Wednesday, April 21, 2021

SWAN के जरिये युवाओं को स्किल ट्रेनिंग देकर रोजगार से जोड़ रही हैं मेघना जोशी, आप भी जुड़ सकते हैं इस पहल से

युवा का विपरीत होता है वायु जिसे रोका नही जा सकता युवाओ में ऊर्जा, साहस, उत्साह व विश्वास भरपूर होता है आज का युवा उम्मीदों से पूर्ण है वह भी सपने सँजोना जानता है वह देश की प्रगति में अपना योगदान देकर देश का मान आगे बढ़ाना चाहता है। आपको पता है भारत विश्व का एक ऐसा राज्य है जिसमे सर्वाधिक युवा रहते है भारत की जनसंख्या की 65% आबादी 35 वर्ष से कम आयु वर्ग की है। भारत देश को युवाओं का देश कहा जाए तो यह गलत नही होगा। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि भारत मे नेशनल सैंपल सर्वे के अनुसार भारत में कामकाजी उम्र के 470 मिलियन लोगों में से केवल 10% ही औपचारिक प्रशिक्षण या कुशल रोजगार के अवसर प्राप्त करते हैं। जिस वजह से बाकी अपनी मनचाही नॉकरी नही कर पाते ऐसे में SWAN एक अच्छी पहल है जोकि युवाओं को कौशल सीखा उन्हें आत्मनिर्भर बना रही है आइए पढ़ते है पूरी कहानी।

SWAN से तात्पर्य है (Skilled Workforce Advancing Nation) स्वान का हिंदी में अर्थ है एक पक्षी जैसे हंस जिसका वैज्ञानिक नाम साइग्नस है यह ज्ञान प्रदान करने का प्रयास करता है, जो शिक्षा की अधिष्ठात्री देवी, देवी सरस्वती से जुड़ा हुआ है। जोकि अपनी सहज , उड़ान, बुद्धिमत्ता के लिए मानी जाती है और हमे ऊंचाइयों को प्राप्त करने की क्षमता प्रदान करती हैं व उच्च लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरणा प्रदान करती हैं।

SWAN की संस्थापक है मेघना जोशी(Meghna Joshi) उन्होंने बिजनेस इकोनॉमिक्स में स्नातक की डिग्री हासिल की। स्वान की स्थापना नई दिल्ली में जनवरी 2020 को हुई मेघना कहती हैं, “हम समाज के आर्थिक रूप से कमजोर व गरीब युवाओं को जिनकी उम्र 18 से 30 वर्ष तक है उनको कौशल विकास और उनके व्यक्तित्व में सुधार लाने के लिए एक गुणवत्ता पूर्वक प्रशिक्षण प्रदान करते है साथ ही तुम सब कर सकते हो यह हौसला भी उनमें जगाते है।”

SWAN का लक्ष्य है कि युवाओं को शिक्षा के साथ-साथ कौशल विकास व परंपरागत हुनर के अनुरूप रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जाएं जिससे युवा अपने हुनर में दक्षता हासिल कर रोजगार प्राप्त कर सकते हैं तथा स्वयं का रोजगार भी स्थापित कर अपने परिवार का पालन पोषण बेहतर ढंग से कर सकेंगे और दूसरों को भी रोजगार दे सकेंगे। जिससे देश का युवा आगे बढे तरक़्क़ी करे इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा और देश तरक्की की और अग्रसर होगा।

कोरोनकाल में जहाँ एक ओर सभी स्कूल, कॉलेज यूनिवर्सिटीस बन्द थे बहुत से लोगो को अपनी नॉकरी जाने का खतरा था तो वही काफी लोग अपने भविष्य को लेकर चिंतित थे ऐसे में मेघना जी ने टारगेट ग्रुप के लोगो को ऑनलाइन ही सिखाया जिसमे उनकी मदद की उनके गुरु श्री विजय प्रताप सिंह आदित्य, ने जो ‘एकगांव’ के सीईओ और संस्थापक है मेघना जोशी बताती है कि उनके गुरु जी ने पूरे लॉकडाउन की अवधि के दौरान SWAN को आगे बढ़ाने में काफी मदद की।


यह भी पढ़े :- गरीब और जरूरतमन्दों के लिए शुरू की प्रेरणा बुक बैंक, 65 शाखाओं में है 3.5 लाख किताबें जो मुफ्त में दिए जाते हैं


SWAN विभिन्न ट्रेडों में ट्रेनिंग देकर युवाओं को प्रशिक्षित कर रहे हैं। मुख्य रुप से स्किल सैंटर में क्रिएटिव क्रॉफ्ट , रिटेल सैल्स एसोसिएट ट्रैनिंग, रिटेल बाजार में सहयोग, स्टोर्स व ग्राहक प्रबंधन, ग्राहक सेवाए, विजुअल मर्चेडाईज़िंग, इंटरव्यू की तैयारी, इंग्लिश बोलचाल के तरीके, पर्सनैलिटी डेवेलपमेंट व टीमवर्क ट्रेनिंग का प्रशिक्षण दिया जाता है। SWAN का उद्देश्य युवाओं का स्किल डिवेलपमेंट की ओर ध्यान केंद्रित करना है क्योंकि आज सभी तरह के उद्योगों में स्किल डिवेलपमेंट की अत्यंत आवश्यकता है। मेघना जोशी बताती है कि काम इतना आसान नही था पर ट्रेनिंग के बाद युवाओ के चेहरे की मुस्कान व उनमे सब कुछ कर गुजरने की हिम्मत एक नए हौसले को जन्म देती है जिससे और अधिक बेहतर तरीके से काम कर पाते है हम सब।

वह लॉकडाउन के बाद से युवाओं के साथ ऑनलाइन कार्यशाला सत्र आयोजित करके वस्तुतः इन कार्यों को अंजाम दे रही है जिससे युवा घर बैठे ही कई तरह के हुनर सीख पा रहे है युवाओ को ट्रेनिंग देने के बाद वह प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी देते है जिसमे ऑफिस में इंटर्नशिप होती है इसमें वह ई कॉमर्स में कंप्यूटर पर बिल बनाना, स्कैनिंग व कार्ड स्वाइप मशीन का कैसे इस्तेमाल होता है आदि सीखते है उन्हें अलग अलग कोर्स में अलग अलग तरह से ट्रेनिंग दी जाती है।

The Logically से बात करते समय मेघना आगे बताती है हमारा दृढ़ विश्वास है कि एक बड़ी, शिक्षित, कुशल और युवा आबादी भविष्य में राष्ट्र के विकास और लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक मूल्यवान संपत्ति साबित होगी। हमने संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) -2030 के बाद तकनीकी, व्यावसायिक शिक्षा प्रशिक्षण (टीवीईटी) पर दिल्ली एनसीआर में युवाओं के कौशल उन्नयन में एक चुनौती के रूप में लिया है, जिससे वह देश के युवाओं के कौशल में विकास कर देश को आर्थिक व अर्थव्यवस्था के रुप में आगे बढ़ाने का बेहतर काम कर रहे है।

मेघना जोशी(Meghna Joshi) कहती है यह तो बस शुरुआत है हमें अभी तो बहुत कुछ करना है वह आने वाले दिनों में कैंपस अम्बेसडर प्रोग्राम व तरह तरह के कौशल प्रशिक्षण कोर्स तैयार करने वाली है इसके लिए हम सब उन्हें बधाई देते हैं। सच मे मेघना जी हम सभी लोगो को बहुत प्रभावित करती है व हमें प्रेरणा देती है। हम आपके प्रयासो की सराहना करते है और आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते है।
मेघना जोशी से आप फेसबुक पर भी जुड़ सकते है !

Facebook page : @swanlivelihood
वेबसाइट : www.swanlivelihood.co.in

Anu Gangwal
दिल्ली विश्वविद्यालय से एम ए और ट्रांसलेशन कर चुकी है अनु साहित्य में विशेष रुचि रखती हैं। इनकी रचनाएँ विभिन्न पत्र पत्रिकाओं तथा वेबसाइटों पर प्रकाशित होती रहती हैं। वर्तमान में फ्रीलांसर राइटर, एडिटर, प्रूफरीडर तथा ट्रांसलेटर का कार्य कर रही हैं।

सबसे लोकप्रिय