उपलब्ध है। अब तक दीया ने Slurrp-y की लगभग 200 बोतलें बेची हैं। अब उनका सबसे बड़ा लक्ष्य Slurrp-y के डिजाइन को पेटेंट कराना है और भारत हीं नहीं बल्कि दुनिया भर के स्टोर्स से रिटेल करना है।

Archana
Archana is a post graduate. She loves to paint and write. She believes, good stories have brighter impact on human kind. Thus, she pens down stories of social change by talking to different super heroes who are struggling to make our planet better.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

एक डेलिवरी बॉय के 200 रुपये की नौकरी से खड़ी किये खुद की कम्पनी, आज पूरे भारत मे इनके 15 आउटलेट्स हैं

किसी ने सही कहा है ,आपके सपने हमेशा बड़े होने चाहिए। और यह भी बिल्कुल सही कहा गया है कि सपने देखना ही है...

पैसे के अभाव मे 12 साल से ब्रेन सर्ज़री नही हो पा रही थी, सोनू सूद मसीहा बन करा दिए सर्जरी

इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। कोरो'ना की वजह से हुए लॉकडाउन में बहुत सारे लोगों ने एक दूसरे की मदद कर के...

500 गमले और 40 तरह के पौधे, इस तरह यह परिवार अपने छत को फार्म में बदल दिया: आप भी सीखें

आजकल बहुत सारे लोग किचन गार्डनिंग, गार्डनिंग और टेरेस गार्डनिंग को अपना शौक बना रहे हैं। सभी की कोशिश हो रही है कि वह...

MS Dhoni क्रिकेट के बाद अब फार्मिंग पर दे रहे हैं ध्यान, दूध और टमाटर का कर रहे हैं बिज़नेस

आजकल सभी व्यक्ति खेती की तरफ अग्रसर हो रहें हैं। चाहे वह बड़ी नौकरी करने वाला इंसान हो, कोई उद्योगपति या फिर महिलाएं। आज...