Thursday, October 28, 2021

एसिड अटैक सर्वाइवर्स ने खोला खुद का सुपरमार्केट, सैकडों पीड़ितों को रोजगार से जोड़ने की हुई शुरुआत

हमारे समाज में महिला अगर किसी पारंपरिक रीति रिवाज या फिर किसी बात को मानने से इंकार करती है तो उसके साथ जो व्यवहार किया जाता है वह गलत होता है। इस आधुनिक युग में भी महिलाओं को और उनकी सोंच को उतनी इज्जत नहीं दी जाती, जितना मिलनी चाहिए। बात अगर एसिड अटैक पीड़ितों की हो तो यह बहुत गलत है। उनकी जिंदगी बहुत हीं दर्दनाक हो जाती है जिससे कई एसिड अटैक से पीड़ित महिलाओं को जिंदगी जीना दुर्लभ सा लगता है ऐसे में आज एक ऐसे ही “एसिड अटैक सर्वाइवर्स” को काम देने वाले फाउंडेशन और क्राउड फंडिंग के बारे में बात करेंगे जिन्होंने “एसिड अटैक सरवाइवर” के लिए एक सुपरमार्केट खोला है।

आए दिन हम यह सुनते हैं कि हमारे यहां एसिड अटैक छेड़-खानी, रेप जैसी समस्याएं सामने आती रहती हैं। इस कारण कुछ महिलाओं की मौत हो जाती है, कुछ बच भी गईं तो उन्हें बहुत कम लोग हैं जो अपनाते हैं। अच्छे वह नही हैं जो इन्हें देख मजाक उड़ाते हैं, जो इनका कदर करता है वहीं सबसे अच्छा होता है। वैसे यह घटनाएं किसी के साथ हो सकती हैं। प्राकृतिक ने हमें अगर इस धरती पर लाया है तो ऐसा कुछ जरूर करना चाहिए जिससे लोगों का हम सम्मान प्राप्त कर सके ना कि असम्मान। अच्छे लोग वो हैं जो इन्हें अपनाकर उनकी जिंदगी सवार देते हैं।

मुंबई का “साहस फाउंडेशन”

सुपरमार्केट के बारे में सभी जानते हैं। वहां जाने के बाद हम अपने जरूरत की सारी चीज़ें एक बड़े से मॉल में मिल जाती है। वैसे तो हम वहां अपने जैसे सामान्य व्यक्तियों को ही पातें हैं। लेकिन मुंबई(Mumbai) के बांद्रा(Bandra) में एक सुपरमार्केट खुला है जहां केवल “एसिड अटैक सर्वाइवर” ही काम करते हैं। सुपर मार्केट का निर्माण क्राउड फंडिंग के माध्यम से हुआ है। इसका साथ “साहस फाउंडेशन” भी दे रहा है। साहस फाउंडेसन एक NGO है।

फाउंडेशन की शुरुआत

2016 में साहस फाउंडेशन को “एसिड अटैक सर्वाइवर” दौलत बी. खान ने बनवाया और अब 4 साल बाद उन्होंने सुपरमार्ट मार्केट की स्थापना कर, एसिड अटैक के कारण बेरंग हुए लोगों की जिंदगी में रंग भर रहे हैं। यह फाउंडेशन लगभग 100 लोगों की सहायता करने में लगा है। इन्होंने इन लोगों की मदद के लिए किराए पर जगह लेकर इस मार्केट को खोला है और वह इसे और भी बड़ा करना चाहती हैं।


यह भी पढ़े :- जिन्हें अपनों ने छोड़ दिया उसे इस आश्रम ने पनाह दे दी, गुरु वृधा आश्रम में 200 से भी अधिक लोग रहते हैं


देश को मिलेगा सन्देश

इनका कहना है कि प्रथम बार एसिड अटैक सर्वाइवर को मौका मिला है। इन्होंने फण्ड को एकत्रित कर सुपरमार्केट की शुरुआत की हैं। इनका मानना है कि देश मे इसका अच्छा संदेश जाएगा और देश के अन्य जगहों पर ऐसे कार्य किए जा सकेंगे जिससे एसिड अटैक पीड़िताओं की जिंदगी संवारी जाए।

एसिड अटैक पीड़ितों की मदद करने और उन्हें कार्य देने के लिए The Logically साहस फाउंडेशन और क्राउड फंडिंग देने वालों को नमन करता है।