कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ने के बाद बंजर भूमि पर करते हैं खेती, 50 से भी अधिक आर्गेनिक फसलों का उत्पादन करते हैं

1997

पहले हमें ऐसा लगता था कि सिर्फ गांव के व्यक्ति ही खेती करते हैं और ज्यादातर किसान आपको गांव में ही मिलेंगे। लेकिन इस आधुनिक युग में हर कोई चाहता है कि वह खेती करें, खुद सब्जियां उगाये और उस ताजी सब्जियों का सेवन करें। ताकि वह हष्ट-पुष्ट और तंदुरुस्त रहें। आज की कहानी केरल के हर्ष वलेचा की है जो छोटे से आदिवासी गांव की पहाड़ी जमीन को जंगल में बदल दिए हैं। यह अपने खुद के लिए भोजन, पानी, बिजली और आश्रय के लिए पूरी तरह सक्षम है। चलिए पढ़ते हैं, फिर इनकी कहानी..

हर्ष वलेचा का परिचय

Harsh Valecha एक वित्तीय सलाहकार (Financial Consultant) हैं। यह एक आदिवासी हैं। इन्होंने अपने छोटे से गांव में एक बंजर पहाड़ी की ज़मीन को आत्मनिर्भर अभयारण्य में बदल दिया है। यह अपने स्वयं के भोजन, पानी, बिजली और आश्रय का उत्पादन और भंडारण करने में सक्षम हैं। यह दुनिया भर के सैकड़ों स्वयंसेवकों और एक कार्यक्रम की मदद से यह काम करने में सक्षम हैं। अब तक “Gaia Grid” पानी, बिजली और आश्रय के मामले में आत्मनिर्भर है।

1 एकड़ जमीन में करतें हैं खेती

यह केरल (Kerala) भारत ( India) के एक छोटे से आदिवासी गांव से बाहर रहतें हैं और 1 एकड़ जमीन पर काम करते हैं। अब तक इन्होंने गाजर, मटर, आलू, प्याज, मक्का, मिर्च, भिंडी, बैंगन, पालक, पैशन फ्रूट, चियोट, पपीता, मूली, मोरिंगा, खीरा, कस्तूरी, तरबूज, तलवार बीन्स आदि 500 फल और के अलावा उगाए हैं। अखरोट के पेड़ हैं, जो  2017 में लगाए।

छोड़ी कॉपोरेट नौकरी

अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ने के बाद यह अपने जीवन से जो चाहते थे। उसके बारे में गहन ध्यान और आत्मनिरीक्षण में लग गए। बहुत सारे आंतरिक संवाद और प्रचलित सामाजिक परिस्थितियों को देखते हुए हर्ष ने यह महसूस किया कि उन्हें खुद से ही पूछकर कोई भी काम करना चाहिए। फिर हर्ष भोजन के स्रोत के बारे में सोचा कि यह हमें कहां से मिलती है??  तब इन्होंने यह पाया कि यह एक दूर के खेत से आया है , जहां यह हानिकारक रसायनों से तैयार घनीभूत और संभावित रूप से तैयार होता है, एक किसान जो बिचौलिया द्वारा कम कर दिया जाता है वहां से। इन्होंने कल्पना की थी कि यह इसे कैसे विकसित करेंगे।  फिर हर्ष ने शुरू में अपने अपार्टमेंट की छत में टमाटर और बीन्स जैसी आसान सब्जियां उगाना शुरू किया। एक बार जब इन्हें सफलता मिलने का एहसास हुआ कि यह पूरी तरह से संभव है, तो यह देखना चाहते थे कि क्या मैं खुद सब कुछ विकसित कर सकता हूं। फिर इन्होंने यह काम शुरू किया।


यह भी पढ़े :- किसान दम्पति उपजा रहे हैं सब्जी, फल और औषधि सहित 60 किस्म की फसलें, मुनाफ़ा कुई गुना बढ़ा


खुद के भोजन के लिए हैं आत्मनिर्भर

यह मुख्य रूप से खुद के लिए भोजन विकसित करतें हैं, यह कम संसाधनों और खेती के ज्ञान के साथ व्यक्तिगत समय, अपने स्वयं के आहार की देखभाल करने में देतें हैं। वैसे तो यह पूरी तरह इस काबिल नहीं बनें लेकिन यह विचार भोजन, पानी, आश्रय और बिजली के मामले में पूर्ण आत्मनिर्भरता की परियोजना की दृष्टि में फिट है। जब एक बार मॉडल तैयार हो गया और काम करने लगे, तो इनका विचार है कि घूमना और दूसरों को यह सिखाना बहुत ही लाभदायक होगा।

बंजर थी जमीन

जब यह पहली बार भूमि को देखने गयें तो यह पूरी तरह से चट्टानी और बंजर था। इसलिए इन्हें स्वस्थ मिट्टी के निर्माण के लिए कार्य शुरू करना पड़ा। फिर इन्होंने जल्दी से मिट्टी बनाने के लिए विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल किया। एक तरीका अपनाया जो मिट्टी खोदना और उसमें कार्बनिक पदार्थों को भरना था। जैसे कि टूटी हुई टहनियां, शाखाएं, कटी हुई पत्तियां, नारियल की भूसी आदि और फिर इन्होंने इन गड्ढों में दीमक डाल दिया और कुछ समय के लिए छोड़ दिया। फिर 2 सप्ताह के बाद दीमक पूरी तरह से कार्बनिक पदार्थ खा गए और गड्ढों में अब बहुत उपजाऊ दीमक की बूंदें थीं। तब इन गड्ढों में नाइट्रोजन फिक्सिंग फलियां लगाईं। एक बार जब फलियां बढ़ीं और जम गईं तो उन्हें काटकर नाइट्रोजन को गड्ढों में मिलने के लिए छोड़ दिया। इस प्रक्रिया को कई बार दोहराया और एक बार जब यह सफल हुआ तब उनमें अपने पौधें लगाएं।

हर्ष कहते हैं, “बगीचे को तैयार करने के लिए यह मुख्य रूप से खट्टे प्राकृतिक पदार्थों के साथ इसका निर्माण करता हूं। साथ ही कार्डबोर्ड, मिट्टी के साथ शुरू होने वाली परतें बनाते हैं जो मैंने स्थानीय स्तर पर खट्टी गोबर, खाद्य खाद, जैविक गीली घास और कुछ खाद चाय के साथ समय-समय पर बनाई हैं। यह इन परतों को तब तक दुहराता हैं।” कुछ मामलों में यह पहले एक ट्रे में बीज उगातें हैं और बाद में प्रत्यारोपण करतें हैं।

मिट्टी के लिए है लाभदायक

यह वास्तव में किसी भी कीटनाशक का उपयोग करके कीट स्थिति को सक्रिय रूप से संबोधित नहीं करते हैं। इसके बजाय मसानोबु फुकुओका के नक्शेकदम पर यह कीटों को एक या दो मौसम तक बढ़ने की अनुमति देता है। केवल उनके लिए प्राकृतिक शिकारियों द्वारा सेवन किया जाता है और प्रकृति के पीकिंग ऑर्डर को परेशान नहीं करता है।  इस प्रणाली में थोड़ा अधिक समय लगता है लेकिन यह प्रणाली मेरे लिए सबसे अच्छा काम करता है और उम्मीद है कि जमीन के लिए भी।

खुद भी करतें हैं काम

कभी-कभी जब कोई स्वयंसेवक नहीं होता है तो यह खुद ही सारे काम संभालतें हैं। 1 एकड़ जमीन जिसमें कोई मशीनरी नहीं होती एक व्यक्ति पर काफी कर लगा सकता है। इसके अलावा भूमि एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है जो हवा को किसी भी पौधे को उगाने में एक बड़ी कठिनाई है। इन्होंने प्राकृतिक विंडब्रेक बनाए हैं। यह अभी सीखने की प्रक्रिया है। कई बार यह सीधे बीज बोए हैं केवल यह पता लगाने के लिए कि वे सभी कीटों द्वारा नष्ट तो नहीं हो रहे। कभी-कभी विशेष रूप से मानसून के दौरान यहां पानी भर जाता है और इससे फसलों को नुकसान पहुंचता है।

भोजन के लिए खुद पर भरोसा, किसानों की करतें हैं तारीफ

स्पष्ट बात यह है कि मुझे अपने भोजन के लिए बाहरी दुनिया पर कम भरोसा करना होगा। कोरोना महामारी के दौरान इन्होंने पाया कि विशेष रूप से खेती उपयोगी है क्योंकि हम महीनों से घर मे बंद थे और अभी भी बहुत स्वस्थ और बहुत कुछ ताजा खा रहा हूं। इसके अलावा यह किसानों की सराहना करतें हैं जो भोजन के लिए खेती करतें हैं।

ऑनलाइन योजना बनातें हैं

हर्ष द्वारा चलाया जाने वाला प्रोजेक्ट शाकाहारी और स्वयंसेवक है। यह समय-समय पर कार्यशालाओं की मेजबानी भी करतें हैं ताकि कैसे थोड़ा और आत्मनिर्भर होने के लिए टिप्स साझा कर सकूं। यह एक साइट पर संरचित पाठ्यक्रमों की मेजबानी करने और एक बजट पर आत्मनिर्भरता पर ऑनलाइन योजना भी बनातें हैं।

इस लिंक पर क्लिक कर आप इनसे जुड़ सकते हैं और खेती के अनेकों तरीके सीख सकते हैं।

प्रकृति को अपना शिक्षक बनाओ। जब आप एक बीज लगाते हैं तो प्रकृति आपको सैकड़ों वापस देना सुनिश्चित करती हैं। आप जो कृपा प्राप्त करते हैं, वह अमूल्य है। प्रकृति को देकर बहुतायत पैदा किया जा सकता है। The Logically Harsh को बंजर भूमि पर खेती करने और आत्मनिर्भर बनने के लिए सलाम करता है।