Wednesday, August 4, 2021

पढाई का खर्च उठाने के लिए पिता ने बेच दिया था घर, महज़ 22 साल की उम्र में बेटे ने IAS बन पूरा किया सपना

अगर मन में इच्छा हो, लगन हो और निरन्तर मेहनत किया जाए तो कोई भी समस्या आपको कामयाब होने से नहीं रोक सकती। आज बात एक ऐसे हीं शख्स प्रदीप सिंह की जिन्होंने विपरीत हालातों में जीकर भी सफलता का प्रेरणारूपी परचम लहराया। आईए जानते हैं मध्यप्रदेश के इंदौर के रहने वाले एक गरीब परिवार के उस लड़के के बारे में जिसने अपने मेहनत से आज एक मुकाम को हासिल किया है।

मध्यप्रदेश के इंदौर के रहने वाले प्रदीप सिंह जो एक गरीब परिवार से थे। प्रदीप सिंह के पिता मनोज सिंह एक पेट्रोल पंप पर काम करते थे जिससे उनके घर का राशन चलता था। प्रदीप की शुरूआती पढाई किसी तरह तो पूरी हुई लेकिन प्रदीप का एक सपना था आईएएस बनना। वे जानते थे कि अगर वे आईएएस बन जाते हैं तो उनकी गरीबी दूर हो जाएगी। आर्थिक रूप से बेहद कमजोर होने के कारण प्रदीप सिंह के पिता के पास इतने पैसे नहीं थे कि वे अपने बेटे को UPSC की कोचिंग करा सकें। प्रदीप सिंह सोचते थे कि अगर हम आईएएस अफसर बन जाएं तो हमारे परिवार की वितीय स्थिति बेहतर हो जाएगी। लेकिन प्रदीप सिंह अपने पिता से UPSC की कोचिंग के पैसे मांगने की हिम्मत नहीं हो रही थी।

यह भी पढ़े :-

5 साल की उम्र से अनाथालय में पाले गए, जीविका के लिए होटल में काम किये और अंततः बन गए IAS अधिकारी

पढाई के लिए बेच दिए घर

चूकि प्रदीप सिंह के मन में एक आईएएस अधिकारी बनने का सपना पल रहा था लेकिन गरीबी को महसूस करते हुए उन्हें अपने पिता से कोचिंग के पैसे माँगने की हिम्मत बिल्कुल नहीं होती थी लेकिन जब प्रदीप सिंह के पिता को पता चला कि उनके बेटे की इच्छा आईएएस अफसर बनने की है तो उन्होंने पैसे के इंतजाम करने हेतु अपना घर बेच दिया और पढ़ाई के लिए पैसे दिए।

प्रदीप सिंह 2017 में दिल्ली में रहकर UPSC की तैयारी कर रहे थे। जब प्रदीप सिंह UPSC की परीक्षा दे रहे थे तब उनकी मां अनीता जी की तबीयत खराब थी लेकिन प्रदीप के पिता ने इस बात को प्रदीप सिंह को नहीं बताई क्यूंकि प्रदीप की पढ़ाई पर कोई असर न हो। प्रदीप के पिता के पास प्रदीप को कॉलेज में पढ़ाई के लिए पैसे नहीं थे। तब प्रदीप की मां ने अपने गहने गिरवी रख दी थी। प्रदीप सिंह ने इंदौर से आईआईपीएस से बीकॉम की पढ़ाई की थी।

आईएएस बनकर पूरा किया सपना

प्रदीप सिंह का सपना था कि वे आईएएस बनें और आगे चल कर शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में काम करें। प्रदीप सिंह ने यूपीएससी के अपने पहले प्रयास में सफलता पाई। प्रदीप सिंह के पिता मनोज सिंह ने बताया कि बच्चों को पढ़ना उनके लिए बहुत कठिन था परन्तु उन्होंने इसका हमेशा डटकर मुकाबला किया और आज अपने बच्चों को इस काबिल बनाया। उन्होंने बताया कि प्रदीप की पढ़ाई के लिए काफी मुश्किल झेलनी पड़ी थी। परन्तु अब सब ठीक है।

प्रदीप सिंह ने जिस गरीबी और लाचारी की परिस्थितियों को झेलते हुए खुद को दृढ संकल्पित होकर आईएएस बनने के अपने सपने को पूरा किया वह कई युवाओं के लिए प्रेरणा है। The Logically प्रदीप सिंह की सफलता पर उनको बधाई देता है और उनके प्रयासों की खूब सराहना करता है।