Wednesday, January 20, 2021

DM के पावर को देख हुए प्रेरित, 22 लाख के पैकेज की नौकरी छोड़ तैयारी शुरू किए और बन गए IAS अधिकारी

अगर हमारा इरादा पक्का हो तो हमें हमारे मंजिल को पाने से कोई नहीं रोक सकता। ऐसे तो बहुत से लोगों को आप जानते होंगे जो पैसे और सपने में पैसे को तवज्जों देते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो अच्छे पैकेज वाली नौकरी छोड़ अपने सपने को पंख देते हैं।

अगर सपना यूपीएससी का हो तो उसे पूरा होने में काफी लंबा समय लगता है तथा इसमें निश्चित भी नहीं होता कि आपको सफलता प्राप्त होगी या नहीं। आज हम एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताएंगे जिन्होंने अच्छी नौकरी छोड़ यूपीएससी की तैयारी शुरू की।

Himanshu Jain IAS

हिमांशु जैन (Himanshu Jain)

हिमांशु हरियाणा (Haryana) के जींद जिले के रहने वाले हैं। उनके पिता पवन जैन (Pawan Jain) जींद में ही दुकान चलाते हैं। हिमांशु की शुरुआती पढ़ाई डीएवी स्कूल से पूरी हुई। उसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वह हैदराबाद (Hyderabad) चले गए। वहां ट्रिपल आईटी (IIIT) में कंप्यूटर साइंस में हिमांशु को एडमिशन मिल गया। कंप्यूटर साइंस से बीटेक करने के बाद हिमांशु ई रीटेलिंग कंपनी अमेजन (Amazon) में इंटर्नशिप करने लगे।

बचपन से था कलेक्टर बनने का सपना

तीन महीने की इंटर्नशिप खत्म करने के बाद अमेजन ने हिमांशु को 22 लाख का पैकेज ऑफर किया परंतु हिमांशु का सपना तो आईएएस बनने का था। उनके परिवार वाले बताते हैं कि एक दिन हिमांशु के स्कूल में कलेक्टर निरीक्षण करने आए। कलेक्टर के रुतबे और पावर को देख हिमांशु बहुत प्रभावित हुए और अपनी टीचर से पूछे कलेक्टर कैसे बनते हैं और उसी दिन से उन्होंने कलेक्टर बनने का सपना देख लिया।

Himanshu Jain IAS

22 लाख का पैकेज छोड़ सपने को पूरा किया

जब अमेजन हिमांशु को 22 लाख का पैकेज ऑफर किया तो उनके पास दो विकल्प था, एक इतने बड़े पैकेज की नौकरी और दूसरा उनके बचपन का सपना। ऐसे हालत में ज्यादातर लोग नौकरी के विकल्प को चुनते क्योंकि यूपीएससी की परीक्षा में सफलता निश्चित नहीं होती। हिमांशु ने ऐसा नहीं किया उन्होंने अपने सपने को प्राथमिकता दी और यूपीएससी की तैयारी में लग गए।

यह भी पढ़ें :- गरीबी के दौर में पिता के साथ बेचने पड़े थे जूते, अब IAS बनकर परिवार का मान बढ़ा रहे हैं

हिमांशु के चाचा चाची ने दिया उनका पूरा साथ

हिमांशु को अपनी काबिलियत पर पूरा भरोसा था। वह जानते थे कि IAS बनकर पैसे कमाने की तुलना में वह नौकरी करते हुए ज्यादा पैसे कमा सकते थे, फिर भी उन्होंने IAS को चुना क्योंकि उनके लिए पैसा से ज्यादा जरूरी उनका सपना था। हिमांशु के चाचा और चाची दोनों डॉक्टर हैं। उनके चाचा डॉ. अनिल जैन (Anil Jain) तथा चाची का नाम मीनाक्षी जैन (Meenakshi Jain) है।

Himanshu Jain IAS

हिमांशु यूपीएससी की परीक्षा में 44वीं रैंक के साथ हुए सफल

हिमांशु बताते हैं कि यूपीएससी की तैयारी करते समय उनके चाचा और चाची उनकी पूरी मदद करते थे। उनकी चाची उन्हें अस्पताल में बैठाकर घंटों पढ़ाया करती थी तथा उनके चाचा ने हमेशा उनका हौसला बढ़ाया और आईएएस बनने के लिए उन्हें प्रेरित किया। इसी का असर है कि हिमांशु यूपीएससी की परीक्षा में 44वीं रैंक के साथ सफल हुए और आईएएस बन अपने बचपन के सपने को पूरा किए।

The Logically हिमांशु जैन के हौसले की तारीफ करता है और उन्हें उनकी सफलता के लिए बधाई देता है।

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय