Wednesday, December 2, 2020

पिता थे बस कंडक्टर, आभाव में जीने के बाद भी बेटी बन गई IPS अधिकारी, कर रही हैं देश सेवा: IPS Shalini

हम अपने देश में महिलाओं की स्थिति के बारे में बात करे तो यहां कुछ बेहतर नहीं है। रास्ते चलते लड़कियों के साथ मसखरे करना, छेड़खानी… ये सब आम बात है। कई लोग इसका विरोध करते है लेकिन कई तो इसको बढ़ावा भी देते है। आज हम आपको एक ऐसी लड़की से रूबरू करवाएंगे जिसने चलते बस में दूसरी महिला के साथ हो रहे छेड़खानी को देख कर IPS बनने का फैसला लिया, ताकि समाज में महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार को रोका जा सके।

शालिनी अग्निहोत्री जब उम्र में बहुत छोटी थी, एक समय वह बस में सफ़र कर रही थी। सफर के दौरान उन्होंने बस में एक महिला के साथ छेड़खानी होते देखा। कम उम्र की होने बावजूद भी शालिनी ने इसका विरोध किया। मनचलों को सबक भी सिखाया, और उसी समय पुलिस बनने का निश्चय किया। शालिनी के पिता उसी बस में कंडक्टर के रूप में कार्यरत थे। एक बस कंडक्टर की बेटी का ऐसा साहसी कदम उठाना बस में बैठे लोगों के मुंह पर बड़ा तमाचा था और तभी से शुरू हुआ शालिनी के आईपीएस बनने का सफर।

IPS शालिनी अग्निहोत्री

शालिनी अग्निहोत्री (Shalini Agnihotri) हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के ऊना के ठठ्ठल गांव की रहने वाली है। उनके पिता एचआरटीसी में बस कंडक्टर का काम करते है। शालिनी के घर में उनसे पहले कोई उच्च शिक्षा नहीं प्राप्त किया था। इसलिए उनके परिवार में ऐसा कोई नहीं था जो उन्हें आगे की पढ़ाई का मार्ग दिखा सके। फिर भी उनके माता-पिता ने शिक्षा के महत्व को समझते हुए शालिनी के सपनों का सम्मान किया। अपनी बेटी का हमेशा साथ देते हुए उन्होंने शालिनी को कभी किसी चीज की कमी नहीं होने दी। माता-पिता का साथ ही शालिनी का सबसे बड़ा साहस था।

शालिनी अग्निहोत्री की शिक्षा

शालिनी अग्निहोत्री (Shalini Agnihotri) की प्रारंभिक शिक्षा एक धर्मशाला से हुई। आगे की पढ़ाई वह हिमाचल प्रदेश एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी से की। 12 वीं के बाद शालिनी को पता चला कि एक अधिकारी बनने के लिए UPSC की परीक्षा पास करनी पड़ती है। आगे वह ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी कर UPSC की तैयारी करने लगी।

Credit-Internet

2012 में शालिनी ने यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा पास किया जिसमें वह 285वीं रैंक हासिल की। दिसंबर 2012 में उनकी ट्रेनिंग की शुरुआत हुई जिसमें शालिनी टॉपर रहीं। ट्रेनिंग में टॉप करने के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ ट्रेनी का खिताब भी मिला। इतना ही नहीं आगे उन्हें सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर ट्रेनी ऑफिसर बनने के लिए देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा सम्मानित भी किया गया। जब उनकी पोस्टिंग कुल्लू में हुई तब वह नशे के अवैध कारोबार के खिलाफ कार्यवाही की और उसपर रोक लगाने में कामयाब हुई। अपनी इस कामयाबी का श्रेय शालिनी अपने माता-पिता को देती हैं। जिस तरह से शालिनी ने विषम परिस्थितियों और संघर्षों का सामना कर अपने हौसले को उड़ान दिया वह प्रेरणादायक है। एक बस कंडक्टर की बेटी होते हुए भी IPS बनकर अपने परिवार को गौरवान्वित किया। साथ हीं समाज के हित के लिए कदम बढ़ाया, इसके लिए The Logically, Shalini Agnihotri को सैल्यूट करता है।

Anita Chaudhary
Anita is an academic excellence in the field of education , She loves working on community issues and at the same times , she is trying to explore positivity of the world.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

नौकरी छोड़ मशरूम से 5 करोड़ का सालाना आय करती हैं उत्तराखंड की मशरूम गर्ल, राष्ट्रपति भी सम्मानित कर चुके हैं

हमारे देश में लोग रोजगार पाने हेतु अपने राज्य को छोड़कर दूसरे राज्य में निकल पड़ते हैं। गरीब परिवार के लोग नौकरी की तलाश...

इंजीनियरिंग के बाद नौकरी के दौरान पढाई जारी रखी, 4 साल के अथक प्रयास के बाद UPSC निकाल IAS बने

आज हमारे देश में कई बच्चे पढ़ाई के दम पर ऊंचे मुकाम हासिल कर रहे हैं। वे यूपीएससी की तैयारी कर लोक सेवा के...

पुलवामा शहीदों के नाम पर उगाये वन, 40 शहीदों के नाम पर 40 हज़ार पेड़ लगा चुके हैं

अक्सर हम सभी पेड़ से पक्षियों के घोंसले को गिरते तथा अंडे को टूटते हुए देखा है। यदि हम बात करें पक्षियों की संख्या...

ईस IAS अफसर ने गांव के उत्थान के लिए खूब कार्य किये, इनके नाम पर ग्रामीण वासियों ने गांव का नाम रख दिया

ऐसे तो यूपीएससी की परीक्षा पास करते ही सभी समाज के लिए प्रेरणा बन जाते है पर ऐसे अफसर बहुत कम है जिन्होंने सच...